छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ (8148)

पिछले 3 महीनों में 30 हजार ओपीडी, 200 से अधिक प्रसव

रायपुर के 4 ‘हमर अस्पताल’ में लोगों को मिल रही है कई नई सेवाएं, 42 तरह की जांच की सुविधा, 150 प्रकार की दवाएं निःशुल्क

दंत चिकित्सा, सोनोग्राफी और एक्स-रे की सुविधा भी

रायपुर. 27 नवम्बर 2021

हमर अस्पताल’ ने बदली स्वास्थ्य सेवाओं की सूरत और सीरत

राजधानी रायपुर में संचालित चार ‘हमर अस्पताल’ से शहर में स्वास्थ्य सेवाओं की सूरत और सीरत बदल रही है। कई नई सुविधाओं से लैस इन अस्पतालों में पिछले तीन महीनों अगस्त, सितम्बर एवं अक्टूबर में 30 हजार ओपीडी हुई हैं। इस दौरान यहां 200 से अधिक प्रसव भी कराए गए हैं। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के सहयोग से गुढ़ियारी के शहरी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र तथा राजातालाब, भाठागांव और भनपुरी स्थित शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों का पिछले वर्ष ‘हमर अस्पताल’ के रूप में उन्नयन किया गया है। स्वास्थ्य मंत्री श्री टी.एस. सिंहदेव ने मार्च-2020 में गुढ़ियारी में और नवम्बर-2020 में राजातालाब, भाठागांव और भनपुरी में ‘हमर अस्पताल सेवा’ का शुभारंभ किया था।

हमर अस्पताल’ ने बदली स्वास्थ्य सेवाओं की सूरत और सीरत

लोगों को सुबह से लेकर देर शाम तक चिकित्सा सेवा मुहैया कराने के लिए इन अस्पतालों में सवेरे 8 बजे से रात 8 बजे तक ओपीडी संचालित की जा रही है। यहां की आधुनिक लैब में मरीजों को 42 तरह की जांच की सुविधा मिल रही है। इन अस्पतालों में 150 प्रकार की दवाईयां निःशुल्क उपलब्ध हैं। चारों ‘हमर अस्पताल’ में विगत सात महीनों में कुल 1611 लोगों के आंखों की जांच की गई है। गुढ़ियारी ‘हमर अस्पताल’ में विगत सात महीनों (अप्रैल से अक्टूबर 2021) में 1188 लोगों के दांत के इलाज के साथ ही 320 मरीजों को एक्स-रे सुविधा प्रदान की गई है। राजातालाब और गुढ़ियारी ‘हमर अस्पताल’ में इस साल अगस्त से सोनोग्राफी की सुविधा भी शुरू हो चुकी है। इन दोनों अस्पतालों में अगस्त से अक्टूबर के बीच क्रमशः 151 और 163 मरीजों की सोनोग्राफी की गई है। अन्य ‘हमर अस्पतालों’ में भी दंत चिकित्सा, सोनोग्राफी और एक्स-रे की सुविधा विकसित की जा रही है।

’हमर अस्पताल’ ने बदली स्वास्थ्य सेवाओं की सूरत और सीरत

नियमित टीकाकरण कार्यक्रम के तहत पिछले सात महीनों में चारों ‘हमर अस्पताल’ में कुल 335 बच्चों को हेपेटाइटिस-बी, 282 बच्चों को विटामिन-के की खुराक तथा 405 बच्चों को बीसीजी का टीका एवं ओरल पोलियो वैक्सीन दी गई है। गुढ़ियारी ‘हमर अस्पताल’ की ओपीडी में बीते तीन महीनों में 8709, राजातालाब ‘हमर अस्पताल’ की ओपीडी में 8687, भनपुरी ‘हमर अस्पताल’ की ओपीडी में 7143 और भाठागांव ‘हमर अस्पताल’ की ओपीडी में 5441 लोगों ने अपना इलाज कराया है। इस दौरान गुढ़ियारी ‘हमर अस्पताल’ में 77, राजातालाब ‘हमर अस्पताल’ में 53, भनपुरी ‘हमर अस्पताल’ में 38 और भाठागांव ‘हमर अस्पताल’ में 35 महिलाओं का प्रसव कराया गया है।

रायपुर, 27 नवम्बर 2021

महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिला भेंड़िया शुक्रवार को रायपुर के माना कैम्प में ‘फिजिकल रिफरल रिहैबिलिटेशन संेटर के बढ़ते कदम‘ कार्यक्रम में शामिल हुंई। कार्यक्रम का आयोजन सरगुजा जिले के दिव्यांगजन को कृत्रिम अंग प्रदान करने के उपलक्ष्य में किया गया था। श्रीमती भेंड़िया ने सरगुजा जिले से आए 14 दिव्यांगजनों को कृत्रिम अंग लगने पर मिठाई खिलाकर बधाई दी और फूल मालाओं से उनका सम्मान किया।  

सरगुजा जिले के दिव्यांगजन को कृत्रिम अंग प्रदान
श्रीमती भेंड़िया ने सभी दिव्यांगजन से बातचीत कर उनकी परेशानी जानी और भावी जीवन के लिए शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर उन्होंने फिजिकल रिफरल रिहैबिलिटेशन संेटर (पीआरआरसी) में दिव्यांगजन के लिए कृत्रिम अंग बनाने, लगाने और प्रशिक्षण कक्ष के साथ स्पीच थेरेपी कक्ष का अवलोकन किया। इस दौरान समाज कल्याण विभाग के संचालक पी.दयानंद भी उपस्थित थे।

सरगुजा जिले के दिव्यांगजन को कृत्रिम अंग प्रदान
श्रीमती भेंड़िया ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की मंशा है कि अंतिम छोर के व्यक्ति तक सुविधाओं की पहुंच हो। उनके निर्देशों पर चलते हुए पीआआरसी की टीम सरगुजा के गांव-गांव के दिव्यांगजन तक पहुंची। उन्होंने विभागीय टीम को बधाई देते हुए कहा कि सरगुजा की तरह तरह टीम हर जिले तक पहुंचे। बस्तर के बीहड़ों में जाकर भी जरूरतमंद लोगों तक पहुंचकर अच्छा और जिम्मेदारी के साथ काम करें। उन्होंने कहा कि कृत्रिम अंगों से दिव्यांग लोगों ने आज अपने कदम आगे बढ़ाए हैं,आगे वे जल्दी चलने लगेंगे और अपने परिवारों का सहारा बनेंगे। उन्होंने कहा कि छोटे-बच्चों को फिर से खेलते-दौड़ते देखकर माता-पिता की खुशी को शब्दों में नहीं बताया जा सकता। बड़े हॉस्पिटल में कृत्रिम अंगों के लिए लाखों रूपए खर्च करने पड़तें हैं। समाज कल्याण विभाग की अत्याधुनिक मशीनों से तैयार होकर हितग्राहियों की जरूरत निःशुल्क पूरी हो रही है। इस अवसर पर सरगुजा जिला पंचायत की सभापति सुश्री राधा रवि ने सरगुजा में विशेष शिविर के लिए आभार व्यक्त किया।
उल्लेखनीय है कि समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित पीआरआरसी सेंटर के विशेषज्ञों द्वारा विगत 24 से 30 अक्टूबर तक सरगुजा जिले के 7 विकासखण्डों में शिविर लगाकर 140 दिव्यांग हितग्राहियों को चिन्हांकित किया है। विभाग द्वारा इन हितग्राहियों को 155 क्रत्रिम उपकरण निःशुल्क प्रदान कर उनकी जीवन में फिर से गति लाने का प्रयास किया जा रहा है। 140 दिव्यांगजन में 65 हितग्राहियों के नकली पैर तैयार करने के लिए रायपुर स्थित पीआरआरसी सेंटर लाना है, अन्य को सरगुजा में ही अंग प्रदान किए जाएंगे। प्रथम बैच में 14 दिव्यांगजन को रायपुर लाकर कृत्रिम अंग लगाए गए हैं। शेष दिव्यांगजन को अलग-अलग बैच में रायपुर लाकर कृत्रिम अंग लगाए जाएंगे। सरगुजा की तरह भविष्य में सभी जिलों में दिव्यांगजन के चिन्हांकन के लिए शिविर लगाकर उन्हें निःशुल्क कृत्रिम अंग प्रदान किये जाने की योजना है।

रायपुर. गृह एवं पर्यटन मंत्री ताम्रध्वज साहू धरसींवा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम मनोहरा में साहू समाज द्वारा आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए। इस दौरान मंत्री श्री साहू ने भक्त कर्मा माता मंदिर का लोकार्पण किया। कार्यक्रम में उन्होंने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा विकास के दिशा में लगातार कार्य किए जा रहे हैं। सभी समाज को साथ लेकर विकास के कार्यों को आगे बढ़ाया जा रहा है। छत्तीसगढ़ के विकास में साहू समाज का बड़ा योगदान है। उन्होंने समाज के लोगों को शासन की योजनाओं का लाभ उठाते हुए आगे बढ़ने प्रेरित किया। मंत्री श्री साहू ने कहा कि साहू समाज बहुत मेहनती समाज है। कृषि के साथ अन्य कार्यों में लोग जुड़े हुए हैं। समाज के लोग शिक्षा को अपनाकर और आगे बढ़ सकते हैं। उन्होंने शासन द्वारा चलाई जा रही जन कल्याण कारी योजनाओं की जानकारी देते हुए कहा कि किसानों, मजदूरों के लिए मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में निरंतर कार्य किया जा रहा है। मंत्री श्री साहू ने भक्त कर्मा माता मंदिर में पूजा अर्चना कर सभी लोगों के सुख समृद्धि की कामना की और कहा कि माता कर्मा का आशीर्वाद सभी पर बना रहे। उन्होंने साहू समाज के पत्रिका का विमोचन भी किया। कार्यक्रम में विधायक श्री धनेंद्र साहू, श्री थानेश्वर साहू, प्रदेश अध्यक्ष अन्य पिछड़ा वर्ग, श्री संदीप साहू अध्यक्ष तेलघानी विकास बोर्ड, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती डोमेश्वरी वर्मा, बड़ी संख्या में समाज के लोग और क्षेत्र के जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

रायपुर. छत्तीसगढ़ शासन के नगरीय प्रशासन एवं विकास तथा श्रम मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने आज यहां रायपुर में अपने निवास में अंत्यावसायी वित्त एवं विकास निगम की योजनाओं के हितग्राहियों को चेक प्रदान किया एवं ट्रैक्टर की चाबी सौंपी।

नुसूचित जाति लघु व्यवसाय इकाई योजना के तहत आरंग विकासखण्ड के ग्राम कोड़ापार

डॉ. डहरिया ने अनुसूचित जाति विकास ट्रैक्टर ट्राली योजना के तहत रायपुर जिले के आरंग विकासखण्ड के ग्राम कुलीपोटा के श्री सुजीत कुमार नवरंगे को ट्रैक्टर की चाबी प्रदान की। योजना इकाई लागत 8 लाख 71 हजार रूपए है। इसी तरह से अनुसूचित जाति लघु व्यवसाय इकाई योजना के तहत आरंग विकासखण्ड के ग्राम कोड़ापार के श्री मनोज कुमार जोशी को व्यवसाय शुरू करने के लिए एक लाख रूपए का चेक प्रदान किया।

महिला सशक्तिकरण की मिसाल बनीं जुहली गांव की महिलाएं

रायपुर . अपनी जरूरतों के लिए दूसरों पर आश्रित रहने वाली कई महिलाएं अब अपने परिवार की धुरी बन गई हैं। राज्य शासन की महत्वाकांक्षी योजना सुराजी गांव योजना से इन महिलाओं को आर्थिक रूप से मजबूत होने का नया जरिया मिला है। बिलासपुर जिले के विकासखण्ड मस्तूरी के ग्राम पंचायत जुहली गौठान में संचालित आजीविका की गतिविधियों से जुड़कर जय मां दुर्गा स्व सहायता समूह की महिलाएं महिला सशक्तिकरण की मिसाल साबित हो रही है।
जय मां दुर्गा स्व सहायता समूह की अध्यक्ष श्रीमती इंद्राबाई ने बताया कि हम दस महिलाओं ने मिलकर यह समूह बनाया है। हमारे समूह द्वारा वर्मी कम्पोस्ट खाद निर्माण, बत्तख पालन, मछली पालन एवं बाड़ी विकास का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि समूह द्वारा 154 क्विंटल वर्मी खाद की बिक्री कर उन्होंने लगभग 60 हजार की आमदनी अर्जित की है। उन्होंने बाड़ी विकास के तहत बाड़ी में धनिया, मिर्ची, आलू, मूंगफली जैसी फसल लगाई है। इसका उपयोग वे स्वयं घरांे में भी करती है। इससे इस वर्ष उन्हें 30 हजार रूपए की आमदनी हुई है। इसके अलावा बत्तख पालन एवं मछली पालन भी जय मां दुर्गा स्व सहायता समूह की महिलाएं कर रही है। श्रीमती इंद्राबाई ने बताया कि गौठानांे में संचालित इन गतिविधियों से न केवल उन्हें आर्थिक मजबूती मिली है बल्कि उनका आत्मविश्वास भी बढ़ा है। गांव की अन्य महिलाओं के लिए समूह की महिलाएं प्रेरणा स्त्रोत बन गई है।

कोरोना पीड़ित परिवारों को सहायता राशि वितरित
रायपुर. नगरीय प्रशासन विकास एवं श्रम मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने कहा है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में समाज के सभी वर्गो की खुशहाली के लिए कार्य किए जा रहे हैं। किसान, मजदूरी गांव गरीब के साथ सर्वहारा वर्ग के लिए सरकार द्वारा योजनाबद्ध ढंग से कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना, गोधन न्याय योजना, राजीव गांधी कृषि मजदूर न्याय योजना, राजीव गांधी मितान क्लब, पौनी-पसारी योजना सहित तमाम स्वास्थ्य योजनाएं और शासन की अन्य कल्याणकारी योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है इन योजनाओं से समाज के हर वर्ग का हित निहित है। डॉ. डहरिया आज यहां आरंग में मितानिन सम्मान समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। डॉ. डहरिया ने इसके पहले ग्राम संडी में मितानिन एवं पंचायत प्रतिनिधि सम्मान समारोह में मितानिनों एवं पंचायत के प्रतिनिधियों का सम्मान किया। इस अवसर पर संडी ग्राम के 75 लाख से ज्यादा के निर्माण कार्यों की सौगात दी। आरंग में मितानिन प्रशिक्षण भवन बनाने 20 लाख रूपए की घोषणा की तथा डॉ. डहरिया ने बताया कि आरंग में नये सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भवन के लिए 2 करोड़ 50 लाख रूपए स्वीकृत किए गए हैं। उन्होंने कर्मचारी भवन आरंग में डॉ. अम्बेडकर की भव्य प्रतिमा स्थापित करने की भी घोषणा की।

जा रहे हैं। 

डॉ. डहरिया ने मितानिन सम्मान समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि मितानिन ग्रामीणों को स्वास्थ्य रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही है। डॉ. डहरिया ने संविधान दिवस एवं मतदान दिवस पर सभी को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि संविधान ने सभी वर्गों को सामाजिक-आर्थिक उन्नति के साथ-साथ हर क्षेत्र में बराबरी के साथ आगे बढ़ने का अवसर दिया है। डॉ. डहरिया कार्यक्रम के दौरान कोरोना पीड़ित परिवारों को 50-50 हजार रूपए की सहायता राशि के चेक प्रदान की और मितानिनों को प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया।

डॉ. डहरिया ने कहा कि छत्तीसगढ़ एक ऐसा राज्य है, जहां पर चिटफंड में निवेश करने वालों को उनकी राशि वापिस करने के लिए सरकार कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के हजारों लोग चिटफंड कंपनियों से परेशान थे। उन्होंने बताया कि प्रदेश में करीब 25 करोड़ की राशि चिटफंड कंपनियों के निवेशकों को वापिस करा दी गई है। इस अवसर पर कार्यक्रम में जनपद पंचायत आरंग के अध्यक्ष श्री खिलेश्वर देवांगन, श्री कोमल साहू, श्रीमती रानी पवन धीवर, श्रीमती पुष्पा पिंटू कुर्रे, श्री माखन कुर्रे सहित पंचायतों के प्रतिनिधि एवं नागरिक, अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।

मंत्री श्रीमती भेंड़िया ने पुनर्वास केन्द्र में दिव्यांगजन को मिठाई खिलाकर दी बधाई

रायपुर. महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिला भेंड़िया आज रायपुर के माना कैम्प में ‘फिजिकल रिफरल रिहैबिलिटेशन संेटर के बढ़ते कदम‘ कार्यक्रम में शामिल हुंई। कार्यक्रम का आयोजन सरगुजा जिले के दिव्यांगजन को कृत्रिम अंग प्रदान करने के उपलक्ष्य में किया गया था। श्रीमती भेंड़िया ने सरगुजा जिले से आए 14 दिव्यांगजनों को कृत्रिम अंग लगने पर मिठाई खिलाकर बधाई दी और फूल मालाओं से उनका सम्मान किया।

मंत्री श्रीमती भेंड़िया ने पुनर्वास केन्द्र में दिव्यांगजन को मिठाई खिलाकर दी बधाई
श्रीमती भेंड़िया ने सभी दिव्यांगजन से बातचीत कर उनकी परेशानी जानी और भावी जीवन के लिए शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर उन्होंने फिजिकल रिफरल रिहैबिलिटेशन संेटर (पीआरआरसी) में दिव्यांगजन के लिए कृत्रिम अंग बनाने, लगाने और प्रशिक्षण कक्ष के साथ स्पीच थेरेपी कक्ष का अवलोकन किया। इस दौरान समाज कल्याण विभाग के संचालक पी.दयानंद भी उपस्थित थे।

मंत्री श्रीमती भेंड़िया ने पुनर्वास केन्द्र में दिव्यांगजन को मिठाई खिलाकर दी बधाई
श्रीमती भेंड़िया ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की मंशा है कि अंतिम छोर के व्यक्ति तक सुविधाओं की पहुंच हो। उनके निर्देशों पर चलते हुए पीआआरसी की टीम सरगुजा के गांव-गांव के दिव्यांगजन तक पहुंची। उन्होंने विभागीय टीम को बधाई देते हुए कहा कि सरगुजा की तरह तरह टीम हर जिले तक पहुंचे। बस्तर के बीहड़ों में जाकर भी जरूरतमंद लोगों तक पहुंचकर अच्छा और जिम्मेदारी के साथ काम करें। उन्होंने कहा कि कृत्रिम अंगों से दिव्यांग लोगों ने आज अपने कदम आगे बढ़ाए हैं,आगे वे जल्दी चलने लगेंगे और अपने परिवारों का सहारा बनेंगे। उन्होंने कहा कि छोटे-बच्चों को फिर से खेलते-दौड़ते देखकर माता-पिता की खुशी को शब्दों में नहीं बताया जा सकता। बड़े हॉस्पिटल में कृत्रिम अंगों के लिए लाखों रूपए खर्च करने पड़तें हैं। समाज कल्याण विभाग की अत्याधुनिक मशीनों से तैयार होकर हितग्राहियों की जरूरत निःशुल्क पूरी हो रही है। इस अवसर पर सरगुजा जिला पंचायत की सभापति सुश्री राधा रवि ने सरगुजा में विशेष शिविर के लिए आभार व्यक्त किया।
उल्लेखनीय है कि समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित पीआरआरसी सेंटर के विशेषज्ञों द्वारा विगत 24 से 30 अक्टूबर तक सरगुजा जिले के 7 विकासखण्डों में शिविर लगाकर 140 दिव्यांग हितग्राहियों को चिन्हांकित किया है। विभाग द्वारा इन हितग्राहियों को 155 क्रत्रिम उपकरण निःशुल्क प्रदान कर उनकी जीवन में फिर से गति लाने का प्रयास किया जा रहा है। 140 दिव्यांगजन में 65 हितग्राहियों के नकली पैर तैयार करने के लिए रायपुर स्थित पीआरआरसी सेंटर लाना है, अन्य को सरगुजा में ही अंग प्रदान किए जाएंगे। प्रथम बैच में 14 दिव्यांगजन को रायपुर लाकर कृत्रिम अंग लगाए गए हैं। शेष दिव्यांगजन को अलग-अलग बैच में रायपुर लाकर कृत्रिम अंग लगाए जाएंगे। सरगुजा की तरह भविष्य में सभी जिलों में दिव्यांगजन के चिन्हांकन के लिए शिविर लगाकर उन्हें निःशुल्क कृत्रिम अंग प्रदान किये जाने की योजना है।

 राजधानी के समाजसेवी रुना शर्मा को दादा साहब फाल्के आइकन अवार्ड से सम्मानित किया गया। यह दादा साहब फाल्के आइकन अवार्ड, कल्याणजी जाना द्वारा आयोजन आर्चर्ड पैलेस मुंबई होटेल 24 नवंबर को आयोजित किया गया। इसमें बालीवुड फिल्मों एवं बालीवुड सीरियल्स के के सारे सितारे शामिल थे। साथ ही अलग अलग केटेगरी मे अवार्ड सेरेमनी रखी गई। इसमें रूना शर्मा को छत्तीसगढ़ का स्टेट प्रेसिडेंट एवं समाज सेवा पशु सेवा के साथ ही छत्तीसगढ़ फ़िल्म जगत, छत्तीसगढ़ की सस्कृति सभ्यता को आगे बढ़ाने के लिए दादा साहब फालके आइकॉन अवार्ड से नवाजा गया।

ये अवार्ड अति वरिष्ठ बालीवुड एक्टर बीरबल ने दिया। उल्लेखनीय है कि रूना कोरोना काल में लोगों की मदद की। इसके अलावा पशुओं की देखभाल बीमार होने पर उनके इलाज के लिए हमेशा तत्पर दिखाई देती है। इसी की बदौलत यहां अवार्ड दिए गए है। रूना ने कहा है कि आगे भी समाज सेवा क्षेत्र में योगदान जारी रहेगी। उनका कहना है कि थोड़ा सा मदद ही लोगों के लिए वरदान साबित होती हैं। इसी को देखते हुए रूना अपने टीम के साथ राजधानी के विभिन्न ने गलियों में लोगों की मदद करती रहती हैं।

सिंचाई पंपो के लिए 935 स्थाई और 17,433 अस्थाई विद्युत कनेक्शन

जांजगीर-चांपा. जांजगीर-चांपा की कृषि प्रधान जिले के रूप में अपनी अलग पहचान है। राज्य सरकार की किसान हितैषी योजनाओं से किसानों में समृद्धि और उत्साह का माहौल है। 90 प्रतिशत से अधिक कृषि भूमि सिंचित होने के कारण धान के उत्पादन में जिले ने कीर्तिमान स्थापित किया है। राज्य सरकार की राजीव गांधी किसान न्याय योजना, गोधन न्याय योजना, अल्प कालीन कृषि ऋण माफी योजना, समर्थन मूल्य पर धान खरीदी आदि के माध्यम से जिला समुचित विकास के मार्ग पर दृढ़ता से आगे बढ़ रहा है।

जिले के किसान आर्थिक रूप से समृद्ध व खुशहाल हुए है। किसान जिले का 90 प्रतिशत से ज्यादा कृषि रकबा सिंचित होने का पूरा लाभ ले रहे है। धान उत्पादन में जिले ने कीर्तिमान स्थापित किया है। कोरबा जिले में स्थित हसदेव बांगो जलाशय के माध्यम से रबी और खरीफ दोनों सीजन में धान की फसल के लिए सिंचाई होती है। इसके अलावा जिले में बनाये गये बराज और सिंचाई पंपो के माध्यम से भी सिंचित रकबे में वृद्धि हुई है। छत्तीसगढ़ विद्युत उत्पाद कंपनी द्वारा भी शासन की योजना के तहत कृषकों की खेत में सिंचाई हेतु विद्युत पम्प कनेक्शन लगाने के लिए 49 ग्रामों के कुल 1,083 कृषकों द्वारा पम्प लगाये जाने की स्वीकृति दी गई है। इसके लिए सी.एस.आर. मद से 8 करोड़ 47 लाख रुपये छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत कंपनी के शासन के खाते में जमा की गई है। विगत तीन वर्षो में 935 स्थाई कनेक्शन और 17 हजार 433 अस्थाई विद्युत कनेक्शन सिंचाई पंपो के लिए दिया गया है। जिले में औद्योगिक इकाइयों को पानी उपलब्ध कराने के उद्देश्य से बनाये गये चार बराज, बंसतपुर, मिरौनी और कुदरी के समीप के 2 लाख 49 हजार 617 हेक्टेयर कृषि भूमि में रबी और खरीफ दोनों सीजन में सिंचाई की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। इसके अलावा मिनीमाता बांगो परियोजना के अंतर्गत निर्मित नहरों का रखरखाव का कार्य भी प्राथमिकता के साथ किया जा रहा है।

रायपुर. वृंदावन गौठान का निरीक्षणछत्तीसगढ़ गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष महंत डॉ. रामसुंदर दास ने राजनांदगांव जिले के ग्राम अंजोरा में आदर्श गौठान का निरीक्षण किया। उन्होंने गौठान में निर्मित संरचनाओं एवं महिला स्वसहायता समूहों द्वारा किए जा रहे कार्यों की जानकारी ली। उन्होंने गेंदा फूल की खेती, सब्जी बाड़ी, मत्स्य पालन, फलदार वृक्ष, वृक्षारोपण, वर्मी कम्पोस्ट, मशरूम उत्पादन, बांस शिल्प कार्य, चारागाह के साथ स्वसहायता समूह के कार्यों के लिए निर्मित शेड का अवलोकन किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप अंजोरा के गौठान को मॉडल गौठान के रूप में विकसित किया गया है। गौठान का नाम वृंदावन रखकर इस गौठान को वास्तविक मूर्तरूप दिया गया है।

गौ सेवा आयोग के उपाध्यक्ष श्री मन्ना यादव ने कहा कि अंजोरा गौठान ने अपनी मल्टीएक्टिविटी के लिए पूरे प्रदेश में अलग पहचान बनाई है। शासन द्वारा आने वाले समय में गौठान में गोबर से पेंट बनाने का कार्य किया जाएगा। इस दौरान जनपद पंचायत सीईओ श्री एसके ओझा ने आदर्श वृंदावन गौठान अंजोरा की विस्तृत जानकारी दी। इस दौरान गौठान समिति के अध्यक्ष, विभिन्न विभागों के अधिकारी-कर्मचारी एवं महिला स्वसहायता समूह की सदस्य भी उपस्थित थीं।

Page 1 of 582

फेसबुक