अखिलेश का योगी पर हमला, बाबा मुख्यमंत्री को दो चीजें पसंद हैं, एक बुल और दूसरा बुलडोजर

हमीरपुर । समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि बुंदेलखंड की जनता भाजपा के खिलाफ इतने वोट डालेगी कि इनके वोटों पर बुलडोजर चल जाएगा। ‘समाजवादी विजय रथ’ से यात्रा पर निकले यादव ने कहा कि सरकार ने किसानों की आय दोगुनी करने का वादा किया था, लेकिन आय दोगुनी नहीं हुई, मंहगाई जरूर दोगुनी हो गई। यादव ने मुख्यमंत्री योगी पर निशाना साधकर कहा, हमारे बाबा मुख्यमंत्री को दो चीजें पसंद हैं, एक बुल और दूसरा बुलडोजर।पिछली बार बुलडोजर की कमान इनके हाथों में दे दी गई थी, लेकिन इस बार बुंदेलखंड की जनता ने तय कर लिया है कि बुलडोजर का स्टेरिंग वह अपने हाथ में रखकर भाजपा के खिलाफ इतने वोट डालेगी कि इनके वोटों पर बुलडोजर चल जायेगा। समझा जाता है कि बुल से यादव का अभिप्राय उन आवारा पशुओं से था जो किसानों की फसलों को नुकसान पहुंचा रहे हैं और बुलडोजर से उनका मतलब प्रदेश सरकार द्वारा अवैध संपत्ति पर बुलडोजर चलाने से था।
विजय रथ’ पर सवार यादव ने कहा, बुंदेलखंड की जनता ने भाजपा को बहुमत दिया लेकिन उसने आपके बहुमत का मजाक उड़ाया, आपके बहुमत को धोखा देने का काम किया है। भाजपा ने आपको मंहगाई , बेरोजगारी दी और बिजली के बिल मंहगे कर दिए। उन्होंने कहा कि पिछले चुनाव में बुंदेलखंड की जनता जितना समर्थन कर सकती थी उसने भाजपा का उतना समर्थन किया।बुंदेलखंड की जनता ने भाजपा के अलावा एक भी सीट किसी को नहीं जीतने दी लेकिन भाजपा ने उस बहुमत का मजाक उड़ाया है। जातीय जनगणना के मुद्दे पर सपा नेता ने कहा, आने वाले समय में संघर्ष दूसरे प्रकार का है। भाजपा पिछड़ों, दलितों को उनका हक नहीं देना चाहती, जातिगत जनगणना नहीं कराना चाहती। हम कहते हैं सब को उनका हक देना चाहिए, यही संविधान में लिखा है। कृषि कानून पर मोदी सरकार पर निशाना साधकर पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा,याद रखिए एक कानून से ईस्ट इंडिया कंपनी भारत में सरकार बन गई थी, और जो यह किसान विरोधी कानून लाया जा रहा है, अगर वह लागू हो गया,तब किसान अपने खेत में मजदूर बन जाएगा।
भाजपा ने किसान आंदोलन को खत्म करने के लिए गाड़ी में बैठकर किसानों को कुचल दिया। अगर यह तीन कृषि कानून पारित हुए,तब हमारे और आपके खेत छिन जाएंगे। सरकार द्वारा बनाए जा रहे रक्षा गलियारे पर सवाल उठाकर सपा अध्यक्ष ने कहा, इन्होंने आपसे रक्षा फैक्टरी लगाने का, रोजगार देने का वादा किया था, लेकिन कहीं कोई फैक्टरी लगी या किसी को रोजगार मिला? यह रक्षा गलियारा दिवाली के फुस्स सुतली बम की तरह निकला।

 

Rate this item
(0 votes)

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

फेसबुक