newscreation

newscreation

मानसून बुधवारको सुकमा से थोड़ा आगे बढ़कर बीजापुर में प्रवेश कर चुका है। अगले एक-दो दिन में बस्तर के शेष हिस्से में मानसून सक्रिय हो जाएगा। 17 जून से राज्यभर में बारिश की गतिविधियां भी बढ़ेंगी। मानसून 8 जून को सुकमा पहुंचा था। तब से वह 4 दिन अटका रहा। इस दौरान मानसूनी गतिविधियां कमजोर रहीं। फिर भी पड़ोसी राज्यों के आसपास बने सिस्टम के कारण जून में अब तक अच्छी बारिश हो गई है। राज्य के 9 जिलों में औसत से ज्यादा और तीन जिलों में सामान्य बारिश हो चुकी है। हालांकि शेष 21 जिलों समेत पूरे प्रदेश में औसत से कम बारिश हुई है। कम वर्षा की भरपाई अगले 10 दिनों में होने के आसार हैं।

मानसून सीजन 1 जून से 30 सितंबर तक रहेगा। इस दौरान राज्यभर में 1143 मिमी बारिश होती है। 1 से 10 जून तक प्रदेश में 18.6 मिलीमीटर बारिश हो चुकी है। ये औसत से 33% कम है। यह मानसून सीजनल बारिश के रूप में दर्ज होगी। मानसून अरब सागर और पश्चिमी भारत में लगातार आगे बढ़ रहा है। इस वजह से पिछले 24 घंटे के दौरान बीजापुर में बारिश हुई। इस दौरान करीब 50 मिमी पानी बरस गया। बीजापुर के अलावा उसूर में 43, ओरछा, नारायणपुर और कटेकल्याण में 30, भोपालपट्टनम व पखांजूर में 20, दंतेवाड़ा में 21, कोंडागांव में 17, लोहंडीगुड़ा में 16 तथा अन्य कई जगहों पर हल्की बारिश हुई।

बारिश के कारण बस्तर संभाग में दिन का तापमान काफी कम हो गया है। जगदलपुर में दिन का तापमान 29 डिग्री तक पहुंच गया। वहीं

सीएम विष्णुदेव साय प्रशासनिक कामकाज में कसावट लाने विभागों की 13 जून से समीक्षा करेंगे। बैठकों में जनता से जुड़ी योजनाओं पर फोकस रहेगा। लोकसभा चुनाव की आचार संहिता के कारण तीन महीने से प्रशासनिक कामकाज धीमा चल रहा था।

साय 13 जून को सीएम हाउस में दोपहर 1 बजे कृषि एवं उद्यानिकी विभाग तथा अपरान्ह 3 बजे पशुधन विकास, मत्स्य पालन और दुग्ध महासंघ की समीक्षा करेंगे। विभागों के सचिवों को विभागीय गतिविधियों और योजनाओं की अद्यतन जानकारी के साथ उपस्थित होना है। वे 14 जून को मंत्रालय में सुबह 11.30 बजे स्वास्थ्य सेवाएं तथा अपरान्ह 3 बजे चिकित्सा शिक्षा, खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग की जानकारी लेंगे। बैठक में आयुष्मान भारत, जनता को चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराने वाली योजनाओं की समीक्षा होगी।

बलौदा बाजार कलेक्टर और एसपी दफ्तर में आग लगाने की घटना में बड़े षड्यंत्र की आशंका जताई जा रही है। प्रशासन की जांच अब इस दिशा में जा रही है कि प्रदर्शनकारियों को सुनियोजित तरीके से वहां जुटाया गया और उनके बीच में बाहरी तत्वों को घुसाकर तोड़फोड़ कराई गई। इस मामले में 5 अलग-अलग बिंदुओं पर जांच कराई जा रही है। इसमें सबसे अहम बात ये आ रही है कि साम्प्रदायिक तत्वों को प्रदर्शन में शामिल कराकर उनसे हिंसा कराई गई है।

घटना के दूसरे दिन सरकार ने वहां नए कलेक्टर और एसपी की पदस्थापना कर दी। फिर जांच की दिशा तय की गई है। जांच के दायरे में उन बातों को रखा गया है, जिनमें षड्यंत्र को प्रमुख बिंदु के तौर पर देखा जा रहा है। इसमें पहली बात है कि पूरी घटना कहीं राजनीतिक षड्यंत्र का हिस्सा तो नहीं है।

नंदिनी अहिवारा: अहिवारा विधानसभा के विधायक राजमहंत डोमन लाल कोर्सेवाड़ा ने सतीश साहू को अहिवारा विधानसभा क्षेत्र के लिए अपना प्रतिनिधि नियुक्त किया है। सतीश साहू भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं और पूर्व में भाजपा पार्टी के विभिन्न पदों पर रहते हुए विभिन्न दायित्वों का निर्वहन कर चुका है। नियुक्ति के बाद सतीश साहू ने कहा कि वे अहिवारा क्षेत्र के नागरिकों की हर समस्या को विधायक तक पहुंचाकर उसका जल्द से जल्द निराकरण कराने का प्रयास करेंगे।

 

भिलाई: भिलाई के कैप-1 में बुधवार की अल सुबह करंट लगने से मजदूर चंद्रमनी साहू की मौत हो गई। निर्माणाधीन बिल्डिंग में सैप्टिक टैंक बनाने खोदे गए गड्ढे से पानी निकालने लगाया गया स​ब​-​मर्सिबल पंप ठीक करते समय वह करंट की चपेट में आ गया। पानी के अंदर डूबी मोटर में इस कदर करंट उतरा कि पानी से भरे गड्ढे में वह अचेत होकर गिर गया और मौत हो गई। क्योंकि बिल्डिंग के मालिक पूर्व पार्षद ​जोहन सिन्हा घटना की जानकारी मिलते ही चंद्रमनी को लेकर लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल पहुंचे, जहां अॉन ड्यूटी डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया।

परिजनों की तसल्ली के लिए​ वह चंद्रमनी को सुपेला से लेकर बीएम शाह अस्पताल पहुंचे, वहां के डॉक्टर ने भी उसे मृत बताया। इतना सुनते ही मजदूर के ​परिवार के लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया। अस्पताल परिसर में शुरू हुआ हंगामा समय बीतने के साथ मुआवजे की मांग में ​बदल गया। सूचना मिलते ही क्षेत्रीय पुलिस दल-बल के साथ मौके पर पहुंच गई। दोनों पक्षों से भीड़ बढ़ती देख प्रशासन व स्थानीय लोगों ने दोनों पक्षों से बातचीत शुरू किया। दो घंटे से भी ज्यादा समय तक चली जद्दोजहद के बाद 3 लाख रुपए मुआवजा देने पर बात बनी।

पोल पर लगे बोर्ड से जोड़ा तार, इसलिए उतरा करंट मजदूर चंद्रमनी की जिस सब-मर्सिबल पंप में करंट आने से मौत हुई, उसका कनेक्शन उसने प्लक के पास के विद्युत पोल से लगे बोर्ड में लगाया था। तार लगाने पर मोटर नहीं चली तो वह उसे ठीक करने आसपास के अन्य लोगों के सामने पानी में घुसा। करंट लगने पर पानी में ही गिरकर अचेत हो गया। जब तक कोई देखता उसकी मौत हो गई थी।

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा, लोगों ने पीएम मोदी को देश की सेवा करने के लिए फिर से आशीर्वाद दिया है। रेलवे की बहुत बड़ी भूमिका होगी। पिछले 10 सालों में पीएम नरेंद्र मोदी ने रेलवे में बहुत सारे सुधार किए हैं। चाहे रेलवे का विद्युतीकरण हो, नई पटरियों का निर्माण हो, नई तरह की ट्रेनें हों, नई सेवाएं हों या स्टेशनों का पुनर्विकास हो, ये पिछले 10 सालों में पीएम मोदी की बड़ी उपलब्धियां हैं और पीएम ने रेलवे को फोकस में रखा है क्योंकि रेलवे आम आदमी के परिवहन का साधन है और हमारे देश की अर्थव्यवस्था की बहुत मजबूत रीढ़ है, इसलिए रेलवे पर बहुत फोकस है।

भूपेंद्र यादव ने पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री का कार्यभार संभाला।इस दौरान उन्होंने कहा कि मैं पीएम मोदी का आभार व्यक्त करता हूं कि उन्होंने मुझे एक महत्वपूर्ण मंत्रालय की जिम्मेदारी दी है। मैं इस जिम्मेदारी का निर्वहन करने के लिए पूरी तत्परता से काम करूंगा। मिशन लाइफ की शुरुआत पीएम मोदी ने ग्लासगो सीओपी में दुनिया में पर्यावरण संकट के लिए एक बहुत बड़े एक्शन प्रोग्राम के रूप में की थी। आज मिशन लाइफ सतत विकास और सचेत उपभोग की मदद से पूरी दुनिया में चल रहा है। पीएम मोदी के 'एक पेड़ मां के नाम' अभियान को हमारी धरती को हरा-भरा रखने के लिए पूरी जिम्मेदारी के साथ किया जाना चाहिए। पीएम मोदी के नेतृत्व में पिछले 10 वर्षों में इस मंत्रालय द्वारा कई कदम उठाए गए हैं और हम पर्यावरण और विकास को एक साथ लेकर आगे बढ़ रहे हैं।

गिरिराज सिंह ने कपड़ा मंत्री का पदभार संभाला। पबित्रा मार्गेरिटा ने कपड़ा मंत्रालय में राज्य मंत्री का पदभार संभाला। इस दौरान पूर्व कपड़ा मंत्री पीयूष गोयल भी मौजूद रहे।

कीर्ति वर्धन सिंह ने आज पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री के रूप में कार्यभार संभाला है। कार्यभार संभालने से पहले कीर्ति वर्धन सिंह ने अपने आवास पर पौधारोपण किया।

 

आंध्र प्रदेश में सरकार गठन की तैयारियां तेज हो गई हैं। मंगलवार को तेदेपा और एनडीए ने चंद्रबाबू नायडू को अपना विधायक दल का नेता चुन लिया। विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद तेदेपा, भाजपा और जनसेना गठबंधन के नेता राज्यपाल एस अब्दुल नजीर से मुलाकात करेंगे और सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे। बुधवार को चंद्रबाबू नायडू के साथ कई और नेता भी शपथ ले सकते हैं। नायडू के साथ शपथ लेने वाले नेताओं के नाम मंगलवार को तय कर लिए जाएंगे।विजयवाड़ा में एनडीए गठबंधन के विधायकों की बैठक हुई। इस बैठक में टीडीपी प्रमुख एन चंद्रबाबू नाडयू, जनसेना के प्रमुख पवन कल्याण और आंध्र प्रदेश भाजपा की अध्यक्ष डग्गुबाती पुरुंदेश्वरी समेत एनडीए के सभी विधायक शामिल हुए। इस बैठक में जनसेना प्रमुख पवन कल्याण ने एनडीए की तरफ से चंद्रबाबू नायडू का नाम सीएम पद के लिए प्रस्तावित किया, जिसका सभी विधायकों ने समर्थन किया।

टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू का कहना है, 'बीजेपी, जनसेना और टीडीपी के सभी विधायकों ने मुझे आंध्र प्रदेश की एनडीए सरकार का आगामी मुख्यमंत्री बनने के लिए अपनी सहमति दे दी है।' आंध्र प्रदेश भाजपा अध्यक्ष डॉ. दग्गुबाती पुरंदेश्वरी ने बताया, 'आज एनडीए की बैठक हुई, जिसमें चंद्रबाबू नायडू को एनडीए विधानसभा का नेता चुना गया। हम अभी राज्यपाल के पास आए हैं और उन्हें एक अनुरोध पत्र सौंपा है कि 'वह चंद्रबाबू को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करें'। इस पर राज्यपाल ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उचित प्रक्रियाओं का पालन करते हुए वह उन्हें तुरंत सरकार बनाने के लिए बुलाएंगे। शपथ ग्रहण समारोह कल होगा।'

तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने के बाद नरेंद्र मोदी ने सोमवार शाम को अपने मंत्रियों के विभागों का बंटवारा किया। मोदी ने अपने पुराने सिपहसालारों पर भरोसा करते हुए मंत्रिमंडल में किसी बड़े बदलाव से गुरेज किया है। उन्होंने अमित शाह, राजनाथ सिंह, एस जयशंकर और अश्विनी वैष्णव समेत कई मंत्रियों पर फिर से विश्वास जताया है। वहीं, कुछ मंत्रालय में बदलाव भी किया है। आइए जानते हैं किसने कौन से मंत्रालय का पदभार संभाला। केंद्रीय मंत्री अमित शाह पर पीएम मोदी ने एक बार फिर भरोसा दिखाया। उन्हें फिर से केंद्रीय गृह मंत्री का कार्यभार सौंपा गया है। उन्होंने गृह मंत्री के रूप में कार्यभार संभाल लिया। वहीं, सहकारिता मंत्री का भी कार्यभार संभाला।

इन मंत्रियों ने भी संभाला पदभार
किरेन रिजिजू ने संसदीय कार्य मंत्री, संजय सेठ ने रक्षा मंत्रालय में राज्य मंत्री और एल. मुरुगन ने सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय में राज्य मंत्री का कार्यभार संभाला। वहीं, केंद्रीय मंत्री सुरेश गोपी ने पर्यटन मंत्रालय के राज्य मंत्री का कार्यभार संभाला। साथ ही डॉ. जितेंद्र सिंह ने कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय में राज्य मंत्री, केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री का पदभार संभाला। राजीव रंजन(ललन) सिंह ने पंचायती राज मंत्री और मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री के रूप में पदभार संभाला।
रिजिजू ने कहा, 'संसद में हमारे देश के भविष्य की चर्चा होती है और यहां से निर्णय लेकर हम देश की सेवा करते हैं। हर राजनीतिक दल का मकसद एक है-देश की सेवा...इसलिए संसद चलाने में सबका योगदान चाहिए।'

गुवाहाटी। सबसे अधिक अंतर से लोकसभा के लिए चुने गए कांग्रेस नेता रकीबुल हुसैन ने मंगलवार को असम विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने उपसभापति नुमाल मोमिन और कई कांग्रेस नेताओं की मौजूदगी में विधानसभा अध्यक्ष बिस्वजीत दैमारी को अपना त्यागपत्र सौंपा।धुबरी से निर्वाचित सांसद को कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) द्वारा विदाई भी दी गई। नागांव जिले के सामगुरी से पांच बार विधायक रहे हुसैन मौजूदा विधानसभा में सीएलपी के उपनेता थे।

विदाई समारोह में विपक्ष के नेता देवव्रत सैकिया और मुख्य सचेतक वाजिद अली चौधरी, भरत चंद्र नारा, जाकिर हुसैन सिकदर और नंदिता डेका सहित कई वरिष्ठ नेता और विधायक उपस्थित थे।समारोह को संबोधित करते हुए हुसैन ने कहा कि विधानसभा से निकलकर लोकसभा में प्रवेश करते समय उनके लिए मिश्रित भावनाएं थीं। उन्होंने कहा, 'आज यह गर्व के साथ-साथ दुख का भी क्षण है।'उन्होंने धुबरी के लोगों के प्रति आभार व्यक्त किया, यह सीट उन्होंने 10.12 लाख वोटों से जीती, जो अब तक की सबसे बड़ी जीत थी क्योंकि उन्होंने एआईयूडीएफ के मौजूदा सांसद बदरुद्दीन अजमल को हराया था।

कांग्रेस नेता ने सामगुरी विधानसभा क्षेत्र के लोगों का भी आभार व्यक्त किया।उन्होंने कहा, 'मैं 2001 से सामगुरी से जीतता आ रहा हूं, चाहे लहर कांग्रेस के पक्ष में रही हो या नहीं। मैं लोगों का मुझ पर लगातार भरोसा दिखाने के लिए आभार व्यक्त करता हूं।'हुसैन ने कहा कि हालांकि वह नई दिल्ली के राजनीतिक क्षेत्र में प्रवेश कर रहे हैं, लेकिन वह राज्य की राजनीति में वापस आएंगे।उन्होंने कहा कि वह शुरू में धुबरी से चुनाव लड़ने के लिए अनिच्छुक थे, लेकिन पार्टी नेतृत्व ने उन्हें बताया कि उनकी उम्मीदवारी 'कुछ ताकतों' को हराने के लिए महत्वपूर्ण है। बाद में पत्रकारों से बात करते हुए हुसैन ने कहा कि धुबरी से उनके चुनाव लड़ने का फैसला पार्टी ने लिया था।

महाराष्ट्र में मुंबई एटीएस ने चार बांग्लादेशी नागरिकों को अवैध दस्तावेजों के साथ गिरफ्तार किया। एटीएस ने पांच अन्य बांग्लादेशियों की पहचान की है, जिसकी तलाश जारी है। अधिकारियों ने बताया कि आरोपियों ने फर्जी दस्तावेजों के जरिए वोटर आईडी कार्ड बनवाकर लोकसभा चुनाव में मतदान भी किया।इससे पहले सात जून को ठाणे में अवैध दस्तावेजों के साथ पुलिस ने नौ बांग्लादेशी महिलाओं को गिरफ्तार किया था। इन महिलाओं की मदद करने के आरोप में एक अन्य महिला को भी गिरफ्तार किया गया। इस मामले में एक अधिकारी ने बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर कार्रवाई करते हुए मीरा रोड के शांति नगर और गीता नगर इलाकों में अवैध रूप से रह रही नौ बांग्लादेशी महिलाओं को छापेमारी के बाद पकड़ लिया गया था।बता दें कि इस साल मार्च में भी मुंबई एटीएस ने नवी मुंबई में अवैध तरीके से रहने वाले पांच बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया था। उनमें से किसी के पास भी वैध दस्तावेज नहीं मिला था। पिछले साल एटीएस ने कार्रवाई करते हुए अवैध रूप से नवी मुंबई में रहने वाले नौ बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया था। उनमें से दो बांग्लादेशी नागरिक 2022 में नवी मुंबई के नेरुल पुलिस स्टेशन में दर्ज दुष्कर्म के एक मामले में वॉन्टेड थे।

Page 1 of 5497

Ads

फेसबुक