newscreation

newscreation

नई दिल्ली। युवा बल्लेबाज रोबिन उथप्पा पिछले काफी समय से टीम से बाहर हैं पर उन्होंने उम्मीदें नहीं छोड़ी हैं। उथप्पा अभी एक और विश्वकप खेलना चाहते हैं। इसके साथ ही वह ‘फिनिशर’ के तौर पर टी20 टीम में वापसी करना चाहते हैं। उथप्पा एकदिवसीय विश्व कप 2007 की टीम में शामिल थे और पहले पहले टी20 विश्व कप की विजेता टीम का भी हिस्सा थे। उन्होंने भारत की तरफ से अपना आखिरी मैच जुलाई 2015 में जिम्बाब्वे दौरे में खेला था। उथप्पा ने कहा, ‘‘अभी मैं प्रतिस्पर्धी बनना चाहता हूं। अब भी मेरे अंदर यह जज्बा है। मैं वास्तव में खेलना चाहता हूं और अच्छा प्रदर्शन करना चाहता हूं। मैं पूरी ईमानदारी से यह मानता हूं कि मैं अभी एक विश्व कप में खेल सकता हूं। इसलिए मैं इसके लिये अपने को तैयार रख रहा हूं।’’वह हालांकि जानते हैं कि इसके लिये उन्हें भाग्य की भी जरूरत पड़ेगी। उथप्पा ने कहा, ‘‘भाग्य भी आपके साथ होना चाहिए। यह अहम भूमिका निभाता है। विशेषकर भारत में इसकी भूमिका स्पष्ट होती है। विदेशों में यह बहुत अधिक महत्व नहीं रखता पर उपमहाद्वीप विशेषकर भारत में जहां इतनी अधिक प्रतिभा है, यह महत्वपूर्ण बन जाता है।’’उन्होंने कहा, ‘‘आप कभी अपने को बेकार नहीं मान सकते। विशेषकर तब जबकि आप मानते हैं कि आपके पास क्षमता है और और अवसर बन सकता है। जब ऐसा मौका है मैं क्रिकेट खेलना जारी रखूंगा। ’’उथप्पा ने कहा, ‘‘मैं अब भी मानता हूं कि चीजें मेरे अनुकूल हो सकती हैं और मैं विश्व कप विजेता टीम का हिस्सा बन सकता हूं और उसमें अहम भूमिका भी निभा सकता हूं।’’

लंदन। इंग्लैंड के विकेटकीपर बल्लेबाज जोस बटलर ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण आईपीएल का आयोजन नहीं होना एक प्रकार की असफलता ही रहेगा। इसलिए इसका आयोजन जरुर होना चाहिये। बटलर को उम्मीद है कि ग्लैमर से भरा यह टूर्नामेंट इस साल बाद में समय मिलने पर आयोजित किया जाएगा। राजस्थान रायल्स के लिए खेलने वाले बटलर ने कहा, ‘‘ मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि आईपीएल कब खेला जाएगा या स्थगित होगा। अभी कुछ भी तय नहीं है क्योंकि कोई नहीं जानता कि यह (कोविड-19 का प्रकोप) कब तक चलेगा। इसलिए अभी यह तय नहीं किया जा सकता कि टूर्नामेंट का आयोजन होगा या नहीं।’’ बटलर सीमित ओवरों के क्रिकेट में बड़े खिलाड़ी के तौर पर उभरे हैं। उन्होंने कहा कि आईपीएल नहीं होने पर खिलाड़ियों के साथ ही इससे जुड़े सभी लोगों को राजस्व का नुकसान उठाना पड़ेगा। उन्होंने कहा, ‘‘ टूर्नामेंट को देखें तो यह काफी बड़ा आयोजन है। इसके अलावा आईपीएल में बहुत अधिक धनराशि लगी होती है। यह क्रिकेट की एक अहम प्रतियोगिता है और अगर टूर्नामेंट को आगे नहीं बढ़ाया गया तो यह बड़ी नाकामी होगी। इसे स्थगित कर बाद में आयोजित करने पर विचार किया जाना चाहिए।’’आईपीएल को हालांकि अगर बाद में आयोजित किया जाता है तो द्विपक्षीय प्रतिबद्धताओं के कारण कुछ शीर्ष खिलाड़ी इस टूर्नामेंट में भाग नहीं ले पाएंगे।

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिये देश भर में लागू लाक डाऊन से आम आदमी की सुविधाओं के लिये प्रशासन, राजनैतिक दल, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ तथा अन्य संस्थाएं, लोग कार्य कर रहे हैं। लेकिन लगातार लोगों के घरों में बन्द रहने , काम धन्धा प्रभावित होने का असर गायों के साथ अन्य जीव जन्तुओं पर भी पड़ा है। सडकों पर बेसहारा घूमती गायों की सेवा ,उनकी देखभाल का बीड़ा शहडोल , अनूपपुर , सतना , बुरहानपुर, ग्वालियर,जबलपुर जिले में कार्यरत सतगुरु मिशन की विशेष इकाई धेनु सेवा संस्थान के लोगों ने उठाया है।
   प्राप्त जानकारी के अनुसार आनंद मिश्रा के साथ संस्था के अन्य सदस्यों ने गायों के साथ अन्य जीवों की सेवा वर्षों से कर रहे हैं। लाकडाउन के दौरान इस संस्था ने गायों तथा अन्य जीवों को भोजन, पानी , प्राथमिक चिकित्सा के साथ आवश्यकता के अनुरुप उनके रहने की व्यवस्था भी कर रहे हैं। कई अवसरों प बनर यह संस्थान वाहन दुर्घटना मे घायल गायों कॊ भी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवा चुकी है।
   सतगुरु परिवार के सदस्यों द्वारा नि: स्वार्थ भाव से गायों की सेवा सुश्रुवा करते हुए जो लोग देखते हैं या जिन्हे इसकी जानकारी है, आवश्यकता के अनुरुप वे स्वत: संस्थान के लोगों से मदद लेते रहते है। जीवों के प्रति  ऐसी नि: स्वार्थ सेवाभाव सचमुच सराहना का कार्य है।

भारत के हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के निर्यात पर मुहर लगाते ही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के सुर बदल गए हैं। ट्रंप ने प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ की है। उन्होंने कहा है- मोदी महान हैं, वह बहुत अच्छे नेता हैं।ट्रंप ने अमेरिकी न्यूज चैनल फॉक्स न्यूज ने बातचीत के दौरान कहा- नरेंद्र मोदी ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के मामले में हमारी मदद की है, वह काफी अच्छे हैं। डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि हम विदेश से कई दवाईयां मंगवा रहे हैं। इसमें भारत में बनाई जाने वाली हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवाइयां भी शामिल है। इसे लेकर मैंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी बात की थी।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने बातचीत में कहा कि भारत से अभी बहुत अच्छी चीजें आनी बाकी हैं। उन्होंने कहा कि अमेरिका ने कोरोना महामारी से लड़ने के लिए भारत से हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की 29 मिलियन डोज खरीदी है।

ट्रंप ने चैनल से बातचीत में कहा कि मैंने पीएम मोदी से पूछा था क्या वो हमें हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवाइयां देंगे? वो शानदार थे। बता दें कि हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन भारत में मलेरिया के इलाज की दवा है। भारत में मलेरिया के मामले हर साल बड़ी संख्या में आते हैं और यही वजह है कि भारत इसका सबसे बड़ा उत्पादक है। ये दवा इस वक्त एंटी-वायरल के रूप में इस्तेमाल हो रही है।

भारत ने मानवीय आधार पर हटाया प्रतिबंध
मंगलवार को ही सरकार ने इस दवा पर लगे निर्यात से आंशिक तौर पर प्रतिबंध हटाया है। विदेश मंत्रालय के अनुसार सरकार ने मानवीय आधार पर यह फैसला लिया है। ये दवाएं उन देशों को भेजी जाएंगी जिन्हें भारत से मदद की आस है। हालांकि घरेलू जरुरतें पूरी होने के बाद स्टॉक की उपलब्धता के आधार पर निर्यात किया जाएगा।

अमेरिका ने दी थी भारत को नतीजे भुगतने की धमकी
इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि यदि भारत अनुरोध के बावजूद अमेरिका को हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा के निर्यात की अनुमति नहीं देता है तो उन्हें हैरानी होगी। पिछले हफ्ते ट्रंप ने कहा था कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मदद मांगी है ताकि भारत अमेरिकी में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की बिक्री की इजाजत दे। इससे कुछ घंटे पहले ही भारत ने मलेरिया की इस दवा के निर्यात को प्रतिबंधित कर दिया था।

अमेरिका में कोरोना वायरस संक्रमण के रोगियों की बढ़ती संख्या के बीच उनके इलाज के लिए इस दवा के इस्तेमाल की इजाजत दी गई है। ट्रंप ने सोमवार को व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा, 'मुझे हैरानी होगी अगर वह (ऐसा) करेंगे, क्योंकि आप जानते हैं कि भारत का अमेरिका के साथ व्यवहार बहुत अच्छा रहा है।' मलेरिया के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन को कोरोना वायरस संक्रमण के इलाज में इस्तेमाल किया जा रहा है। ट्रंप ने कहा कि भारत कई वर्षों से अमेरिकी व्यापार नियमों का फायदा उठा रहा है, और ऐसे में अगर नई दिल्ली हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के निर्यात को रोकता है, तो उन्हें हैरानी होगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Pm Narendra Modi) कोरोना वायरस (Coronavirus) मामले पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए विपक्षी नेताओं से बातचीत कर रहे हैं। इस चर्चा में प्रधानमंत्री के साथ गृह मंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद हैं। पीएम मोदी के साथ बातचीत में उन सभी दलों के नेता शामिल हैं जिनके पांच से अधिक सांसद हैं। वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए पीएम मोदी भाजपा के अलावा कांग्रेस, डीएमके, एआईएडीएमके, टीआरएस, सीपीआईएम, टीएमसी, शिवसेना, एनसीपी, अकाली दल, एलजेपी, जेडीयू, एसपी, बीएसपी, वाईएसआर कांग्रेस और बीजेडी के सांसदों के साथ बातचीत कर रहे हैं।
इस कॉन्फेंस में विपक्षी दलों की ओर से लॉकडाउन को बढ़ाने, सांसद निधि को बढ़ाए जाने और मेडिकल इक्विपमेंट के लिए राज्य सरकारों को तुरंत आर्थिक मदद देने को लेकर बातचीत की जा रही है।
इससे पहले केंद्र सरकार ने एलान किया था कि सभी सांसदों के वेतन में एक साल के लिए 30 फीसदी की कटौती की जाएगी। इतना ही नहीं सांसद निधि भी 2 साल के लिए स्थगित करने की बात कही गई थी। सरकार ने वेतन में कटौती के लिए अध्यादेश भी जारी किया था।

भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते महीने देशभर में 21 दिन के लॉकडाउन का ऐलान किया, जोकि 14 अप्रैल तक जारी रहेगा।
लेकिन संभावना जताई जा रही है कि जिस तरह से देश में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। उस देखते हुए भारत में लॉकडाउन को और बढ़ाया जा सकता है। ऐसे में पुडुचेरी सरकार ने लॉकडाउन बढ़ाने के लिए सहमति दी है।
समचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी ने बुधवार को जानकारी दी है कि मेरी सरकार लॉकडाउन का विस्तार करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि कोरोनो वायरस संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए लोगों को खुद को आइसोलेट करना ही एकमात्र उपाय है।
देशभर में संक्रमित मरीजों की संख्या 5194 हुई
जानकारी के लिए आपको बता दें कि देश में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। बुधवार को केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से देश में कोरोना वारयस के मरीजों के आंकड़े जारी किए गए हैं।
जारी आंकड़ों के अनुसार, बीते 24 में घंटे में कोरोना वायरस संक्रमित के 773 नए मामले सामने आए हैं और 35 लोगों की मौत हुई है। इसी के साथ देशभर में संक्रमित मरीजों की संख्या 5194 हो गई। जिसमें से 4643 एक्टिव हैं, 401 लोग ठीक हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और 149 लोगों की मौत हो चुकी है।

पीएम नरेंद्र मोदी ने बुधवार को देश में कोरोना वायरस (COVID-19) की स्थिति को लेकर वीडियो कांफ्रेंस के जरिए उन पार्टी नेताओं से बातचीत की है जिनके पास लोकसभा और राज्यसभा को संयुक्त रूप से मिलाकर पांच सांसद हैं।
इन नेताओं ने बैठक में लिया हिस्सा
कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, टीएमसी नेता सुदीप बंद्योपाध्याय, शिवसेना नेता संजय राउत, बीजेडी नेता पिनाकी मिश्रा, एनसीपी नेता शरद पवार, समाजवादी पार्टी नेता राम गोपाल यादव, एसएडी नेता सुखबीर बादल, बीएसपी के एससी मिश्रा, वाईएसआरसीपी नेता विजय साई रेड्डी और मिथुन रेड्डी, जदयू नेता रेड्डी ने बैठक में हिस्सा लिया।
देशभर में संक्रमित मरीजों की संख्या 5194 हुई
बता दें कि देश में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। बुधवार को केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से देश में कोरोना वारयस के मरीजों के आंकड़े जारी किए गए हैं।
जारी आंकड़ों के अनुसार, बीते 24 में घंटे में कोरोना वायरस संक्रमित के 773 नए मामले सामने आए हैं और 35 लोगों की मौत हुई है। इसी के साथ देशभर में संक्रमित मरीजों की संख्या 5194 हो गई। जिसमें से 4643 एक्टिव हैं, 401 लोग ठीक हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और 149 लोगों की मौत हो चुकी है।

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिये देश भर में लागू लाक डाऊन से आम आदमी की सुविधाओं के लिये प्रशासन, राजनैतिक दल, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ तथा अन्य संस्थाएं, लोग कार्य कर रहे हैं। लेकिन लगातार लोगों के घरों में बन्द रहने , काम धन्धा प्रभावित होने का असर गायों के साथ अन्य जीव जन्तुओं पर भी पड़ा है। सडकों पर बेसहारा घूमती गायों की सेवा ,उनकी देखभाल का बीड़ा शहडोल , अनूपपुर , सतना , बुरहानपुर, ग्वालियर,जबलपुर जिले में कार्यरत सतगुरु मिशन की विशेष इकाई धेनु सेवा संस्थान के लोगों ने उठाया है।
   प्राप्त जानकारी के अनुसार आनंद मिश्रा के साथ संस्था के अन्य सदस्यों ने गायों के साथ अन्य जीवों की सेवा वर्षों से कर रहे हैं। लाकडाउन के दौरान इस संस्था ने गायों तथा अन्य जीवों को भोजन, पानी , प्राथमिक चिकित्सा के साथ आवश्यकता के अनुरुप उनके रहने की व्यवस्था भी कर रहे हैं। कई अवसरों प बनर यह संस्थान वाहन दुर्घटना मे घायल गायों कॊ भी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवा चुकी है।
   सतगुरु परिवार के सदस्यों द्वारा नि: स्वार्थ भाव से गायों की सेवा सुश्रुवा करते हुए जो लोग देखते हैं या जिन्हे इसकी जानकारी है, आवश्यकता के अनुरुप वे स्वत: संस्थान के लोगों से मदद लेते रहते है। जीवों के प्रति  ऐसी नि: स्वार्थ सेवाभाव सचमुच सराहना का कार्य है।

भोपाल। मध्यप्रदेश प्रदेश के संवेदनशील मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कर्मचारियों के हित मे न केवल स्वास्थ्य कर्मचारियों सहित समस्त कार्यरत कर्मचारियों को शासन की ओर से 50लाख का बीमा करनें के निर्णय का मध्यप्रदेश राज्य कर्मचारी संघ ने स्वागत किया है ।     
     स्वागत करने वाले माननीय रमेशचंद शर्मा,  विष्णु वर्मा, संतोष शर्मा , राजेंद्र शर्मा ,मुरारी लाल सोनी, दिलीप इंगले, मनोहर गिरी , हेमंत श्रीवास्तव ,मुकेश जैन , गोपाल सिंह ठाकुर , अश्विन सूर्यवंशी , संजय लमानीया, दिलीप उपाध्याय ,   गजेन्द्र नायक, गौरव सोनी , सत्यप्रकाश श्रोत्रिय , शिवराज सिंह रघुवंशी , किशोर सिंह ठाकुर ,हेमंत सराठे, राजेश पांडे समस्त पदाधिकारी राज्य कर्मचारी संघ है।

भोपाल.कोरोना वायरस (corona virus) के बढ़ते कहर को देखते हुए अब सरकार ने भोपाल (bhopal) और इंदौर (indore) शहर की सीमाओं को पूरी तरह सील करने का फैसला लिया है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) ने अफसरों को निर्देश दे दिया है. उन्होंने कहा है कि दोनों शहरों का बॉर्डर सील कर दिया जाए. वहां किसी भी तरह की आवाजाही पूरी तरह से रोक दी जाए.

मध्य प्रदेश और खासतौर से भोपाल-इंदौर में तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने और कड़े कदम उठाने का आदेश अफसरों को दिया है. उन्होंने संक्रमण रोकने के लिए सर्वे और कोरोना की जांच में तेजी लाने के लिए कहा है. उन्होंने कहा मध्यप्रदेश में कोरोना के संक्रमण को पूरी तरह से रोकना है और जो मरीज़ इसकी चपेट में आ गए हैं उन्हें वक्त पर इलाज देकर स्वस्थ करना हमारी प्राथमिकता है. शिवराज ने भीलवाड़ा और कर्नाटक की तारीफ करते हुए वहां का मॉडल एमपी में अपनाने के लिए कहा है. सीएम ने अधिकारियों से कहा है कि कोरोना की रोकथाम में अफसर अपनी पूरी ताकत झोंक दें.

भोपाल-इंदौर से आने वालों पर नज़र
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जनता से अपील की है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण रोकने के लिए कोरोना संबंधी जानकारी छुपाएं नहीं बल्कि बताएं ताकि समय पर इलाज किया जा सके. कोरोना संक्रमित व्यक्ति यह बताएं कि वो इस दौरान किससे मिले थे. उनके घर, परिवार और आस-पास यदि कोई व्यक्ति विदेश से आया हो तो उसकी जानकारी दें. यह भी जानकारी दें कि क्या कोई व्यक्ति इंदौर या भोपाल से आया है. अगर उसमें कोरोना के लक्षण दिखें तो तुरंत उसकी जांच करवाएं.


कितना तैयार है एमपी ?
सरकार का दावा है कि एमपी में कोरोना की जांच और इलाज की पर्याप्त व्यवस्था है. फिलहाल प्रदेश में 29 हजार टेस्टिंग किट उपलब्ध हैं. इनसे टेस्टिंग क्षमता 580 प्रतिदिन हो गई है. प्रदेश में रोज 5 हजार पीपीई किट्स आ रही हैं. आने वाले समय के लिए 50 हजार पीपीई किट्स का ऑर्डर दिया गया है. सरकार के पास दो लाख हाईड्रोक्सीक्लोरोक्वीन गोलियां स्टॉक में हैं. 77 हजार एन-95 मास्क और 6 लाख थ्री-लेयर मास्क फिलहाल उपलब्ध हैं.

Page 1 of 915

फेसबुक