दुनिया

दुनिया (313)

वाशिंगटन । अमेरिका की मशहूर अभिनेत्री व गायिका मैडोना को उम्मीद है कि महत्वपूर्ण स्वरक्त चिकित्सा उन्हें एक रहस्यमय दर्द से उबरने में मदद मिलेगी। इसके लिए उन्हें पिछले महीने 'मैडम एक्स' के कार्यक्रमों की श्रृंखला को मजबूरन रद्द करना पड़ी। गायिका ने इस चिकित्सा प्रक्रिया की एक वीडियो को इंस्टाग्राम पर पोस्ट किया है। इसमें देखा जा सकता है कि मैडोना की दो जुड़वा बेटियां उनके बिल्कुल नजदीक खड़ी हैं।
इस उपचार में इंसान के शरीर से खून को पहले बाहर निकालाकर उसमें गैस को मिलाया जाता है। फिर ड्रिप के सहारे इसी खून को नसों में फिर से प्रविष्ट कराया जाता है। मैडोना को उम्मीद है कि इस उपचार प्रक्रिया से वह पुन: मैडम एक्स टूर' में हिस्सा ले सकेंगी, हालांकि वह बोस्टन और मैसाचुसेट्स के तीन कार्यक्रमों को पहले ही रद्द कर चुकी हैं और अब वह फिलाडेल्फिया में मेट्रोपॉलिटन ओपेरा हाउस और पेंसिलवेनिया में आयोजित कार्यक्रम में दोबारा हिस्सा लेंगी।इसके पहले मैडोना अपना ही पेशाब पीते हुए खुद का ट्रीटमेंट करती नज़र आई थीं। वीडियो में वह आइस बाथ टब से निकलने के बाद पहले वह अपने मौजे निकालती हैं और इसके बाद चाय के एक सफेद कप में एक पीले द्रव्य (पेशाब) को पीते नजर आती हैं,जो उनकी इस ट्रीटमेंट का एक हिस्सा है।

संयुक्त राष्ट्र ने मंगलवार को भारत के नागरिकता संशोधन विधेयक पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि उसकी एकमात्र चिंता यह है कि सभी देश गैर भेदभावकारी कानूनों का उपयोग करें।संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस के उप प्रवक्ता फरहान हक से जब विधेयक के पारित होने के बारे में संयुक्त राष्ट्र की प्रतिक्रिया के बारे में पूछा गया तब उन्होंने कहा कि जहां तक मुझे जानकारी है, यह कानून एक विधायी प्रक्रिया से गुजरेगा। हम इसपर कोई टिप्पणी नहीं करेंगे जबतक घरेलू विधायी प्रक्रिया को अंजाम नहीं दे दिया जाता।
उन्होंने अपने अपने साप्ताहिक ब्रीफिंग के दौरान कहा कि हमारी चिंता केवल यह सुनिश्चित करने की है कि सभी सरकारें गैर-भेदभावकारी कानूनों का दुरुपयोग करें।
बता दें कि सोमवार को लोकसभा ने नागरिकता संशोधन विधेयक को 311 मतों से पारित कर दिया था जबकि इसके विपक्ष में 80 वोट पड़े थे। इसमें अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान से आए हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई धर्मों के शरणार्थियों के लिए नागरिकता के नियमों को आसान बनाना है।
वर्तमान में किसी व्यक्ति को भारत की नागरिकता हासिल करने के लिए कम से कम पिछले 11 साल से यहां रहना अनिवार्य है। इस संशोधन के जरिए सरकार नियम को आसान बनाकर नागरिकता हासिल करने की अवधि को एक साल से लेकर छह साल करना चाहती है।
अगर यह विधेयक पास हो जाता है, तो अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश के सभी गैरकानूनी प्रवासी हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई भारतीय नागरिकता के योग्य हो जाएंगे। इसके अलावा इन तीन देशों के सभी छह धर्मों के लोगों को भारतीय नागरिकता पाने के नियम में भी छूट दी जाएगी। ऐसे सभी प्रवासी जो छह साल से भारत में रह रहे होंगे, उन्हें यहां की नागरिकता मिल सकेगी। पहले यह समय सीमा 11 साल थी।
 

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने ट्वीट करते हुए भारत की लोकसभा से पास हुए नागरिकता संशोधन विधेयक, 2019 का विरोध किया है। इससे पहले पाकिस्तान संसद द्वारा अनुच्छेद 370 को हटाए जाने पर अपनी भड़ास निकाल चुका है। अब उसने भारत सरकार के एक और फैसले का विरोध किया है। खान ने ट्वीट करते हुए मोदी सरकार और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर निशाना साधा है। उन्होंने आरोप लगाया है कि यह विधेयक दोनों देशों के बीच हुए समझौते का खिलाफ है।

 

 



पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने ट्वीट करते हुए कहा, 'मैं कड़े शब्दों में भारतीय लोकसभा के नागरिकता संशोधन विधेयक की निंदा करता हूं। यह न केवल अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार कानून का बल्कि पाकिस्तान के साथ हुए द्वीपक्षीय समझौते का भी उल्लंघन करता है। यह आरएसएस के हिंदू राष्ट्र की योजना का हिस्सा है जिसपर मोदी सरकार काम कर रही है।' 

बता दें कि इससे पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी करते हुए इस विधेयक का विरोध किया था। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने बयान में कहा था कि यह विधेयक दोनों देशों की बीच हुए सभी समझौतों का पूरी तरह से उल्लंघन करती है। यह खासतौर से अल्पसंख्यकों के अधिकारों और उनकी सुरक्षा के लिए चिंताजनक है।  

लोकसभा ने सोमवार को जो विधेयक पास किया है उसके तहत पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आने वाले हिंदू, बौद्ध, जैन, पारसी, सिख, ईसाई शरणार्थियों को अब भारत की नागरिकता मिलने में आसानी होगी। शाह का कहना है कि पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान इस्लामिक देश हैं इसलिए वहां पर मुस्लिम अल्पसंख्यक नहीं हैं। यह विधेयक लाखों करोड़ों शरणार्थियों को यातना से मुक्ति दिलाने का काम करेगा।

पाकिस्तान के लाहौर से वाघा रेलवे स्टेशन के बीच 22 साल बाद एक बार फिर 14 दिसंबर से ट्रेन चलेगी। इस ट्रेन में 181 यात्री सफर कर सकते हैं, जो पाकिस्तान और भारत सीमा पर हर शाम होने वाली फ्लैग सेरेमनी का लुत्फ उठा सकते हैं। पाकिस्तान रेलवे के मुख्य परिचालन अधीक्षक आमिर बलोच ने बताया कि ट्रेन के फिर से संचालन को लेकर सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। दो कोचों वाली इस ट्रेन की मरम्मत काम पूरा हो चुका है। यह ट्रेन दिनभर में चार चक्कर लगाएगी, जिसका किराया 30 रुपये होगा। 1997 तक लाहौर और वाघा स्टेशन के बीच इस ट्रेन का संचालन होता था।

लंदन । ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने आम चुनावों में भारतीय समुदाय को लुभाने के लिए अपनी गर्लफ्रेंड कैरी सायमंड्स के साथ प्रसिद्ध हिंदू मंदिर में दर्शन किए। इस दौरान जॉनसन ने नए भारत के निर्माण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ साझेदारी का संकल्प जताया। 31 वर्षीय सायमंड्स ने शनिवार को बोरिस जॉनसन के साथ  लंदन के उत्तर पश्चिम इलाके नेसडेन में पहला आधिकारिक चुनावी अभियान शुरू किया। दोनों प्रसिद्ध स्वामी नारायण मंदिर पहुंचे, जहां चटक गुलाबी रंग की साड़ी पहने सायमंड्स और जॉनसन ने अप्रवासी भारतीयों से मुलाकात की। इस दौरान, ब्रिटिश पीएम ने कहा कि मैं जानता हूं कि प्रधानमंत्री मोदी नए भारत का निर्माण कर रहे हैं। ब्रिटिश सरकार में हम इस प्रयास में उनका समर्थन करेंगे। जॉनसन की सत्तारूढ़ कंजरवेटिव पार्टी ओपिनियन पोल में विपक्षी लेबर पार्टी से आगे चल रही है। जॉनसन ने स्वामी नारायण मंदिर के बारे में कहा, यह मंदिर हमारे देश को हिंदू समुदाय द्वारा दिया गया सबसे महान उपहारों में से एक है। यह हम सभी के जीवन में सामुदायिक भावना को प्रबल करता है। आप महान धर्मार्थ कार्य कर समाज में काफी योगदान दे रहे हैं। लंदन और ब्रिटेन भाग्यशाली हैं।

लाहौर. आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के सरगना और मुंबई बम धमाकों के मास्टर माइंड हाफिज सईद (Hafiz Muhammad Saeed) के बेटे तल्हा सईद (Talha Saeed) को निशाना बनाकर हमला हुआ है. प्राप्त जानकारी के मुताबिक, पाकिस्तान के लाहौर में एक रैली के दौरान बम धमाका हुआ. सूत्रों के मुताबिक, इस धमाके में तल्हा सईद बाल-बाल बच गया है. पाकिस्तान ने इस हमले के लिए भारत की खुफिया एजेंसी रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (RAW) पर शक जताया है. हालांकि, भारत ने इसे सिरे तौर पर खारिज कर दिया है.
 ये घटना शनिवार की है. बताया जा रहा है कि तल्हा सईद टाउनशिप मोहम्मद अली रोड स्थित जामा मस्जिद अली-ओ-मुर्तजा में एक बैठक कर रहा था, तभी धमाका हुआ. इसके तुरंत बाद तल्हा को वहां से निकाल लिया गया. धमाके में एक लश्कर समर्थक के मारे जाने की खबर है, जबकि 6 लोग जख्मी बताए जा रहे हैं.

हालांकि, पाकिस्तानी मीडिया ने पहले इस गैस सिलेंडर में धमाका बताया था, लेकिन बाद में इसके बम धमाके की पुष्टि हुई.

तल्हा सईद हाफिज सईद का बड़ा बेटा है. हाफिज सईद के बाद वही लश्कर-ए-तैयबा को कमांड करता है. एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, भारत के खिलाफ आतंकी गतिविधियों की प्लानिंग को तल्हा सईद ही फाइनल करता है.

बता दें कि अमेरिका ने दुनिया में 'आंतकवाद के लिए जिम्मेदार' लोगों की सूची में भी हाफिज सईद का नाम शामिल किया है. उस पर एक करोड़ डॉलर का इनाम भी रखा गया है. हाफिज सईद अरबी और इंजीनियरिंग का प्रोफेसर भी रह चुका है. मुंबई आतंकी हमलों में हाफिज की भूमिका को लेकर भारत ने उसके खिलाफ इंटरपोल का रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी कर रखा है, वहीं अमेरिका ने उसे विशेष निगरानी सूची में रखा है.

 

न्यूयार्क । अपने नौसेना स्टेशन के बाहर हुई गोलीबारी की घटना के बाद अमेरिका ने सभी सैन्य ठिकानों को हाई अलर्ट पर रख दिया है। नॉर्थकॉम के नाम से पहचाने जाने वाले अमेरिका के नॉर्दर्न कमांड ने शनिवार रात को सभी सुरक्षा चेक प्वाइंट पर निगरानी बढ़ाने की एडवाइजरी जारी की है। यह भी पता चला है कि एफबीआई सऊदी अरब के कुछ सैन्य छात्रों की तलाश में है। पेंसाकोला में हुई गोलीबारी के बाद से ही ये छात्र गायब हैं। इन्हीं के एक साथी 21 साल के मोहम्मद सईद अल शरमानी नौसेना बेस पर फायरिंग करते हुए तीन लोगों को मार दिया था जबकि 12 लोग घायल हो गए थे। बाद में पुलिस ने उसे ढेर कर दिया था। जांचकर्ताओं ने इस मामले में 10 छात्रों को हिरासत में लिया था। बाद में इस संख्या को घटाकर छह बताया गया। प्रशासन ने इन छात्रों के नंबर का खुलासा नहीं किया है। मगर इनकी तलाश जारी है। यह नहीं बताया गया है कि ये छात्र खतरा पैदा कर सकते हैं या नहीं।

लंदन/इस्लामाबाद पाकिस्तान ने लंदन ब्रिज पर हमला करने वाले आतंकवादी उस्मान खान के पाकिस्तानी मूल के होने की खबरों का जोरदार खंडन किया था और भरपूर कोशिश की थी कि उस आतंकवादी का नाम उससे नहीं जुड़े। अब पता चला है कि उस्मान की लाश को चुपके से पाकिस्तान लाकर ही दफनाया गया है।

पीओके के कजलानी गांव में दफन
इस्लामाबाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा के अधिकारियों ने ब्रिटिश न्यूज चैनल स्काइ न्यूज से इस बात की पुष्टि की। अधिकारियों ने बताया कि यूके में कानूनी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद गुरुवार दोपहर 28 वर्षीय उस्मान का शव एक पैसेंजर प्लेन में लादा गया जो शुक्रवार सुबह पाकिस्तान पहुंचा। आतंकवादी उस्मान का शव पीओके के कजलानी गांव में जुम्मे के दिन दफनाया गया। कोटली जिले के इस गांव की आबादी 3 हजार है।

यूके में दफनाने का हुआ था विरोध
यूके में स्थानीय मुस्लिम समुदाय को कई लोग नहीं चाहते थे कि उसे स्टोक ऑन ट्रेंड स्थित कोब्रिज के मर्कजी जामिया गौसिया में दफनाया जाए। उस्मान का परिवार स्टोक ऑन ट्रेंट में ही रहता है। इस परिवार ने पिछले मंगलवार को कहा था कि उसने मेट्रोपॉलिटन पुलिस की ओर से जारी एक बयान में उस्मान की करतूतों की निंदा की है।

बर्मिंगम की मस्जिद में पूरी हुई जनाजे की रस्म
इससे पहले, उस्मान के चचेरे भाई ने भी स्काइ न्यूज से कहा था कि 'उस्मान के पिता और दूसरे करीबी रिश्तेदार उसके शव को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) स्थित पैतृक गांव में सुपुर्दे खाक करेंगे।' उसने बताया था कि परिवार उस्मान के शव को गुपचुप तरीके से दफनाने की फिराक में है। परिवार की इच्छा नहीं है कि उस्मान का शव यूके में दफन किया जाए। हालांकि, लाश को पाकिस्तान भेजने से पहले बर्मिंगम की एक मस्जिद में जनाजे की रस्म पूरी हुई जिसमें उसके गुनाहों के लिए अल्लाह से माफी मांगी गई।

पाकिस्तान सरकार ने बनाई थी उस्मान से दूरी
पाकिस्तान सरकार के मंत्री चौधरी फवाद हुसैन ने 1 दिसंबर को पाकिस्तानी अखबार डॉन न्यूज की इस बात के लिए लताड़ लगाई कि उसने उस्मान को 'पाकिस्तानी मूल' का बताया था। उसके अगले ही दिन गुस्साए लोगों की भीड़ अखबार के इस्लामाबाद स्थित दफ्तर पर धावा बोल दिया था। भीड़ ने दफ्तर की घंटों तक घेराबंदी कर रखी थी। फिर 6 दिसंबर को करीब 100 प्रदर्शनकारियों ने फिर से अखबार के दफ्तर को घेर लिया था।

अटलांटा ब्यूटी कॉन्टेस्ट मिस यूनिवर्स 2019 का खिताब इस बार साउथ अफ्रीका की जोजिबिनी टूंजी ने जीता है। अमेरिका के अटलांटा में आयोजित रंगारंग समारोह में मिस साउथ अफ्रीका को यह ताज पहनाया गया। 90 देशों की सुंदरियों ने इसमें हिस्सा लिया और कई राउंड तक चली प्रतियोगिता में मिस साउथ अफ्रीका ने सबको मात देकर खिताब अपने नाम कर लिया।

खुशी से छलके जोजिबनी के आंसू, जवाब से जीता सबका दिल
जैसे ही जोजिबिनी के नाम की घोषणा हुई, वह खुशी के मारे रो पड़ीं। स्टेडियम में मौजूद दर्शकों ने भी तालियों से उनका स्वागत किया। प्रतियोगित के सवाल-जवाब राउंड में अपने जवाब से उन्होंने जजों के साथ ही दर्शकों का भी दिल जीत लिया। सुंदरता का अर्थ क्या होता है के जवाब में उन्होंने कहा, 'मैं जिस स्किन कलर के साथ जिस देश में पैदा हुई वहां पारंपरिक अर्थों में मुझे सुंदर नहीं माना जाता था। मैं चाहती हूं कि यह खिताब जीतकर में लौटूं तो मेरे देश के बच्चे मुझे देखें और गर्व से भर जाएं। वो मुझमें अपना एक अक्स देखें।'

पारंपरिक दक्षिण अफ्रीकी परिधान में किया रैंप वॉक
जोजिबिनी टूंजी को जब क्राउन पहनाया गया उन्होंने गोल्डन रंग का खूबसूरत गाउन पहन रखा था। प्रतियोगिता के पहले राउंड में उन्होंने रैंप पर पारंपरिक दक्षिण अफ्रीकी परिधान में रैंप वॉक किया। इस प्रतियोगिता में भारत की ओर से वर्तिका सिंह ने हिस्सा लिया, लेकिन वह टॉप 10 में जगह बनाने में कामयाब नहीं हो सकीं।

वाशिंगटन । अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप जल संरक्षण को लेकर काफी गंभीर दिखते हैं, शुक्रवार को व्हाइट हाउस में उन्होंने कहा कि वह अमेरिकी शौचालयों में 10-15 बार ‘फ्लश’ करने की समस्या का संज्ञान ले रहे हैं और इससे अमेरिकियों को निजात दिलाना उनका लक्ष्य है। ट्रम्प ने एक उच्च-स्तरीय बैठक में कहा कि सरकार देश के स्नानगृहों एवं शौचालयों में पानी का प्रवाह तेज नहीं होने की समस्याओं को गंभीरता से देख रही है। राष्ट्रपति ट्रंप के जीवन का अधिकांश हिस्सा रियल एस्टेट सौदों और निर्माण कार्य के व्यवसाय में बीता है। उन्होंने कहा, ‘आप नल चालू करते हैं और आपको पानी नहीं मिलता है। वे स्नान करते हैं और पानी टपकता रहता है।’ ट्रंप ने कहा, ‘लोगों को एक बार की जगह 10-15 बार शौचालयों को फ्लश करना पड़ रहा है। नल से इतना कम पानी आ रहा है कि आप अपने हाथ भी ढंग से धो नहीं पाते।’ राष्ट्रपति ने कहा कि उन्होंने संघीय पर्यावरण प्राधिकरण (ईपीए) को पानी के उपयोग पर नियमों को आसान बनाने का निर्देश दिया था। उन्होंने रेगिस्तानी क्षेत्रों में जल संरक्षण की अपील की।

Page 1 of 23
Image

फेसबुक