टीचर ने पहली कक्षा के छात्र का सर फोड़ा

बिलासपुर । बिलासपुर के एक स्कूल से हैरान करने वाली तस्वीर सामने आई है। यहां शिक्षा के मंदिर को शर्मसार करते हुए एक स्कूल टीचर ने अपनी हैवानियत से सबको हैरान कर दिया है । एक 6 साल के मासूम के साथ हैवान की तरह पेश आने वाले इस स्कूल शिक्षक का वैसे ही दागदार इतिहास रहा है । बिलासपुर के बन्नाकडीह  शासकीय पूर्व प्राथमिक शाला में पढऩे वाले पहली कक्षा के छात्र राज बंजारे को मामूली बात पर शिक्षक यू एल डांग ने ना सिर्फ पीटा बल्कि गुस्से के मारे छात्र को उठाकर टेबल पर पटक दिया। जिससे पहली कक्षा के  6 वर्षीय छात्र राज बंजारे का सर फूट गया और खून की धारा बह निकली। लेकिन हैवान शिक्षक को इस मासूम पर जरा भी रहम नहीं आया।  इस प्राइमरी स्कूल के अन्य छात्रों और शिक्षकों का कहना है कि यू एल डांग स्वभाव से गुस्सेल और बच्चों के साथ मारपीट करने वाला व्यक्ति है। पूर्व में भी उसने कई बार इसी तरह की हरकत की है लेकिन उस पर किसी तरह की कार्यवाही ना होने से उसके हौसले बढ़ चुके हैं।
चोट खाने के बाद लहूलुहान राज बंजारे अपने घर लौटा तो उसकी आपबीती सुनकर परिजनों ने इस मामले की शिकायत सिरगिट्टी थाने में दर्ज कराई । हैरान करने वाली बात यह है शिक्षा विभाग ने स्पष्ट तौर पर निर्देश दिया है कि स्कूल में किसी भी बच्चे को किसी तरह की सजा ना दी जाए और ना उन्हें प्रताडि़त किया जाए और ना ही उनके साथ मारपीट की जाए। लेकिन फिर भी कुछ शिक्षकों के कान पर जूं नहीं रेंग रही। ऐसे शिक्षक बच्चों के साथ बेहद बेरहमी से पेश आ रहे हैं जिनके चलते शिक्षा का मंदिर लगातार कलंकित हो रहा है।  जब जब इस तरह की घटनाएं सामने आती है तब तब इसका दुष्प्रभाव बाल मनोविज्ञान पर तो पड़ता ही है साथ ही साथ अभिभावक भी बच्चों को स्कूल भेजने में से डरने लगते हैं। इसलिए शिक्षा विभाग को चाहिए कि कानून तोडऩे वाले ऐसे शिक्षक पर तुरंत कार्यवाही कर उन्हें न सिर्फ स्कूल से हटाया जाए बल्कि नौकरी से भी बर्खास्त किया जाए ताकि दूसरे शिक्षक भी इससे सबक ले सकें।  देखना होगा इस मामले में पुलिस और शिक्षा विभाग क्या कार्यवाही करती है। फिलहाल इस घटना के बाद से अभिभावक बेहद आक्रोशित है और पूरे स्कूल में दोषी शिक्षक को लेकर भी वातावरण गर्म आ गया है।

Rate this item
(0 votes)

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

फेसबुक