स्पोर्ट्स

स्पोर्ट्स (249)

मुंबई. भारत और वेस्टइंडीज के बीच बुधवार 11 दिसम्बर को तीसरा और आखिरी टी20 मैच खेला जाना है. इस सीरीज के बाद दोनों टीमें वनडे सीरीज खेलेंगी, जिसका पहला मैच 15 दिसंबर को खेला जाएगा. इस बीच वनडे सीरीज से पहले टीम इंडिया को एक बड़ा झटका लग गया है. दरअसल, चोट की वजह से टी20 सीरीज नहीं खेल पाए शिखर धवन अब वनडे सीरीज से भी बाहर हो गए हैं. धवन की जगह मयंक अग्रवाल को टीम में शामिल किया गया है.

उल्लेखनीय है कि मयंक अग्रवाल को बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट सीरीज में किए गए बेहतरीन प्रदर्शन का ईनाम मिला है. मयंक ने पिछली दो टेस्ट सीरीज में लाजवाब प्रदर्शन किया है. उन्होंने पहले तो दक्षिण अफ्रीका और फिर बांग्लादेश के खिलाफ दोहरा शतक जड़ा था. रोहित शर्मा के साथ उनकी ओपनिंग जोड़ी कमाल की थी.

धवन के घुटने में है चोट

आपको बता दें कि शिखर धवन वेस्टइंडीज के खिलाफ टी20 सीरीज में भी नहीं खेल पाए थे, क्योंकि सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के दौरान धवन के घुटने में चोट लग गई थी. कयास तो ये लगाए जा रहे थे कि धवन वनडे सीरीज से भी बाहर हो सकते हैं और उनकी जगह संजू सैमसन और पृथ्वी शॉ को टीम में शामिल किया जा सकता है, लेकिन चयनकर्ताओं ने मयंक अग्रवाल के उपर भरोसा जताया है.

लंदन । पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर नासिर जमशेद पर पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) में कथित स्पॉट फिक्सिंग करने और उसके बदले रिश्वत लेने के मामले में मंगलवार को ब्रिटेन की एक अदालत में मुकदमा चलेगा। 36 साल के यूसुफ अनवर और 34 साल के मोहमद इजाज ने स्वीकारा था कि उन्होंने पेशेवर क्रिकेटरों को रिश्वत के बदले फिक्सिंग करने के प्रस्ताव दिए थे। मैनचेस्टर में यह ट्रायल प्रक्रिया होगी। दोनों आरोपियों को नवंबर 2016 और फरवरी 2017 के बीच पीएसएल में फिक्सिंग के बदले खिलाड़ियों को रिश्वत का प्रस्ताव देने के मामले में दोषी पाया गया है। अनवर और इजाज ने नवंबर 2016 और दिसंबर 2016 के दौरान बांग्लादेश प्रीमियर लीग में भी खिलाड़ियों को फिक्सिंग के बदले रिश्वत का प्रस्ताव देने का आरोप स्वीकार किया है। 33 वर्षीय सलामी बल्लेबाज़ जमशेद ने हालांकि पीएसएल में फिक्सिंग और उसके बदले रिश्वत के आरोपों से इंकार किया है।मैनचेस्टर क्राउन कोर्ट में इस मामले पर सुनवाई होगी। ब्रिटेन के निवासी अनवर वेस्ट लंदन के स्लाह के निवासी हैं जबकि इजाज लंदन के उत्तरी क्षेत्र शैफील्ड के रहने वाले हैं। दोनों को फिलहाल जमानत पर रिहा कर दिया गया है। जमशेद ने पाकिस्तान की ओर से टेस्ट, एकदिवसीय और ट्वंटी 20 अंतरराष्ट्रीय प्रारूप में खेला है।

टीम इंडिया और वेस्टइंडीज के बीच टी-20 की जंग रोचक हो गई है। दोनों टीमें एक-एक मुकाबला जीत चुकी हैं और बुधवार को वानखेड़े स्टेटियम में जो जीता वही सिकंदर होगा। यह वही मैदान जहां है तीन साल पहले वेस्टइंडीज क्रिकेट के इस छोटे प्रारूप में भारत का सफर थाम कर विश्व चैंपियन बना था। उसने टीम इंडिया को पहले सेमीफाइनल में सात विकेट से धोया उसके बाद फाइनल में इंग्लैंड को चार विकेट से हराकर दूसरी बार यह खिताब जीता था। उसके बाद से दोनों टीमें पहली बार इस मैदान पर आमने-सामने होंगी।अब देखना रोचक होगा कि कोहली एंड कंपनी उस हार का बदला चुका पाती है यह कैरेबियाई टीम एक और जख्म उसे देती है। भारत के लिए बल्लेबाजी कभी समस्या नहीं थी। ओपनर रोहित शर्मा पिछले दो मैचों में नाकाम रहे लेकिन अब घरेलू मैदान पर बड़ी पारी खेलना चाहेंगे। केएल राहुल और कोहली ने रन बनाए हैं। पहला टी-20 अर्द्धशतक बनाने वाले शिवम दुबे ने आक्रामक पारी खेली। टीम इंडिया को उनसे फिर बड़ी पारी की उम्मीद होगी।
वानखेड़े में अजेय है विंडीज
वेस्टइंडीज ने यहां दो मुकाबले खेले हैं और दोनों में शानदार जीत दर्ज की है। विंडीज ने 2016 विश्व कप के पहले मुकाबले में इंग्लैंड को छह विकेट से और फिर भारत को सात विकेट से धोया था।  
सुंदर या कुलदीप
भारतीय खेमे की नजरें युवा ऑफ स्पिनर वाशिंगटन सुंदर और खराब फॉर्म से जूझ रहे विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत लगी होगी। देखना यह है कि टीम प्रबंधन सुंदर को उतारता है या चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव को मौका मिलता है। सुंदर ने पिछले पांच टी20 मैचों में सिर्फ विकेट जड़े हैं। उसने वेस्टइंडीज के खिलाफ दो और बांग्लादेश के खिलाफ तीन मैचों में 23 ओवरों में 144 रन दे डाले। कुलदीप ने आखिरी टी20 मैच हैमिल्टन में न्यूजीलैंड के खिलाफ फरवरी में खेला था। पहले दो मैचों में उन्हें टीम में जगह नहीं मिल सकी।
पंत के लिए मुश्किल हो रहे हालात
पंत के लिए हालात मुश्किल होते जा रहे हैं। धोनी के वारिस समझे जा रहे पंत के लिए अपेक्षाओं का दबाव सह माना मुश्किल हो रहा है। चौथे नंबर पर उतरकर पिछली सात टी-20 पारियों में उन्होंने नाबाद 33, 18, 6, 27,19, 4 रन बनाए हैं। उन्होंने आखिरी अर्द्धशतक अगस्त में वेस्टइंडीज के खिलाफ लगाया था। संजू सैमसन जैसे क्रिकेटरों से प्रतिस्पर्धा का सामना कर रहे पंत को समय रहते प्रदर्शन में सुधार करना होगा।
खराब फील्डिंग चिंता का विषय
कप्तान कोहली फील्डिंग को लेकर भी चिंतित होंगे। पिछले मैच में उसने लेंडल सिमंस का आसान कैच टपकाया जिसने 45 गेंद में 67 रन बनाकर वेस्टइंडीज की जीत की नींव रखी। भारतीय फील्डरों ने भी कई कैच टपकाए और फालतू रन दिए। कोहली ने कहा भी है कि अगर क्षेत्ररक्षण ऐसा रहा तो कोई भी स्कोर नाकाफी होगा। भारत की गेंदबाजी अभी भी चिंता का सबब है। दीपक चाहर और भुवनेश्वर कुमार ने पहले दो मैचों में रन दिए। चाहर बांग्लादेश के खिलाफ वाला फॉर्म नहीं दोहरा सके।
पोलार्ड और सिमंस का रास आता है वानखेड़े
विंडीज के ओपनर लेंडल सिमंस को यह मैदान काफी रास आता है। तीन साल पहले टीम को विश्व कप जीताने में उन्होंने अहम भूमिका निभाई थी। सिमंस, पोलार्ड और लुईस आईपीएल में मुंबई की ओर से खेलते हैं और उन्हें इस मैदान पर खेलने का अच्छा खास अनुभव है। निकोलस पूरन और हेतमायर ने भी पिछले दो मैचों में अच्छी पारियां खेली। गेंदबाजों में कॉर्टल को विकेट मिले हैं। केसरिक विलियम्स, लेग स्पिनर वाल्श और होल्डर को अनुशासित प्रदर्शन करना होगा।
दोनों टीमें
भारत: विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, लोकेश राहुल, संजू सैमसन, ऋषभ पंत, मनीष पांडे, श्रेयस अय्यर, शिवम दुबे, रविंद्र जडेजा, वाशिंगटन सुंदर, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, दीपक चाहर, भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद शमी।
वेस्टइंडीज:  किरोन पोलार्ड (कप्तान), फेबियन एलेन, ब्रैंडन किंग, दिनेश रामदीन, शेल्डन कॉटर्ल, इविन लुईस, शेरफाने रदरफोर्ड, शिमरोन हेतमायर, खारी पियरे, लेंडल सिमंस, जेसन होल्डर, हेडेन वॉल्श, कीमो पॉल, केसरिक विलियम्स।

उत्तर प्रदेश के मेरठ से निकलकर अब भारतीय अंडर-19 विश्व कप की टीम कप्तानी हासिल करने वाले प्रियम का सफर आसान नहीं रहा है। उन्हें ये सफलता काफी ज्यादा मेहनत के बाद प्राप्त हुई। 19 साल के सलामी बल्लेबाज प्रियम को ने लिस्ट ए क्रिकेट में शतक और प्रथम श्रेणी में दोहरा शतक भी लगाया है।  वह देवधर ट्रॉफी में उपविजेता रही भारत सी टीम का हिस्सा भी थे। उन्होंने गत माह भारत बी के खिलाफ फाइनल मैच में 74 रन की पारी खेली थी। इसके अलावा भारत दौरे पर आई अंडर-23 बांग्लादेश टीम के खिलाफ भारतीय अंडर-23 टीम की कप्तानी भी प्रियम गर्ग ने ही की।
प्रियम बचपन से ही भारतीय पूर्व बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर से खासा प्रभावित रहे हैं। 7 साल की उम्र में सचिन को बल्लेबाजी करता देखा उन्होंने क्रिकेटर बनने का मन बना लिया था। वहीं गरीबी के कारण प्रियम के पिता ने उन्हें क्रिकेट खेलने से मना किया। प्रियम के पिता जानते थे कि क्रिकेटर बनने के लिए जितने पैसों की जरूरत होती है वो वह नहीं दे पाएंगे। हालांकि, इसके बाद भी गर्ग ने खेलना जारी रखा, फिर प्रियम को मामा का साथ मिला। मामा ने प्रियम को मेरठ के विक्टोरिया स्टेडियम में कोचिंग दिलाई और इसके बाद प्रियम ने अपने बल पर एक नई पहचान हासिल की
प्रियम के पिता नरेश गर्ग घर का खर्च उठाने के लिए टैक्सी चलाते थे। उन्होंने अपने बेटे को कभी सपने पूरे करने के लिए नहीं रोका और प्रियम ने भी अपने खेल की बदौलत इस टीम में जगह बनाई। प्रियम ने टीम का हिस्सा बनना अपनी मां को डेडिकेट किया। उनकी मां का 8 साल पहले निधन हो गया था। 
कोच ने की तारीफ 
वहीं उनके कोच रस्तोगी ने कहा, ‘आने वाली पीढी के लिए यह बच्चा एक प्रेरणा है। प्रियम ने जो हासिल किया है, उससे साबित होता है कि लगन होने पर परेशानियां आड़े नहीं आती। घर की जिम्मेदारियों को समझते हुए इसने कम उम्र में खेल में भी परिपक्वता का परिचय दिया है जो काबिले तारीफ है।' भारतीय टीम के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार और प्रवीण कुमार जैसे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों के कोच रहे रस्तोगी ने कहा, ‘इसका खेल ऐसा है कि यह भारतीय सीनियर टीम में जरूर शामिल होगा। घरेलू टूर्नामेंटों में इसका प्रदर्शन बहुत अच्छा रहा और यह मेहनत से पीछे नहीं हटता।' 

दुनिया की सबसे बड़ी क्रिकेट लीग यानी आईपीएल के 2020 सीजन के लिए दिसंबर माह में होने वाली बोली के लिए खिलाडिय़ों की लिस्ट बाहर आ गई है। इस बार कुल सात खिलाड़ी ऐसे हैं जिनका बेस प्राइस सबसे ज्यादा यानी 2-2 करोड़ रुपए हैं। इनकी बेस प्राइज है सबसे ज्यादा 
नीलामी में इस बार इन खिलाड़ियो की बेस प्राइस सबसे ज्यादा है। सफल आस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज पैट कमिंस 2 करोड़ रुपए के बेस प्राइस के साथ सबसे पहले स्थान पर है। इस बार के आईपीएल 2020 की नीलामी में ऑस्ट्रेलिया के 55 खिलाड़ियों ने हस्ताक्षर किए हैं। वही दक्षिण अफ्रीका के स्टार डेल स्टेन, जिन्होंने पिछले सीजन में दो मैचों में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए खेला था और मौजूदा एमएसएल सीजन में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाजों की लिस्ट में भी शीर्ष ब्रैकेट में हैं, जबकि श्रीलंका के एंजेलो मैथ्यूज सूची में दूसरे खिलाड़ी हैं। बता दें, कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) ने अपनी टीम से रिलीज किए गए क्रिस लिन ने भी अपनी बेस प्राइस का मूल्य 2 करोड़ रुपए रखा है। ग्लेन मैक्सवेल, जोश हेजलवुड और मिशेल मार्श अन्य ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी हैं जिन्होंने भी अपना बेस प्राइस ज्यादा रखा है। 
पैट कमिंस 2 करोड़
जोश हेजलवुड 2 करोड़
क्रिस लिन 2 करोड़
मिशेल मार्श 2 करोड़
ग्लेन मैक्सवेल 2 करोड़
डेल स्टेन 2 करोड़
एंजेलो मैथ्यूज 2 करोड़
971 क्रिकेटरों पर बोली लगेगी 
आईपीएल के लिए 19 दिसंबर को कोलकाता में होने वाली खिलाड़ियों की नीलामी में 971 क्रिकेटरों पर बोली लगेगी जिनमें 713 भारतीय और 258 विदेशी खिलाड़ी होंगे। इनमें 215 खिलाड़ी ऐसे हैं जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं और 754 घरेलू क्रिकेटर जबकि एसोसिएट देशों के दो क्रिकेटर हैं । ऐसे में आस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क ने आईपीएल 2020 के लिए अपना नाम नीलामी से वापस ले लिया है। 
दरअसल, स्टार्क का कहना है की वो टेस्ट क्रिकेट पर अपना अधिक ध्यान लगाना चाहते हैं और राष्ट्रीय टीम में खेलने के लिए खुद को फिट रखना चाहते हैं। जिसके चलते उन्होंने आईपीएल 2020 से अपना नाम वापस ले लिया है। आपको बता दें कि इससे पहले स्टार्क पिछली बार साल 2015 में आईपीएल की रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर टीम से खेला था। जिसके बाद 2018 में आईपीएल की नीलामी में कोलकाता नाईट राइडर्स ने शामिल किया था मगर चोटिल होने के कारण वो पूरे आईपीएल में नहीं खेल पाए थे। 
गौरतलब है कि कैप्ड भारतीयों में 19 खिलाड़ी, अनकैप्ड भारतीय खिलाड़ियों  में 634 खिलाड़ी, अनकैप्ड भारतीय खिलाड़ियों ( जिन्होंने कम से कम एक आईपीएल मैच खेला है) में 60 खिलाड़ी, कैप्ड अंतररष्ट्रीय खिलाड़ियों में 196 खिलाड़ी और अनकैप्ड अंतररष्ट्रीय खिलाड़ियों में 60 खिलाड़ी शामिल हैं। फ्रेंचाइजी टीमों के पास खिलाड़ियों को शॉर्टलिस्ट करने के लिए नौ दिसम्बर शाम पांच बजे तक का समय रहेगा जो खिलाड़ियों की अंतिम नीलामी सूची में जगह बनाएंगे।

कप्तान विराट कोहली के रिकॉर्ड अर्द्धशतक से भारत ने वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज के पहले टी-20 में छह विकेट से जीत हासिल की। दूसरे मुकाबले में रविवार को भारतीय टीम गेंदबाजी और फील्डिंग में बेहतर प्रदर्शन कर सीरीज अपने नाम करने के इरादे से उतरेगी।टीम इंडिया ने पिछले माह बांग्लादेश को 2-1 से हराकर सीजन की पहली टी-20 सीरीज जीती थी। रविवार को जीत से न केवल घरेलू मैदान पर सबसे छोटे प्रारूप में लगातार दूसरी जीत दर्ज करने का मौका मिलेगा बल्कि अगले साल होने वाले टी-20 विश्व कप के लिए टीम संयोजन को लेकर प्रयोग करने का भी अवसर रहेगा। उन खिलाड़ियों को भी आजमाया जा सकता है जिनकी टीम में जगह पक्की नहीं है।

शुक्रवार को भारत ने वेस्टइंडीज के खिलाफ सातवीं जीत दर्ज की।भारतीय टीम ने टी-20 क्रिकेट में 18.4 ओवर में 208 रन का लक्ष्य हासिल किया जो इस प्रारूप में लक्ष्य का पीछा करते हुए उसकी सबसे बड़ी जीत है। लोकेश राहुल ने 40 गेंद में 62 रन बनाए जबकि विराट कोहली ने करिअर की सर्वश्रेष्ठ 94 रन की नाबाद पारी खेली। 

गेंदबाजी और फील्डिंग में सुधार जरूरी 

कोहली के नेतृत्व में बल्लेबाजों का प्रदर्शन अच्छा रहा लेकिन गेंदबाज अपेक्षाओं पर खरे नहीं उतर सके। एविन लुइस, शिमरोन हेतमायर और कप्तान किरोन पोलार्ड ने भारतीय गेंदबाजों को नहीं बख्शा। दक्षिण अफ्रीका और बांग्लादेश के खिलाफ प्रभावी रहे दीपक चाहर प्रभाव नहीं छोड़ सके। पेसर भुवनेश्वर और वाशिंगटन सुंदर को विकेट नहीं मिला। अब देखना यह है कि गेंदबाजी आक्रमण यथावत रहता है या कुलदीप यादव को उतारा जाता है। क्षेत्ररक्षण में भी सुंदर और रोहित शर्मा ने कुछ कैच टपकाए जबकि कई फालतू रन भी फील्ड में गए।

पोलार्ड भी गेंदबाजों पर बरसे 

दूसरी ओर कैरेबियाई टीम वापसी करके सीरीज को जीवंत बनाए रखना चाहेगी लेकिन इसके लिए उसे भारतीय बल्लेबाजों खासकर कोहली के बल्ले पर अंकुश लगाना होगा। वेस्टइंडीज ने 23 रन अतिरिक्त दिए और इस पर भी काबू करना होगा। वेस्टइंडीज के कप्तान किरोन पोलार्ड का भी मानना है कि टीम के बल्लेबाजों ने तो अच्छा प्रदर्शन किया है लेकिन गेंदबाज 200 से ज्यादा रन का बचाव नहीं कर पाए। गेंदबाजों के अनुशासित प्रदर्शन न कर पाने और योजनाओं को सही अमली जामा न पहनाने के कारण हमें हार का सामना करना पड़ा। हमने 23 अतिरिक्त रन दिए जिसमें 14 गेंदें वाइड थी।  

रोहित और कोहली के बीच अलग रेस 

भारतीय कप्तान विराट कोहली और ओपनर रोहित शर्मा के बीच रन बनाने को लेकर अलग रेस चल रही है। पिछले मैच में विराट ने अर्द्धशतक लगाकर 23वीं बार पचास से ज्यादा रन की पारी खेली। उन्होंने रोहित को पछाड़ा जिन्होंने 22 बार ऐसा किया है। जहां तक बात रन की है तो रोहित के 2547 रन हैं जबकि कोहली उनसे महज तीन रन दूर हैं। उनके 2544 रन हैं। इस मैच में देखते हैं हिटमैन रोहित आगे रहते हैं या रनमशीन कोहली।  

पिच स्पिनरों की मददगार 

दो अंतरराष्ट्रीय मैच खेले गए हैं इस मैदान में। एक वनडे और वर्षा से प्रभावित टी-20 मैच। दोनों ही मैचों में पिच में हल्का टर्न देखने का मिला। हाल ही में सैयद मुश्ताक अली टूर्नामेंट के 14 मैच हुए थे जिसमें स्पिनरों का अच्छा प्रभाव देखने को मिला। 

दोनों टीमें

भारत: विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, लोकेश राहुल, संजू सैमसन, ऋषभ पंत, मनीष पांडे, श्रेयस अय्यर, शिवम दुबे, रविंद्र जडेजा, वाशिंगटन सुंदर, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, दीपक चाहर, भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद शमी।
वेस्टइंडीज : किरोन पोलार्ड (कप्तान), फेबियन एलेन, ब्रैंडन किंग, दिनेश रामदीन, शेल्डन कॉटरेल, एविन लुइस, शेरफाने रदरफोर्ड, शिमरोन हेतमायर, खारी पियरे, लेंडल सिमंस, जेसन होल्डर, हेडन वॉल्श जूनियर, कीमो पॉल और केसरिक विलियम्स। 

हैदराबाद. विराट कोहली की कप्तानी पारी और केएल राहुल के अर्धशतक से भारत ने पहले टी-20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में वेस्टइंडीज के खिलाफ रिकार्ड लक्ष्य हासिल करके छह विकेट की जीत से तीन मैचों की श्रृंखला में शुरुआती बढ़त हासिल की. भारत के सामने 208 रन का लक्ष्य था और उसने सपाट पिच पर 18.4 ओवर में चार विकेट पर 209 रन बनाकर जीत दर्ज की. कोहली ने 50 गेंदों पर छह चौकों और इतने ही छक्कों की मदद से नाबाद 94 रन बनाये जो इस प्रारूप में उनका सर्वोच्च स्कोर है. 

उन्होंने राहुल (40 गेंदों पर 62 रन) के साथ दूसरे विकेट के लिये 100 रन की साझेदारी की. वेस्टइंडीज ने पांच विकेट पर 207 रन बनाये थे. उसकी तरफ से इविन लुईस ने 17 गेंदों पर 40 रन की तूफानी पारी खेली. ब्रेंडन किंग ने 31 रन का योगदान दिया जबकि शिमरोन हेटमेयर (41 गेंदों पर 56 रन) और कप्तान कीरेन पोलार्ड (19 गेंदों पर 37 रन) भी पूरे रंग में दिखे. जैसन होल्डर ने नौ गेंद पर 24 रन की तूफानी पारी खेली. भारत ने इस तरह से सबसे बड़ा लक्ष्य हासिल किया. इससे पहले उसने श्रीलंका के खिलाफ 2009 में मोहाली में 207 रन का लक्ष्य हासिल किया था. इस मैच में कुल 27 छक्के लगे जो भारतीय सरजमीं पर नया रिकार्ड है.

बड़े लक्ष्य के सामने भारत की शुरुआत अच्छी नहीं रही और ‘हिटमैन' रोहित शर्मा केवल आठ रन बनाकर पवेलियन लौट गये. इससे पहले लक्ष्य का पीछा करने में भारत के अच्छे रिकार्ड और बाद में गेंदबाजी करते हुए ओस के प्रभाव को ध्यान में रखकर कोहली ने टॉस जीतकर पहले क्षेत्ररक्षण का फैसला किया. भारतीय क्षेत्ररक्षण हालांकि अच्छा नहीं रहा. श्रृंखला का दूसरा मैच रविवार को तिरूवनन्तपुरम में खेला जायेगा.

नई दिल्ली। भारत और वेस्ट इंडीज के बीच टी20 इंटरनैशनल और वनडे इंटरनैशनल मुकाबलों में नो-बॉल का फैसला तीसरा अंपायर करेगा न कि मैदान पर मौजूद अंपायर। गुरुवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल की ओर से यह घोषणा की गई। वेस्ट इंडीज के भारत दौरे पर तीन टी20 इंटरनैशनल और इतने ही वनडे मुकाबले खेले जाएंगे। शुक्रवार को हैदराबाद में शुरू हो रही इस सीरीज में तकनीक द्वारा नो-बॉल पर फैसला लेने का परीक्षण किया जाएगा। आईसीसी ने एक बयान जारी कर कहा, इस पूरे ट्रायल के दौरान तीसरा अंपायर ही हर नो-बॉल पर फैसला करेगा। वही यह जांच करेगा कि क्या गेंदबाज ने अगली क्रीज का उल्लंघन किया है। इसमें आगे कहा गया है, अगर गेंदबाज क्रीज का उल्लंघन करता है तो तीसरा अंपायर ऑन-फील्ड अंपायर से बात करेंगा। यानी मैदान पर मौजूद अंपायर तीसरे अंपायर की सहमति के बिना नो-बॉल का फैसला नहीं देगा। आईसीसी ने कहा कि बेनेफिट ऑफ डाउट का फायदा बोलर को मिलेगा। नो-बॉल जांचने का काम तीसरे अंपायर को सौंपने का फैसला इस साल अगस्त में किया गया था। इस सिस्टम को पहली बार 2106 में इंग्लैंड और पाकिस्तान के बीच हुई वनडे सीरीज में प्रयोग किया गया था।

दुबई । पूर्व भारतीय महिला क्रिकेटर जीएस लक्ष्मी रविवार को संयुक्त अरब अमीरात में विश्व कप लीग दो में अंपायरिंग के लिए उतरने के साथ ही एक अहम रिकार्ड अपने नाम कर लेंगी। इसी के साथ ही लक्ष्मी पुरूष एकदिवसीय मुकाबलों में रैफरिंग करने वाली पहली महिला मैच रैफरी बन जाएंगी। लक्ष्मी संयुक्त अरब अमीरात और अमेरिका के बीच शारजाह क्रिकेट स्टेडियम में होने वाले लीग दो की तीसरी सीरीज के शुरुआती मैच में रैफरिंग करेंगी। इस टूर्नामेंट का लक्ष्य मैच अधिकारियों के लिए विकास के मौके प्रदान करना है। यह लक्ष्मी की इस साल की दूसरी बड़ी उपलब्धि है, इससे पहले वह मई में मैच रैफरियों के आईसीसी अंतरराष्ट्रीय पैनल में नियुक्त होने वाली पहली भारतीय महिला बनी थीं। 51 वर्षीय लक्ष्मी ने 2008-09 में घरेलू महिला क्रिकेट मैच में पहली बार मैच रैफरी की भूमिका निभाई थी। वह अब तक तीन महिला एकदिवसीय मैचों, 16 पुरूष टी20 अंतरराष्ट्रीय और सात महिला टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में रेफरी रही हैं। वहीं आईसीसी के सीनियर मैनेजर अंपायर एवं रैफरी एड्रियन ग्रिफिथ ने लक्ष्मी को उनकी इस अहम उपलब्धि के लिए बधाई दी है।

हैदराबाद. भारतीय टीम का वेस्टइंडीज के खिलाफ शुक्रवार से यहां शुरू होने वाली तीन मैचों की टी-20 सीरीज के दौरान ऑस्ट्रेलिया में अगले साल होनेवाले टी-20 विश्व कप के लिए खिलाड़ियों को आजमाना जारी रहेगा. भारत पिछले दो वर्षों से वेस्टइंडीज से कोई मैच नहीं हारा है. लगातार छह मैच में जीत दर्ज की है. 

अंतिम बार टी-20 में भारत जुलाई, 2017 में हारा था. इस सीरीज में केएल राहुल और रिषभ पंत जैसे खिलाड़ी टीम में अपना स्थान पक्का करने का लक्ष्य बनाये होंगे. टी-20 विश्व कप की तैयारियों में जुटी भारतीय टीम में कई खिलाड़ियों का स्थान अभी पक्का नहीं है और वे वेस्टइंडीज के खिलाफ अपने प्रदर्शन से टीम प्रबंधन और चयनकर्ताओं को प्रभावित करने का प्रयास करेंगे. इनमें से एक नाम राहुल का है.

चोटिल सलामी बल्लेबाज शिखर धवन की अनुपस्थिति में यह सीरीज उन्हें रोहित शर्मा के जोड़ीदार के तौर पर अपना स्थान सुनिश्चित कराने का बहुत अच्छा मौका प्रदान करेगी. उनका टी-20 में अच्छा रिकॉर्ड है. राहुल ने 31 टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में 42.74 के औसत से 974 रन जुटाये हैं, जिसमें उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर नाबाद 110 रन रहा है. आइपीएल में भी उनका प्रदर्शन अच्छा रहा है. राहुल के अलावा पंत भी अपने मजबूत प्रदर्शन से आलोचकों को जवाब देना चाहेंगे. 

बल्ले से और विकेटकीपिंग में अपनी अनिरंतर फार्म के कारण वह पिछले कुछ समय से आलोचनाओं में घिरे रहे हैं. उन्हें महेंद्र सिंह धौनी के उत्तराधिकारी के तौर पर देखा जा रहा था, लेकिन इस साल के शुरू में आइसीसी वनडे विश्व कप के समाप्त होने के बाद उनकी फॉर्म में गिरावट आयी. गेंदबाजी की बात की जाये तो कुलदीप यादव, मोहम्मद शमी और भुवनेश्वर कुमार टी-20 टीम में वापसी कर रहे हैं.  पहले मैच में ‘फ्रंट फुट नोबॉल' पर फैसला मैदानी अंपायर नहीं, तीसरा अंपायर करेगा.

Page 1 of 18
Image

फेसबुक