newscreation

newscreation

रायपुर :  किसानों की आमदनी बढ़ी है

नगरीय प्रशासन विकास एवं श्रम मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने कहा है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में प्रदेश में लागू की गई कल्याणकारी योजनाओं का परिणाम है कि विगत ढाई वर्ष में प्रदेश के किसानों की आमदनी बढ़ी है और किसान समृद्धि की राह पर आगे बढ़े हैं। कोरोना काल में भी राज्य की आर्थिक स्थिति अन्य राज्यों से बेहतर रही है। किसानों के खाते में पैसे डाले जाने से राज्य में व्यवसायों में भी वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ सरकार पिछले वर्षों में अन्य राज्यों की तुलना में विकास की राह पर सबसे आगे हैं। डॉ डहरिया ने महासमुंद जिले के सरायपाली में विभिन्न निर्माण एवं विकास कार्यों के लोकार्पण और भूमिपूजन के कार्यक्रम के अवसर पर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए व्यक्त किए । इस दौरान छत्तीसगढ़ वन विकास निगम के अध्यक्ष एवं बसना विधायक देवेंद्र बहादुर सिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती उषा पटेल, नगर पालिका अध्यक्ष  अमृत पटेल, जनपद अध्यक्ष श्रीमती कुमारी भास्कर, जिला पंचायत सदस्य श्रीमती नोविना जगत, गीता बंजारे सहित जनप्रतिनिधिगण, गणमान्य नागरिक विभिन्न समाज के पदाधिकारीगण उपस्थित थे।
मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने डॉ भीमराव अंबेडकर मंगल भवन का लोकार्पण किया। इसके अलावा जल आवर्धन योजना कार्य 27 करोड़ 18 लाख रुपए का भूमि पूजन, डेढ़ करोड़ की लागत से बने सर्व समाज मंगल भवन उद्घाटन, 50 लाख की लागत से बने आश्रय स्थल (रैन बसेरा) का, नरवा, गरवा, घुरवा बाड़ी अंतर्गत 19 लाख रुपये की लागत से बने गोठान निर्माण का लोकार्पण, वार्ड क्रमांक 8 सामुदायिक भवन निर्माण कार्य 20 लाख का भूमि पूजन, वार्ड नंबर 14 शिव मंदिर के पास बड़े तालाब सौंदर्यीकरण का कार्य 1 करोड़ 24 लाख रुपए का भूमि पूजन विभिन्न वार्डों में सीसी रोड बाउंड्री वॉल एवं नाली निर्माण 1 करोड़ 43 लाख रुपए का भूमि पूजन पौनी पसारी बाजार निर्माण कार्य का भूमि पूजन, सतनाम निर्माण कार्य 56 लाख रुपए, मंगल भवन कार्य 20 लाख रुपए का भूमि पूजन किया।
नगरीय प्रशासन विकास मंत्री डॉ. डहरिया ने कहा कि विगत ढाई वर्षों में राज्य को विभिन्न श्रेणियों में अच्छे कार्य करने के लिए राष्ट्रीय स्तर के पुरस्कार मिले है। राज्य शासन द्वारा सभी वर्गों के हितों के लिए अनेक प्रकार की योजनाएं संचालित कर लाभान्वित करने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि पारंपरिक व्यवसाय करने वाले लोगों के लिए पौनी पसारी योजना के तहत निर्माण कार्य एवं राजीव मितान क्लब का गठन नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में किया जा रहा है। इस अवसर पर बसना विधायक  देवेन्द्र बहादुर सिंह ने कहा कि सरायपाली क्षेत्रवासियों के लिए बड़े गर्व की बात है कि सभी समाजों के उपयोग के लिए डॉ. भीमराव अंबेडकर मंगल भवन का आज लोकार्पण किया गया। राज्य शासन द्वारा ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में विभिन्न कार्यों के लिए जरूरत के अनुसार राशि स्वीकृत की जा रही है। इस दौरान नगर पालिका अध्यक्ष  अमृत पटेल ने भी संबोधित किया। इस दौरान मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने 50 लाख रुपए की लागत से बस स्टैण्ड का उन्नयन कार्य, 10 लाख रुपए की लागत से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी की मूर्ति स्थापना के लिए, 25 लाख रुपए की लागत से डॉ. भीमराव अम्बेडकर जी की मूर्ति स्थापना एवं सौंदर्यीकरण कार्य के लिए, वार्ड क्रमांक 05 तथा 14 में 20-20 लाख रुपए की लागत से सामुदायिक भवन निर्माण कार्य के लिए घोषण की। इसी प्रकार 37 करोड़ की लागत से सरायपाली में गौरव पथ निर्माण के लिए आगामी बजट में शामिल करने तथा जोगी तालाब के गहरीकरण एवं सौंदर्यीकरण कार्य के लिए प्राक्कलन भेजने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

रायपुर :  अधिकारी कर्मचारियों को सम्मानित किया गया

प्रदेश में महासमुंद जिला कोविड-19 टीकाकरण में दूसरे स्थान पर है। महासमुंद जिले के नगर पंचायत पिथौरा कोविड के प्रथम एवं द्वितीय डोज का शत प्रतिशत टीकाकरण कराने में प्रदेश में प्रथम स्थान आने पर नगरीय प्रशासन एवं श्रम मंत्री डॉ. शिव कुमार डहरिया ने नगर पंचायत अध्यक्ष श्री आत्माराम यादव, जनप्रतिनिधियों सहित नगर पंचायत पिथौरा एवं स्वास्थ्य विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग के 61 उत्कृष्ट कार्य करने वाले अधिकारी कर्मचारियों को सम्मानित किया गया। इस दौरान उन्होंने कहा कि यह हमारे लिए बड़े ही गर्व की बात है कि कोविड 19 के रोकथाम एवं बचाव के लिए जनप्रतिधियों, अधिकारी कर्मचारियों एवं गणमान्य नागरिको के जागरूकता होने के कारण यहां के लोगों को लक्ष्य के अनुरूप सभी के सहयोग से शत प्रतिशत टीकाकरण होने पर शुभकामनाएं दी।
उन्होंने कहा कि प्रदेश में राज्य शासन और जिला प्रशासन के बेहतर क्रियान्वयन के कारण इसमें कमी आयी। ज़िले में भी सभी के सहयोग के कारण कोरोना की रफ़्तार थमी है ।सभी ने अपनी जान की परवाह किए बिना निस्वार्थ भाव से सेवाएं दी हैं। वहीं जनप्रतिनिधियों और आम जनता ने भी कोरोना की रोकथाम व कोरोना संक्रमित मरीजों की देखभाल व कोरोना से बचाव के लिए लोगों को जागरूक करने में अपनी अहम भूमिका निभाई। मंत्री डॉ. डहरिया ने कहा कि स्वास्थ्य कर्मचारियों, नगर पंचायत के अथक प्रयासों के चलते कोरोना वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज लगाने में शत प्रतिशत लक्ष्य हासिल करने का खिताब नगर पिथौरा को मिला। संक्षिप्त कार्यक्रम लोकनिर्माण सर्किट हाउस पिथौरा में आयोजित था।
कलेक्टर  डोमन सिंह ने बताया कि जिले का पिथौरा नगर पंचायत नौ अक्टूबर को दूसरे चरण के अंतिम पात्र हितग्राही को कोविड का दूसरी डोज लगाकर शत-प्रतिशत टीकाकरण करने वाला पहला नगरीय निकाय बना। इससे पहले पूरा महासमुंद जिले में सभी पात्र लोगों को कोरोना की पहली खुराक दी जा चुकी है। ज़िले में लगभग 50 प्रतिशत पात्र लोगों को दूसरा टीका लगाया जा चुका है। वही पिथौरा नगर में शत-प्रतिशत पात्र लोगों को दूसरी डोज लगाई जा चुकी है। जिले में शुरू की गई कोरोना मुक्त मुहिम और तेज हो गई है। वहीं जिले में लगभग 42 फीसद लोगों का दूसरे चरण का टीकाकरण किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि पिथौरा नगर पंचायत में प्रथम एवं दूसरे चरण के दूसरी डोज के लिए 6,200 पात्र लोगों को टीकाकरण करने का लक्ष्य था, जो पूरा कर लिया गया है। पिथौरा नगर पंचायत जिले की पहली नगर पंचायत बनी, जहां सभी पात्र लोगों को पहली और दूसरी कोरोना की डोज लगाई गई।यहां कोविड टीकाकरण के लिए लोगों में भारी उत्साह देखा गया था। कलेक्टर डोमन सिंह ने नगर पंचायत पिथौरा को दूसरे चरण में पहले लक्ष्य हासिल करने पर वहां के सभी नागरिकों, जनप्रतिनिधियों, स्वास्थ्य कर्मियों, मितानिनों अधिकारी-कर्मचारियों को इसकी बधाई दी । इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक श्री दिव्यांग पटेल,ज़िला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती ऊषा पटेल, नगर पंचायत अध्यक्ष  आत्माराम यादव, जनपद अध्यक्ष श्रीमती सत्यभामा नाग सहित स्वास्थ्य अमला सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।
मंत्री डॉ. डहरिया ने कहा कि कोरोना वैक्सीन की पहली,दूसरी डोज लगाने एवं लोगों को जागरुक करने में सभी की मेहनत रंग ला रही है। इस काम को स्वास्थ्य कर्मचारियों द्वारा बखूबी निभाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि शत प्रतिशत लोग कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाएं, इसके लिए जनप्रतिनिधि ऐसे लोगों को जागरूक व प्रेरित करें, जिन लोगों ने कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगवाने के निर्धारित तिथि को लगवाये। ताकि कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज भी शत प्रतिशत लोगों को लगाने में पूरा ज़िला नंबर वन का खिताब हासिल कर सके। उन्होंने कहा कि देखने में आया है कि लोग कोरोना के प्रति लापरवाही बरतने लगे हैं जो कि सही नहीं हैं, क्योंकि कोरोना का संकट अभी टला नहीं है। लिहाजा जनप्रतिनिधि लोगों को कोरोना से बचाव के लिए सुरक्षा उपाय अपनाने के प्रति जागरूक करें। इस अवसर पर मंत्री डॉ. डहरिया ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में प्रदेश में लागू की गई कल्याणकारी योजनाओं का परिणाम है कि विगत ढ़ाई वर्ष में प्रदेश के किसानों की आमदनी बढ़ी है और किसान समृद्धि की राह पर आगे बढ़े हैं। कोरोनाकाल में भी राज्य की आर्थिक स्थिति अन्य राज्यों से बेहतर रही। किसानों के खाते में पैसे डाले जाने से राज्य में व्यवसायों में भी वृद्धि हुई है।

बिलासपुर। लालबहादुर शास्त्री स्कूल मैदान में इस बार का विजयादशमी महोत्सव खास रहेगा। दशहरा उत्सव समिति शनिचरी बाजार के पदाधिकारियों ने रावण के पुतले के साथ कोराना के पुतले का दहन का निर्णय लिया है। 15 फीट के रावण के पुतले के बाजू में 10 फीट का कोरोना वायरस का पुतला रहेगा। दोनों का साथ-साथ दहन करेंगे। उत्सव की खासियत ये कि इस दौरान मैदान में आम लोगों का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। कोरोना संक्रमण के कारण सावधानी बरती जा रही है।

गुस्र्वार को विजयादशमी है। इस बार अधिकांश समितियों ने विजयादशमी उत्सव ना मनाने का निर्णय लिया है। नगर निगम ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए पुलिस मैदान में आयोजित होने वाले उत्सव को ना मानने का फैसला लिया है। विभिन्न् समितियों ने भी संक्रमण को ध्यान में रखते हुए बीते वर्ष की तरह इस बार भी उत्सव नहीं मनाने का संकल्प लिया है।

दशहरा उत्सव समिति शनिचरी बाजार के पदाधिकारियों ने इस बार भी कुछ अलग करने का संकल्प लिया है। लालबहादुर शास्त्री स्कूल परिसर में अनोखा उत्सव मनाने की तैयारी में समिति के सदस्य जुट गए हैं। स्कूल मैदान में रावण का 15 फीट का पुतला बनाया जा रहा है। रावण के साथ ही कोरोना वायरस का भी पुतला बन रहा है। दोनों पुतला आजू बाजू में खड़े रहेंगे। रावण के साथ ही कोरोना वायरस के पुतले का दहन समिति के सदस्य करेंगे। इस भरोसे और विश्वास के साथ कि देश और दुनिया से कोरोना का अंत हो जाए।

रायपुर । प्रदेश में इस साल समर्थन मूल्य पर धान खरीदी 15 नवंबर से शुरू हो सकती है। इसके लिए प्रशासनिक स्तर पर तैयारी की जा रही है। प्रशासन बारदाने आदि की व्यवस्था में लगे हुए। हालांकि जनप्रतिनिधि और प्रशासनिक अधिकारी ने कब से धान खरीदी होगी वह फिलहाल स्पष्ट नहीं की है। दूसरी ओर प्रदेश के किसान संघों ने 15 नवंबर से धान खरीदी की मांग की जा रही है। किसानों का कहना है कि प्रदेश में दशहरा के बाद धान की कटाई शुरू हो जाती है।

ऐसे में शासन-प्रशासन को 15 नवंबर से धान की खरीदी की जानी चाहिए। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में खरीफ फसल समर्थन मूल्य में धान की खरीदी पिछले साल एक दिसंबर से शुरू की थी। बता दें कि पिछले साल भी किसान संघों ने एक नवंबर से धान की खरीदी की मांग की थी। वहीं भारतीय जनता पार्टी ने भी एक दिसंबर से धान खरीदी को लेकर कांग्रेस सरकार पर सवाल उठाए थे।

कई समस्याओं के निराकरण के संबंध में हुई चर्चा

विगत दिनों अपेक्स बैंक के अध्यक्ष बैजनाथ चंद्राकर ने सहकारी केंद्रीय बैंक के अध्यक्षों की बैठक ली थी। बैजनाथ ने बताया कि बैठक में धान खरीदी सोसायटियों में कमीशन बढ़ाने, उपार्जन केंद्रों की विसंगतियों, भंडारण सुरक्षा, विपणन संघ द्वारा उठाव, शार्टेज, कर्मचारियों की भर्ती आदि की समस्याओं के निराकरण के संबंध चर्चा की। इसके बाद कृषि मंत्री रविंद्र चौबे, वन मंत्री मो. अकबर को प्रतिनिधि मंडल ने प्रतिवेदन प्रस्तुत किया था। जहां प्रतिवेदन में मांग किया है कि प्रदेश में 15 नवंबर से धान की खरीदी की जाए।

बारदाने की समस्या से जूझा था किसान

पिछले साल धान खरीदी को लेकर प्रदेश में समितियों में बारदाने की समस्या के कारण किसानों को परेशानियों का सामना करना पड़ा था। इस साल शासन ने बारदाने की संकट से निपटाने के लिए अगस्त महीने से बारदाने की आपूर्ति बनाए रखने के लिए तैयारी शुरू की है।

 

रायपुर | भले ही मंगलवार को ही प्रदेश से दक्षिण पश्चिम मानसून की विदाई हो चुकी है,लेकिन मौसम में फिर से बदलाव होने वाला है। मौसम विज्ञानियों से मिली जानकारी के अनुसार बंगाल की खाड़ी और उसके आसपास एक कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है। इसके प्रभाव से 16 से 19 अक्टूबर तक प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में बारिश के आसार है। साथ ही अधिकतम व न्यूनतम तापमान में भी गिरावट रहेगी।

मौसम विभाग का कहना है कि गुरुवार 14 अक्टूबर को भी प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। बारिश का क्षेत्र मुख्य रूप से दक्षिण छत्तीसगढ़ रहेगा। बुधवार सुबह से ही राजधानी रायपुर सहित प्रदेश भर में मौसम शुष्क रहा और तेज धूप निकली रही। इसकी वजह से उमस में भी थोड़ी बढ़ोतरी रही। मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा ने बताया कि एक ऊपरी हवा का चक्रवाती घेरा पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी और उसके आसपास है, जो 5.8 किमी ऊंचाई तक फैला हुआ है।

इसके प्रभाव से ही अगले 24 घंटे में एक कम दबाव का क्षेत्र पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी और उसके आसपास बनने की संभावना है। उन्होंने बताया कि निम्न दाब का क्षेत्र पश्चिम उत्तर पश्चिम दिशा की ओर आगे बढ़ते हुए दक्षिणी तटीय ओडिशा व आंध्र प्रदेश तक पहुंचेगा। इसके प्रभाव से ही 15 अक्टूबर को भी प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में हल्की से मध्यम बारिश के आसार है।

प्रदेश से मानसून हो चुका विदा,1098 मिमी वर्षा हुई

मौसम विज्ञानियों से मिली जानकारी के अनुसार प्रदेश से दक्षिण पश्चिम मानसून की विदाई हो चुकी है और अब तक प्रदेश में करीब 1098 मिमी बारिश हुई है। यह बारिश बीते सालों की तुलना में देखा जाए तो 98 फीसद बारिश हो चुकी है।

 

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मारकाम ने कोयला संकट के लिए केंद्र सरकार से श्वेत पत्र जारी करने की मांग की है। मरकाम ने कहा कि देश में कोयला संकट के लिए मोदी सरकार की अदूरदर्शी नीतियां जिम्मेदार है। कोयले के प्रचुर भंडार वाले भारत देश में यदि देश की जरूरतों के अनुरूप भी कोयला उत्पादित नहीं हो पा रहा है तो देश की जनता को यह जानने का हक है कि इस संकट के पीछे कारण क्या है? मोदी सरकार देश की जनता को बताएं कि देश में अचानक कोयले का इतना बड़ा संकट कैसे आ गया कि देश के 10 से अधिक राज्यों में बिजली उत्पादन 30 से 50 प्रतिशत तक कम हो गया। देश को 5 ट्रिलयन इकोनामी और मेक इन इंडिया का ख्वाब दिखाते-दिखाते मोदी भारत को तबाही के कागार पर ले जाकर खड़ा कर दिए।

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में पुलिस महानिरीक्षक और पुलिस अधीक्षकों की कॉन्फ्रेंस 21 अक्टूबर को सुबह 10 बजे रायपुर के न्यू सर्किट हाउस ऑडिटोरियम में होगा।

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के बयान छत्तीसगढ़ के आरएसएस का नागपुर और नक्सलियों का आन्ध्र से संचालन होता है, यहां पर केवल बंधुआ मजदूर है। कांग्रेस ने समर्थन किया है पर प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि मुख्यमंत्री ने संघ की हकीकत को सामने रखा है। कवर्धा तनाव के बाद आरएसएस की जो गतिविधियां एक बार फिर से सामने आई है उससे साफ हो गया कि छत्तीसगढ़ के आरएसएस के कार्यकर्ता नागपुर के हाथों की कठपुतली है। यदि आरएसएस का संचालन छत्तीसगढ़ के लोग कर रहे होते उनमें जरा भी छत्तीसगढ़ के प्रति लगाव होता अपने ही प्रदेश के दंगा भड़काने की साजिश नहीं रची जाति। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने सही कहा है, नक्सली और संघ दोनों समाज के लिए घातक होते हैं। 

रायपुर। कवर्धा की घटना से व्यथित प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपना जन्मदिन नहीं मनाने का निर्णय किया है। डॉ. सिंह अपने जन्मदिन के सभी कार्यक्रम स्थगित कर रहे हैं। बता दें कि 15 अक्टूबर को डॉ. रमन का जन्मदिन है। उन्होंने कवर्धा, राजनांदगांव जिले सहित सभी कार्यक्रम स्थगित कर दिए हैं। कवर्धा की घटना पर डॉ. रमन सिंह ने विरोध करते हुए कहा, ‘15 अक्टूबर को मेरा जन्मदिन है, लेकिन कवर्धा में हुई घटना के कारण मन व्यथित है। भूपेश सरकार ने मेरे निर्दोष कार्यकर्ताओं को जेल में बंद कर रखा है। मैंने विरोध स्वरूप कवर्धा, राजनांदगांव जिले समेत सभी कार्यक्रम स्थगित करने का निर्णय लिया है। वर्चुअल माध्यम से ही शुभकामनाएं प्रेषित करें।’

रायपुर। प्रदेश में 13 अक्टूबर को कोरोना के 28 नए मरीज मिले हैं। इसके साथ ही राज्य में कोविड-19 से संक्रमित होने वालों की कुल संख्या बढ़कर 10,05,598 हो गई। राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि 4 लोगों को संक्रमण मुक्त होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दी गई। वहीं 7 लोगों ने घर में पृथकवास की अवधि पूरी की। राज्य में बुधवार को कोरोना वायरस से संक्रमित किसी भी मरीज की मृत्यु नहीं हुई। अधिकारियों ने बताया कि बुधवार को संक्रमण के 28 नए मामले सामने आए। उन्होंने बताया कि प्रदेश में अब तक 10,05,598 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है, जिनमें से 9,91,821 मरीज इलाज के बाद संक्रमण मुक्त हो गए हैं। राज्य में 207 मरीज उपचाराधीन हैं। राज्य में अभी तक वायरस से संक्रमित 13,570 लोगों की मौत हुई है।

Page 10 of 2931

फेसबुक