प्रियंका गांधी वाड्रा के सहयोगी और यूपी कांग्रेस अध्यक्ष अजय लल्लू के खिलाफ लखनऊ में धोखाधड़ी का केस दर्ज Featured

लखनऊ। मजदूरों को घर पहुंचाने को लेकर 1000 बस देने के मामले ने अब पूरी तरह से राजनीतिक रंग ले लिया है। सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। वहीं, अब लखनऊ पुलिस ने कांग्रेस की वरिष्ठ नेता प्रियंका गांधी के एक सहयोगी और उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय लल्लू के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज कर लिया है।दोनों पर भारतीय दंड संहिता धारा 420/467/468 के तहत लखनऊ के हजरतगंज थाने में एफआईआर दर्ज किया गया है। आपको बता दें कि दोनों के खिलाफ बसों की लिस्ट में गलत जानकारी देने का आरोप लगाया गया है।
प्रवासी मजदूरों के लिए बसों की व्यवस्था के मुद्दे पर कांग्रेस और भाजपा में घमासान मचा हुआ है। दोनों दलों के बीच मंगलवार को दिनभर आरोप-प्रत्यारोप का दौर चलता रहा। कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश सरकार पर प्रवासी मजदूरों के मामले में घटिया राजनीति करने का आरोप लगाया है। पार्टी ने कहा कि हमारी बसें आगरा के पास खड़ी हैं, लेकिन प्रशासन उन्हें नोएडा और गाजियाबाद जाने नहीं दे रहा है।वहीं, यूपी सरकार ने कहा है कि कांग्रेस की बसों की सूची में कार, एंबुलेंस और ऑटो रिक्शा के नंबर शामिल हैं। कांग्रेस की बसों की लिस्ट में 69 एंबुलेंस, 31 ऑटो है। यह मजदूरों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ है।

कांग्रेस ने कहा- बसों को अनुमति दे यूपी सरकार
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के सचिव ने यूपी सरकार को पत्र भेजकर सभी बसों को अनुमति देने का आग्रह किया है। प्रियंका के निजी सचिव संदीप सिंह ने प्रदेश के गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी को लिखे पत्र में कहा कि आपने हमसे सभी बसें नोएडा और गाजियाबाद पहुंचाने का आग्रह किया। हम बसों को लेकर 3 घंटे से उत्तर प्रदेश की सीमा पर ऊंचा नागला में खड़े हैं, लेकिन आगरा प्रशासन हमें अंदर घुसने नहीं दे रहा है।उन्होंने कहा, हम एक बार फिर यूपी सरकार से कहना चाहते हैं कि यह वक्त संवेदनशीलता दिखाने का है। आप तत्काल हमारी सभी बसों को अनुमति पत्र भेजिए ताकि हम आगे बढ़ सकें। उत्तर प्रदेश के लाखों श्रमिक भाई बहन परेशान हैं। हम सब मिलकर ही इस आपदा की चुनौती से निपट सकते हैं।

Rate this item
(0 votes)

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

फेसबुक