छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ (1653)

रायपुर, 11 दिसंबर 2019  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में शामिल होने के लिए भेजे निमंत्रण को प्रदेश के स्कूली शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह लखनऊ में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को देते हुए उन्हें इस महोत्सव में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया। योगी आदित्यनाथ ने छत्तीसगढ़ में आयोजित होने वाली राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के लिए अपनी शुभकामनाएं दी तथा छत्तीसगढ़ आने का आश्वासन भी दिया है। गौरतलब है कि राज्य सरकार द्वारा आगामी 27, 28, 29 दिसंबर को छत्तीसगढ़ में पहली बार राष्ट्रीय स्तर आदिवासी नृत्य महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है जिसके लिए सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों और वहां के आदिवासी नृतक दलों को इस महोत्सव में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया जा रहा है।
      इस अवसर पर उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने काशी विश्वनाथ मंदिर वाराणसी में पूजा के लिए चढाए जाने वाले फूलों का सदुपयोग करते हुए इत्र अगरबत्ती और धूप बनाने की कार्य योजना के बारे में विस्तार से जानकारी दी और इसे छत्तीसगढ़ में भी अमल करने करने का सुझाव दिया। इससे जहां महिला समूह को रोजगार मिलता है साथ ही साथ मंदिर में चढ़ाए जाने वाले फूलों का सदुपयोग भी होता है।
      मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने यह जानकर प्रसन्नता व्यक्त की छत्तीसगढ़ सरकार प्रभु राम की माता कौशल्या जी के मंदिर का जीर्णोउद्धार करने जा रही है और साथ ही साथ प्रभु राम वन गमन परिपथ के निर्माण का भी कार्य कर रही है। उन्होंने सलाह दी है कि भविष्य में माता कौशल्या मंदिर परिसर चंदखुरी में कोई ऐसा आयोजन किया जाए जिसमें उत्तर प्रदेश सरकार की सहभागिता भी सुनिश्चित हो सके। इस अवसर पर उन्होंने कुंभ पर आधारित पुस्तिका भी स्कूल शिक्षा मंत्री को भेंट की। इस अवसर पर संचालक समग्र शिक्षा श्री पी दयानंद और श्री आर. पी. सिंह उपस्थित थे।

चार हजार हेक्टेयर से अधिक क्षेत्रों में सिंचाई सुविधा उपलब्ध होगी

रायपुर, 11 दिसम्बर 2019  राज्य सरकार ने विभिन्न सिंचाई परियोजनाओं के लिए 37 करोड़ 19 लाख 36 हजार रूपए की प्रशासकीय स्वीकृति जारी की है। इन परियोजनाओं के पूरा होने से चार हजार 785 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। जांजगीर-चांपा जिले के विकासखण्ड बम्हनीडीह की जमड़ीनाला पर पोड़ी शंकर स्टापडेम योजना के लिए एक करोड़ 54 लाख 33 हजार रूपए स्वीकृत किए गए है। योजना के पूरा होने से 55 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा हो सकेगी। विकासखण्ड बलौदा के हसदेव बांगो परियोजना अंतर्गत सिवनी वितरक नहर लाईनिंग एवं मरम्मत कार्य के लिए दो करोड़ 79 लाख दो हजार रूपए स्वीकृत किए है। योजना के पूरा होने से 523 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई हो सकेगी। विकासखण्ड पामगढ़ की हसदेव बांगो परियोजना अंतर्गत शिवरीनारायण वितरक नहर के लाईनिंग एवं मरम्मत कार्य के लिए एक करोड़ दो लाख 52 हजार रूपए स्वीकृत किए गए है। योजना के पूरा होने से 80 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। विकासखण्ड पामगढ़ के अंतर्गत जमुनिया एनीकट के निर्माण के लिए एक करोड़ 85 लाख 13 हजार रूपए स्वीकृत किए है। योजना के पूरा होने से 80 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। विकासखण्ड अकलतरा के कंजीनाला पर सोनाईडीह स्टापडेम निर्माण के लिए एक करोड़ तीस लाख 68 हजार रूपए स्वीकृत किए गए है।
बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के विकासखण्ड बलौदाबाजार की आमाकोनी जलाशय योजना के जीर्णोद्धार कार्य के लिए एक करोड़ 41 लाख 59 हजार रूपए की स्वीकृति जारी की गई है। योजना के पूरा होने से 60 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। विकासखण्ड तिल्दा/सिमगा की मानपुर जलाशय के मरम्मत एवं नहर लाईनिंग कार्य के लिए दो करोड़ 79 लाख तीन हजार रूपए स्वीकृत किए गए है। योजना के पूरा होने से 815 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। कोरिया जिले के विकासखण्ड मनेन्द्रगढ़ अंतर्गत गुडरू व्यपवर्तन नहर लाईनिंग कार्य के लिए दो करोड़ 74 लाख 91 हजार रूपए स्वीकृत किए गए है। कार्य के पूरा होने से 729 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। कोरिया जिले के मनटोलिया व्यपवर्तन योजना के लिए छः करोड़ 42 लाख रूपए स्वीकृत किए गए है। योजना के पूरा होने से 325 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। कोरबा जिले के विकासखण्ड करतला की हसदेव बांगो परियोजना अंतर्गत फरसवानी उप शाखा नहर के बघौदा माईनर कार्य के लिए एक करोड़ 54 लाख 40 हजार रूपए स्वीकृत किए गए है। योजना के पूरा होने से 603 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। बालोद जिले के विकासखण्ड डौंडीलोहारा की गुरामील जलाशय नहर रिमाडलिंग लाईनिंग एवं स्ट्रक्चर कार्य के लिए एक करोड़ 99 लाख 66 हजार रूपए स्वीकृत किए गए है। योजना के पूरा होने स े167 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। महासमुंद जिले के विकासखण्ड बसना की उड़ेला जलाशय के लाईनिंग एवं मरम्मत कार्य के लिए दो करोड़ 82 लाख 21 हजार रूपए स्वीकृत किए गए है। कार्य के पूरा होने से 320 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। बिलासपुर जिले के विकासखण्ड तखतपुर अंतर्गत आमाचुआ जलाशय बांध मरम्मत एवं स्ट्रक्चर्स कार्य के लिए दो करोड़ 98 लाख 28 हजार रूपए स्वीकृत किए गए है। योजना के पूरा होने से 506 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। सरगुजा जिले के मैनपाट अंतर्गत खड़गंवा व्यपवर्तन योजना के लिए दो करोड़ 99 लाख  85 हजार रूपए स्वीकृत किए गए है। योजना के पूरा होने से 337 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। रायगढ़ जिले के विकासखण्ड धरमजयगढ़ के साकासुन्दरी एनीकट सह पुलिया निर्माण के लिए दो करोड़ 95 लाख 75 हजार रूपए स्वीकृत किए गए है। योजना के पूरा होने से 110 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी।

रायपुर, 11 दिसम्बर 2019  छत्तीसगढ़ में पहली बार चालू माह के 27, 28 और 29 दिसम्बर को राजधानी रायपुर में आयोजित हो रहे राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के लिए मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा भेजे गए निमंत्रण को पर्यटन और गृह मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू ने ओडिशा के राजधानी भुवनेश्वर पहंुचकर मुख्यमंत्री श्री नवीन पटनायक से सौजन्य मुलाकात की और राष्ट्रीय आदिवासी महोत्सव के लिए आमंत्रण दिया। श्री साहू ने मुख्यमंत्री श्री पटनायक से ओडिशा के लोक कलाकरों को नृत्य महोत्सव में शामिल होने के लिए छत्तीसगढ़ भेजने का आग्रह भी किया। मुलाकात के दौरान श्री साहू ने श्री पटनायक को छत्तीसगढ़ की संस्कृति और परम्पराओं की जानकारी दी। श्री साहू ने कहा कि राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव से एक दूसरे की संस्कृति और परम्पराओं को जानने-समझने का अवसर मिलेगा। श्री साहू ने मुख्यमंत्री श्री पटनायक को छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा संचालित जनकल्याणकारी योजनाओं के संबंध में भी विस्तार पूर्वक चर्चा की। 

आयोजन स्थल पर दिखेगी छत्तीसगढ़ की संस्कृति, पर्यटन और औद्योगिक परिदृश्यों की झांकी
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने महोत्सव की तैयारियों की समीक्षा की

रायपुर, 11 दिसम्बर 2019   राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का शुभारंभ भव्य और आकर्षक होगा। शुभारंभ अवसर पर देश-विदेश से आने वाले कलाकार अपने पारम्परिक परिधानों में मार्च पास्ट करेंगे। महोत्सव में लोक रंग में रंगे सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन साईंस कॉलेज मैदान में 27 से 29 दिसम्बर तक सवेरे 10 बजे से शाम 8.30 बजे तक प्रतिदिन होगा। इस महोत्सव में देश के 23 राज्यों के 151 दलों के लगभग 1400 कलाकार हिस्सा लेंगे। इसके अलावा महोत्सव में श्रीलंका, बेलारूस, युगांड़ा, बांग्लादेश सहित छह देशों के कलाकार भी शामिल होंगे। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज अपने निवास कार्यालय में आयोजित बैठक में 27 दिसम्बर से शुरू हो रहे राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव की तैयारियों की समीक्षा की। बैठक में नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया भी मौजूद थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में देश के अन्य राज्यों के साथ ही देश के बाहर से भी कलाकार आएंगे, उनके लिए आवश्यक सुरक्षा व्यवस्था, भोजन, आवास, साफ-सफाई, पीने का साफ पानी, स्वास्थ्य सुविधा, अग्निशमन और आवागमन के समुचित साधन मुहैया कराने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। मुख्यमंत्री ने साईंस कॉलेज स्थित आयोजन स्थल का कम्प्यूटर आधारित प्रेजेंटेशन देखा और जरूरी निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि इस महोत्सव में आने वाले दर्शकों को कोई असुविधा नही होनी चाहिए। पार्किंग स्थल से उन्हे कम से कम दूरी चलना पड़े इसका विशेष ध्यान रखें। आयोजन में आवश्यक व्यवस्था के लिए एनसीसी, एनएसएस और स्काउट गाइड के कैडेटों का भी सहयोग लेने कहा।
संस्कृति विभाग के सचिव श्री सिद्धार्थ कोमल परदेशी ने बताया कि महोत्सव में कलाकारों द्वारा विवाह, फसल कटाई, पारंपरिक त्यौहार और अन्य अवसरों पर किए जाने वाले आदिवासी नृत्यों का प्रदर्शन किया जाएगा। महोत्सव में विजेता प्रतिभागियों को समापन अवसर पर पुरस्कार दिया जाएगा, जिसमें प्रथम पुरस्कार 5 लाख रूपए, द्वितीय पुरस्कार 3 लाख रूपए, तृतीय पुरस्कार 2 लाख रूपए और सांत्वना पुरस्कार के रूप में 25 हजार रूपए दिए जाएंगे। प्रत्येक दल में लगभग 50 कलाकार होंगे। श्री परदेशी ने बताया कि महोत्सव में कलाकारों के ऑनलाइन पंजीयन की व्यवस्था की गई है और अब तक एक हजार 310 कलाकारों का पंजीयन हो चुका है। पंजीयन को ऑनलाइन देखा भी जा सकता है। आयोजन स्थल में लगभग 4000 लोगों की बैठक व्यवस्था की जा रही है। आयोजन स्थल पर शिल्प ग्राम, फूड जोन, पुस्तक प्रदर्शनी, वनोपज उत्पाद, औद्योगिक प्रोत्साहन, छत्तीसगढ़ का इतिहास, पर्यटन, संस्कृति, छत्तीसगढ़ी व्यंजन, गांधी यात्रा, जल, जंगल, जमीन आदि की प्रदर्शनी लगायी जाएगी। साथ ही मनोरंजन के लिए मीना बाजार लगाने पर भी विचार किया जा रहा है।
बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री अमिताभ जैन, पुलिस महानिदेशक श्री डी.एम. अवस्थी मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री गौरव द्विवेदी, प्रमुख सचिव श्री मनोज पिंगुआ, श्री सुब्रत साहू, सचिव श्री पी.अन्बलगन सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

बिलासपुर। नगर पालिका आम निर्वाचन 2019 अंतर्गत जिले के 9 नगरीय निकायों में मतदान हेतु मतदान दलों का द्वितीय चरण का प्रशिक्षण जिला मुख्यालय बिलासपुर में आज से प्रारंभ हुआ।
 पंडित देवकीनंदन स्कूल न नि कन्या उच्चतर माध्यमिक शाला तिलक नगर बिलासपुर और बर्जेश मेमोरियल इंगलिश सीनियर सेकेण्डरी स्कूल बिलासपुर में  पीठासीन अधिकारीए मतदान अधिकारी क्रमांक.1, 2 एवं 3 तथा सेक्टर अधिकारियों का प्रशिक्षण दो पालियों में प्रात: 10ण्30 बजे से दोपहर 1ण्30 बजे तक और दोपहर 2.30 बजे से शाम 5.30 बजे तक आयोजित किया गया। जिन्हें मास्टर ट्रेनर्स द्वारा प्रशिक्षण दिया गया।
प्रशिक्षण में मतदान अधिकार क्रमंाक 1, 2 एवं 3 को उनके दायित्यों के संबंध में गहन जानकारी दी गई। मतदान अधिकारी क्रमांक 1 निर्वाचन नामावली के चिन्हित प्रति का प्रभारी होगा और मतदाता के पहचान के लिए उत्तरदायी होगा। निर्वाचक नामावली में मतदाता के नाम को रेखांकित करेगा साथ ही महिला होगी तो उसके नाम में गोल घेरा लगाएगा और थर्ड जेंडर होगा तो उसके नाम में टिक लगाएगा। मतदान अधिकारी क्रमांक 2 का दायित्व होगा कि मतदाता सूची में मतदाता का सरल क्रमांक देखेगा। मतपत्र के काउंटर फाइल में मतदाता का क्रमांक देखेगा और हस्ताक्षर लेगा या अंगूठे का निशान लगाएगा। मतदाता को मतपत्र देगा। मतदाता के बाएं हाथ के तर्जनी में अमिट स्याही लगाएगा। मतदान अधिकारी क्रमांक तीन का दायित्व होगा कि मतदाता से पर्ची लेगा ओर अपने पास रखेगा और उसे घूमते तीरों वाली मोहर देगा। वह मतपेटी का प्रभारी अधिकारी होगा।
          प्रशिक्षण में टेंडर वोट, चैलेंज वोट, निविदत्त मतपत्र, मतदान के लिए मतपेटी को तैयार करने और मतदान पश्चात उसे सील करने के संबध में गहन प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण में यह बताया गया कि मतदान अधिकारी क्रमांक 1, 2, 3 और पीठासीन अधिकारी उनके लिए निर्धारित किये गये वाहन से ही अपने निर्धारित मतदान केंद्र जाएंगें तथा उन्हें रात्रि विश्राम मतदान केंद्र में ही करना होगा। यह प्रशिक्षण श्री शेलेष कुमार पांण्डेय जिला स्तरीय मास्टर ट्रेनर के पर्यवेक्षण में आयोजित किया गया। प्रशिक्षण 11 एवं 12 दिसंबर को भी जारी रहेगा।

बिलासपुर। नगर पालिका निर्वाचन 2019 अंतर्गत नगर निगम बिलासपुर के निर्वाचन हेतु की गई तैयारियों का जायजा लेने के लिए राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा नियुक्त सामान्य प्रेक्षक श्री राजेश राणा आज शासकीय अभियांत्रिक महाविद्यालय कोनी पहुंचे। उनके साथ कलेक्टर डॉ संजय अलंग भी थे।  
सामान्य प्रेक्षक श्री राणा ने आईटी भवन में बनाए गए स्ट्रांग रूम को देखा और वहां पर की जा रही व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी ली। बिलासपुर नगर पालिका निगम के मतपेटियों को रखने के लिए सात स्ट्रांग रूम बनाए जा रहे हैं। निगम के 70 वार्डो में प्रत्येक 10 वार्ड के मतपेटियों के लिए एक स्ट्रांग रूम बनाया जा रहा है। कलेक्टर ने प्रेक्षक को इन व्यवस्थाओं से अवगत कराया।
    आईटीभवन में मतदान दलों को सामाग्री वितरण 20 दिसंबर को किया जाएगा। इसके लिए की जा रही तैयारियों का भी प्रेक्षक ने जायजा लिया। मतदान दलों को लाने लेजाने के लिए वाहनों के पार्किंग की व्यवस्था, बैरीकेटिंक की व्यवस्था को देखा। कलेक्टर ने पीडब्ल्यूडी के अधिकारी को इस संबंध में आवश्यक दिशा निर्देश भी दिये। नगर पालिका निर्वाचन हेतु मतगणना 24 दिसंबर को इसी भवन के सात कमरों में की जाएगी। जिसके लिए 78 टेबल लगाए जाएंगे। डाकमत पत्रों की गणना अलग कमरों में की जाएगी। प्रेक्षक ने सभी मतगणना कक्षों का भी जायजा लिया।
इस अवसर पर उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री अमित गुप्ताए नगर निगम बिलासपुर के सहायक रिटर्निंग अधिकारी देवेंद्र पटेल, सामान्य प्रेक्षक के लाइजनिंग अधिकारी  पंकज पंचायती, लोक निर्माण विभाग के वरिष्ठ अधिकारी आदि उपस्थित थे।

महोत्सव का आज अंतिम दिन, महाभंडारा के बाद निकलेगी साई बाबा की शोभायात्रा
दुर्ग। कसारीडीह सिविल लाईन स्थित प्रसिद्ध श्री साई बाबा मंदिर में तीन दिवसीय वार्षिक महोत्सव के दूसरे दिन मंगलवार को साई बाबा के दर्शन के लिए साई भक्तों का रैला लगा रहा। सुबह से ही मंदिर में भजन कीर्तन के गूंज में साई भक्त नाचते गाते रहे। श्री सत्य साई सेवा भजन मंडली ने अपने भजनों से श्रद्धालुओं को मंत्रमुग्ध किया। जिससे मंदिर श्रद्धाभाव से सराबोर रहा। दोपहर बाद रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता में 60 से अधिक की संख्या में महिला, युवती व बच्चों ने उत्साह के साथ भाग लेकर आकर्षक कलाकृतियां उकेरी। प्रतिभागियों द्वारा निर्मित संदेश वाहक रंगोलियों ने श्रद्धालुओं को खासा प्रभावित किया है। यह प्रतियोगिता संयोजिका विभा भंडारकर एवं निर्णायक रोहणी पाटणकर, रंजना गुप्ता, डॉ. आईशा अहमद, रत्ना नारमदेव, सुनीता मुरकुटे, शीतल भाटे, मीना दुबे, सीमा देवांगन की देखरेख में संपन्न हुई। प्रतियोगिता का पुरस्कार वितरण 25 दिसंबर की शाम 5.30 बजे मंदिर समिति के पदाधिकारियों द्वारा किया जाएगा। 43वें वार्षिक महोत्सव का 11 दिसंबर को अंतिम दिन है। अंतिम दिन दोपहर 1 बजे से महाप्रसादी(आम भंडारा) का आयोजन किया गया है। महाभंडारा में प्रतिवर्ष 25 से 30 हजार की संख्या में प्रसाद ग्रहण करने श्रद्धालुगण जुटते है। जिसके चलते समिति द्वारा सभी तैयारियां पूर्ण कर ली गई है। इसके पहले महोत्सव के प्रथम दिन सोमवार की रात गरियाबंद के सुप्रसिद्ध लोक कलाकार भूपेन्द्र साहू एवं उनके साथी कलाकारों ने छत्तीसगढ़ी सांस्कृतिक कार्यक्रम रंग सरोवर की रंगारंग प्रस्तुति देकर समां बांधी। कलाकारों के छत्तीसगढ़ गीत- संगीत व नृत्य का श्रद्धालुओं ने जमकर आनंद लिया। वार्षिक महोत्सव के दौरान समिति के अध्यक्ष श्रीकांत समर्थ, सचिव धनेन्द्र सिंह चंदेल,उपाध्यक्ष संजय सिंह, रविन्द्र भटनागर, सहसचिव संतोष यदु, कोषाध्यक्ष धीरेन्द्र शर्मा, प्रचार सचिव मुरलीधर राऊत, शिवाकांत तिवारी, कार्यकारिणी सदस्य अरविंद वोरा, सुधीर वाघ, कौशल किशोर सिंह, संतोष खिरोडकर,डॉ. सुधीर हिशीकर, सुजीत गुप्ता, राम पांडे, सुरेश साहू, विनय चंद्राकर, अतुल मढ़रिया, अजय सुरपाम,प्रभाकर राव पाटने, मधुकर राऊत, प्रकाश शिवणकर, संतोष देवांगन, अरुण मिश्रा, अरविंद लोखंडे, हनुमान यादव, अजय मिश्रा, अन्नपूर्णा मढ़रिया, अकुंर चंद्राकर, राजू साहू, मोनू यादव, श्रीमंत नाग, प्रशांत यादव, राजा मारकंडेय, अभिषेक निर्मलकर एवं अन्य सदस्य व्यवस्था बनाने में सक्रिय रहे।

भिलाई। नगर पालिक निगम भिलाई के आयुक्त ऋतुराज रघुवंशी ने कुछ दिनों पूर्व ही प्रधानमंत्री आवास योजना के विभिन्न घटक अंतर्गत  अधिकारियों की समीक्षा बैठक ली थी जिसमें कार्य की गुणवत्ता, भौतिक एवं वित्तीय प्रगति एवं पूर्ण आवास आदि के संबंध में गहन समीक्षा हुई थी! आज सुबह वार्ड क्रमांक 38 शिवाजी नगर खुर्सीपार क्षेत्र अंतर्गत आयुक्त रघुवंशी द्वारा कंचन बंजारे, संत कुमार, सूतुला, आनंदा बाई, लालबाबू मांझी, अनूप लाल, रामप्यारी,एम सोमेश राव, सुहागा बाई एवं सुभाष निषाद आदि के निर्माणाधीन एवं निर्मित आवासों का निरीक्षण किया! उन्होंने कुछ निर्माणाधीन मकानों के नक्शे का अवलोकन किया तथा मकान की गुणवत्ता के विषय में जानकारी प्राप्त की आयुक्त  ने हितग्राहियों को प्रदान किए जाने वाले किस्त की राशि के बारे में भी जानकारी ली, संबंधित अधिकारियों को अप्रारंभ आवासों को शीघ्र प्रारंभ कराने के निर्देश दिए गए ! कुछ हितग्राहियों द्वारा भूतल एवं प्रथम तल का भी निर्माण किया जा रहा है जिसमें शौचालयए खिड़की दरवाजे, सीढ़ी, स्लैब आदि का भी अवलोकन आयुक्त द्वारा किया गया! उन्होंने वार्ड 38 शिवाजी नगर के अधिकतम आवासों का निरीक्षण मोर जमीन मोर मकान घटक के अंतर्गत किया! आयुक्त महोदय के निर्देश पर अप्रारंभ आवासों को प्रारंभ कराने के लिए पूर्व में शिविर का आयोजन भी किया जा चुका है जिसमें हितग्राहियों को आवासों को प्रारंभ करने उनकी वर्तमान परिस्थितियों को समझकर निराकरण करने का कार्य भी किया गया था। मोर जमीन मोर मकान योजना के सफलतापूर्वक क्रियान्वयन के लिए जोन में विकेंद्रीकरण भी किया गया है! श्री रघुवंशी ने सफाई व्यवस्था  जायजा लिया जिसमें उन्होंने सकरी गलियों से होकर मोहल्ले के आखिरी छोर तक जाकर सफाई व्यवस्था एवं नाली निकासी देखी तथा उपस्थित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए।  निरीक्षण के दौरान अधीक्षण अभियंता एवं नोडल अधिकारी प्रधानमंत्री आवास योजना सत्येंद्र सिंह, अधीक्षण अभियंता आरके साहू, कार्यपालन अभियंता एसपी साहू एवं संजय बागड़े, जोन आयुक्त जोन क्रमांक 4 पाठक, सहायक अभियंता विनीता वर्मा, प्रभारी स्वास्थ्य अधिकारी धर्मेंद्र मिश्रा, उप अभियंता जयंत शर्मा, सिटी लेवल टेक्निकल सेल सुधांशु शर्मा, वास्तुविद नमन भट्ट आदि उपस्थित रहे।

भिलाईनगर। वार्ड 25 पुराना मछली मार्केट में मोहम्मद उस्मान के द्वारा एक सकरी गली में मीठा ब्रेड दोनेट तैयार किया जा रहा था जिसमें तीन महिलाएं इस कार्य में लगी हुई थीए इस खाद्य पदार्थ को तैयार करने के लिए दो घरेलू गैस सिलेंडर का उपयोग किया जा रहा था जबकि यह गली बहुत ही सकरी है! उडऩदस्ता टीम को जब निरीक्षण के दौरान यह पता चला कि आवासीय परिसर में व्यवसाय किया जा रहा है तो टीम मौके पर पहुंच गई और यह पाया कि बनाए जा रहे खाद्य पदार्थ में निर्माण की तिथि, निर्माण सामग्री की जानकारीए उपयोग करने की अंतिम तिथि आदि अंकित नहीं है, मोहम्मद उस्मान के पास किसी प्रकार का दस्तावेज भी प्राप्त नहीं हुआ, व्यवसाय करने वाले ने बताया कि व्यवसाय करने के लिए दुकान किराए पर लिया गया है । उडऩदस्ता की टीम ने व्यवसायी को व्यवसाय बंद कर तत्काल खाली करने कहा साथ ही 5000 का अर्थदंड भी लिया है।  नगर निगम की उडऩदस्ता टीम ने आज वैशालीनगर, कांट्रेक्टर कॉलोनी, चंद्रा मौर्या रोड, कैलाशनगर, नंदनी रोड, शीतला मार्केट, पुराना मछली मार्केट सहित निगम के विभिन्न क्षेत्रों के अंतर्गत आने वाले व्यवसासियों से प्रतिबंधित पानी पाउच तथा प्रतिबंधित प्लास्टिक कैरीबैग, एक्सपायरी पेय एवं खाद्य पदार्थ तथा दुकान का सामान बढ़ाकर व्यवसाय करने वालों पर, आवासीय क्षेत्र में व्यवसायिक उपयोग करने वालों पर कार्यवाही करते हुए कुल 12,700 अर्थदण्ड वसूलते हुए साथ ही दोबारा इस प्रकार से न करने की समझाईस दी गई। नंदनी रोड स्थित गली में मों उसमान वार्ड 25 में घरेलू सिलेंडर से बेकरी उत्पाद बनाते पाए जाने पर 5000 हजार रूपए जुर्माना वसूला गया। नगर पालिक निगम, भिलाई की उडऩदस्ता टीम ने कांट्रेक्टर कॉलोनी, चंद्रा मौर्या रोड, कैलाशनगर, नंदनी रोड शीतला मार्केट एवं पुराना मछली मार्केट के अंतर्गत आने वाले होटल, रेस्टोरेंट, किराना दुकान, बाजार मे प्रतिबंधित पानी पाउच व प्लास्टिक, कैरीबैग रखने वालों सड़क पर सामान फैलाकर व्यवसाय करने वालों पर कार्यवाही की।

रायपुर । छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बस्तर क्षेत्र में नक्सली गतिविधियों में शामिल रहे प्रमुख माओवादी नेता रमन्ना की कथित तौर पर मौत हो गई है। राज्य के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि सूत्रों से जानकारी मिली है कि पिछले सप्ताह दिल का दौरा पड़ने से नक्सली नेता रमन्ना की मौत हो गई है। हालांकि,अभी तक इस संबंध में माओवादियों की तरफ से कोई भी बयान जारी नहीं किया गया है। माओवादी अक्सर अपने बड़े नेताओं की मृत्यु पर बयान जारी करते हैं।
बस्तर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक सुंदरराज पी ने बताया कि जानकारी मिली है कि दंडकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी के सचिव रमन्ना उर्फ रावलु श्रीनिवास की पिछले शनिवार की रात मौत हो गई। बीजापुर जिले के पामेड़ और बासागुड़ा गांव के मध्य जंगल में उसका अंतिम संस्कार किया गया। सुंदरराज ने बताया कि रमन्ना की मौत की जानकारी को पुष्ट करने के लिए कई सबूत मिले हैं। लेकिन फिर भी इस संबंध में अधिक जानकारी ली जा रही है।
पुलिस महानिरीक्षक ने बताया कि रमन्ना माओवादियों के केंद्रीय समिति का सदस्य  था। पिछले कुछ दशक से बस्तर क्षेत्र में हुई बड़ी घटनाओं का वह मास्टरमाइंड था। इनमें 2010 में ताड़मेटला में 76 जवानों की मौत तथा वर्ष 2013 में दरभा घाटी नक्सली हमला शामिल है। हमले में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मारे गए थे। रमन्ना तेलंगाना के वारंगल जिले का निवासी था। छत्तीसगढ़ में उसपर 40 लाख का इनाम है।
उसकी पत्नी सावित्री उर्फ सोढ़ी हिडमे एक स्थानीय आदिवासी महिला है।  रमन्ना का बेटा रंजीत अपनी मां के समूह में सदस्य के रूप में सक्रिय है। रमन्ना को क्षेत्र में होने वाले नक्सली घटनाओं का प्रमुख रणनीतिकार माना जाता था। वह लंबे समय  से बस्तर और पड़ोसी राज्यों महाराष्ट्र,तेलंगाना, आंध्रप्रदेश और ओडिशा के सीमावर्ती क्षेत्रों में नक्सली आंदोलन की अगुवाई कर रहा था।
पिछले कुछ समय से तेलंगाना और आंध्रप्रदेश के नक्सलियों को ज्यादा महत्व मिलने के कारण नक्सली आंदोलन को अंदरूनी कलह का सामना  करना पड़ रहा है। पुलिस अधिकारी ने कहा कि रमन्ना पिछले लगभग 30 वर्ष से बस्तर क्षेत्र में सक्रिय था। उस वर्ष 2011 में दंडकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी का सचिव बनाया गया था। उसने बस्तर में जोनल कमेटी की स्थापना में तथा माओवादी आंदोलन को बढ़ाने में बड़ी भूमिका निभाई थी। अधिकारी ने कहा कि रमन्ना की मृत्यु से बस्तर क्षेत्र में माओवादी आंदोलन कमजोर होगा।

Page 1 of 119
Image

फेसबुक