newscreation

newscreation

गदर- एक प्रेम कथा हिंदी सिनेमा के इतिहास में सबसे अधिक लोकप्रिय और बॉक्स ऑफ़िस पर सफल फ़िल्मों में शामिल है। अब इसकी रिलीज़ के 20 साल बाद इसके सीक्वल गदर 2 का एलान किया गया है। सनी देओल ने दशहरे के मौक़े पर सोशल मीडिया के ज़रिए गदर 2 का मोशन पोस्टर शेयर करके काफ़ी समय से चली आ रहीं ख़बरों की पुष्टि कर दी है। मोशन पोस्टर में फ़िल्म की मुख्य स्टार कास्ट की जानकारी भी साझा की गयी है।

गदर 2 का निर्देशन अनिल शर्मा ही करेंगे। सनी देओल के साथ अमीषा पटेल और उत्कर्ष शर्मा मुख्य स्टार कास्ट का हिस्सा हैं। गदर 2 की कहानी शक्तिमान तलवार ने लिखी है, जो गदर- एक प्रेम कथा के भी लेखक हैं। संगीत मिथुन का है। फ़िल्म अगले साल सिनेमाघरों में रिलीज़ होगी। गदर 2 का निर्माण अनिल शर्मा ज़ी स्टूडियो के साथ मिलकर कर रहे हैं। सनी ने मोशल पोस्टर शेयर करके लिखा- दो दशकों के बाद आख़िरकार इंतज़ार ख़त्म हुआ। दशहरे के पावन पर्व पर गदर 2 का मोशन पोस्टर हाज़िर है। कथा जारी है...

इससे पहले गुरुवार को सनी ने मोशन पोस्टर की झलक दिखाकर फ़िल्म को लेकर घोषणा का एलान किया था। गदर- एक प्रेम कथा 2001 में 15 जून को रिलीज़ हुई थी। भारत-पाकिस्तान के बंटवारे की पृष्ठभूमि में स्थापित इस प्रेम कहानी में सनी देओल ने एक सिख ट्रक ड्राइवर तारा सिंह का किरदार निभाया था, जबकि अमीषा पटेल सकीना अली के रोल में थीं, जो मुस्लिम पॉलिटिकल लीडर अशरफ अली की बेटी होती है। बंटवारे की ख़ूनी आपाधापी में सकीना अपने परिवार से बिछड़ जाती है।

तारा सिंह उसे पनाह देता और इन दोनों के बीच प्यार हो जाता है। दोनों शादी कर लेते हैं और बेटे जीते का जन्म होता है। कुछ साल बाद सकीना को पता चलता है कि उसके माता-पिता ज़िंदा हैं और लाहौर में हैं। सकीना, तारा और जीते के साथ उनसे मिलने निकलती है, मगर तारा और जीते को वीसा नहीं मिलता। सकीना लाहौर पहुंच जाती है, जहां उसकी शादी करवाने की कोशिश की जाती है। फिर तारा बेटे जीते के साथ सकीना को पाकिस्तान से वापस लाने के मिशन पर निकलता है।

गदर- एक प्रेम कथा के कई दृश्य लीजेंड्री साबित हुए, जो आज भी सोशल मीडिया में वायरल होते हैं। इनमें से एक दृश्य वो है, जब लाहौर में तारा हैंडपम्प उखाड़ता है। फ़िल्म में तारा-सकीना के बेटे जीते का किरदार अनिल शर्मा के बेटे उत्कर्ष शर्मा ने निभाया था, जो जीनियस फ़िल्म से बतौर लीड एक्टर डेब्यू कर चुके हैं और अब सीक्वल का हिस्सा भी हैं। अशरफ़ अली के किरदार में अमरीश पुरी ने यादगार परफॉर्मेंस दी थी। गदर- एक प्रेम कथा ने बॉक्स ऑफ़िस पर भी सफलता की अभूतपूर्व कहानी लिखी थी और सनी देओल के करियर की सबसे कामयाब फ़िल्मों में शामिल है।

बिग बॉस 14 फेम राहुल वैद्य का ‘गरबे की रात’ सॉन्ग इस वक्त काफी चर्चा में हैं। इस गाने को राहुल ने हाल ही में नवरात्रि के मौके पर रिलीज किया है। गाना सोशल मीडिया पर काफी वायरल भी हो रहा है, लेकिन अब इस सॉन्ग की वजह से राहुल एक मुसीबत में पड़ गए हैं। राहुल वैद्य को जान से मारने की धमकी दी जा रही है। दरअसल, इस गाने में गुजरात में पूजी जाने वाली ‘श्री मोगल मां’ का जिक्र किया गया है जो लोगों को पसंद नहीं आ रहा है। ‘मोगल मां’ के भक्तों ने गाने में उनका ना होने पर आपत्ति जताई है, साथ लोग सिंगर को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। इस गाने के रिलीज़ होने के बाद राहुल को लगातार धमकी भरे मैसेज आ रहे हैं जिनमें सॉन्ग को बैन करने की मांग की जा रही है।

राहुल वैद्य के प्रवक्त ने इन मैसेज और खबर की पष्टि की है। प्रवक्त ने कहा, ‘हां यह सच है कि कल रात से ऐसे मैसेज और कॉल की संख्या बढ़ गई है। मैसेज में लोग राहुल वैद्य को जान से मारने, पीटने और उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की बात कह रहे हैं। हम ये बताना चाहते हैं कि हमने देवी मां का जिक्र सम्मान के तौर पर किया है, हमारा मकसद किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाना नहीं है। हालांकि, इस तथ्य को समझते हुए कि एक खास वर्ग के लोगों को ये अच्छा नहीं लगा, हम इसका सम्मान करते हैं और अपने स्तर पर इसे ठीक करने के लिए काम कर रहे हैं। हम आप सबसे आग्रह करते हैं कि हमें कुछ दिन दे दें क्योंकि ये गाना रिलीज़ हो चुकी है तो उसमें सुधार करने में थोड़ा वक्त लगेगा। हम आपको यकीन दिलाते हैं कि हम उन सभी लोगों का और उनकी भावनाओं का सम्मान करते हैं जिन्होंने अपत्ति जताई है। हम इस ठीक करने की कोशिश कर रहे हैं’।

चंडीगढ़. पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) की कलह भरी राजनीति में एक बार फिर स्थितियां शांत होती दिख रही हैं. एक ओर जहां नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) के तेवर में नरमी आई वहीं कांग्रेस हाईकमान ने भी उनके लिए नरम रुख अख्तियार किया. हालांकि सिद्धू से यह स्पष्ट कहा गया है कि उन्हें पार्टी लाइन पर ही ला होगा. सिद्धू ने गुरुवार को संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल तथा पंजाब प्रभारी हरीश रावत से मुलाकात की. सिद्धू ने दोनों नेताओं को उन मुद्दों से अवगत कराया जिनको लेकर उन्होंने पिछले दिनों पद से इस्तीफा दे दिया था. सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस मुख्यालय पर करीब सवा घंटे तक चली बैठक में पंजाब सरकार और संगठन से जुड़े मुद्दों पर चर्चा हुई तथा सहमति बनाने का प्रयास हुआ ताकि चुनाव से पहले पूरी पार्टी एकजुट होकर मैदान में उतर सके.

सूत्रों ने यह भी बताया कि फिलहाल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के नेतृत्व में बदलाव के आसार कम हैं क्योंकि विधानसभा चुनाव में कुछ महीने का समय रह गया है. ऐसे में कांग्रेस आलाकमान सिद्धू के इस्तीफे को लेकर उनके और पार्टी दोनों के लिहाज से कोई सम्मानजनक फैसला कर सकता है. माना जा रहा है कि अगले एक या दो दिनों में निर्णय हो सकता है.
बैठक के बाद रावत ने कहा, ‘सिद्धू और मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी जी बातचीत कर चुके हैं. कुछ चीजें ऐसी होती हैं जिनमें समय लगता है….कांग्रेस अध्यक्ष का फैसला सबको स्वीकार होगा.’ उन्होंने कहा कि जब सिद्धू को प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया था तो उस वक्त उनसे कहा गया था कि वह संगठन को मजबूत करें.

नई दिल्ली । देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने वैचारिक मतभेद भुलाकर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के साहस की जमकर प्रशंसा की है। शंघाई कॉपरेशन ऑर्गनाइजेशन के एक सेमिनार में बोलते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि उन्होंने न सिर्फ सालों तक देश का नेतृत्व किया बल्कि युद्ध के समय में भी नेतृत्व प्रदान किया। सशस्त्र बलों में महिलाओं की भूमिका पर बोलते हुए रक्षा मंत्री ने रानी लक्ष्मीबाई और पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल का भी जिक्र किया और कहा कि राष्ट्रीय विकास में महिला शक्ति की भूमिका को लेकर भारत का अनुभव सकारात्मक रहा है।
राजनाथ सिंह ने कहा कि सशस्त्र बलों में महिलाओं की भूमिका पर बातचीत करना ठीक है, लेकिन सुरक्षा और राष्ट्र-निर्माण के सभी क्षेत्रों में उनके व्यापक योगदान को पहचाना जाना चाहिए। उन्होंने कहा, 'देश की रक्षा और लोगों के अधिकारों के लिए इतिहास में महिलाओं के हथियार उठाने के अनेक उदाहरण हैं। रानी लक्ष्मीबाई उनमें सबसे प्रमुख हैं।' रक्षा मंत्री ने कहा, 'भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने न केवल वर्षों तक देश की कमान संभाली, बल्कि युद्ध के समय भी नेतृत्व किया। कुछ साल पहले प्रतिभा पाटिल भारत की राष्ट्रपति और भारतीय सशस्त्र बलों की सर्वोच्च कमांडर थीं।'
इंदिरा गांधी के प्रधानमंत्री रहने के दौरान भारत ने पाकिस्तान के खिलाफ 1971 की जंग जीती थी और एक नया देश, बांग्लादेश बना था। सिंह ने कहा कि पालक और रक्षक के तौर पर सदियों से महिलाएं भूमिका निभाती आ रही है। उन्होंने कहा, 'सरस्वती ज्ञान, बुद्धि और शिक्षा की देवी हैं तो मां दुर्गा रक्षा, शक्ति, विनाश और युद्ध की देवी हैं।' उन्होंने कहा कि भारत उन कुछ देशों में शामिल है जिन्होंने सशस्त्र बलों में महिलाओं की भागीदारी के लिए जल्द पहल की और महिलाओं की भर्ती स्थायी कमीशन के रूप में सेना में होने लगी है। राजनाथ सिंह ने कहा, 'महिलाएं 100 साल से अधिक समय से भारतीय सैन्य नर्सिंग सेवा में गौरव के साथ सेवाएं दे रही हैं। भारतीय सेना में महिला अधिकारियों की भर्ती 1992 में शुरू हुई थी। अब सेना की अधिकतर शाखाओं में महिला अधिकारियों की भर्ती की जाने लगी है।' उन्होंने कहा कि अगले साल से महिलाएं राष्ट्रीय रक्षा अकादमी में प्रशिक्षण प्राप्त कर सकेंगी।

पणजी। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बृहस्पतिवार को विश्वास जताया कि गोवा में सत्तारूढ़ भाजपा अगले साल फरवरी में होने वाले विधानसभा चुनाव में पूर्ण बहुमत हासिल कर एक बार फिर राज्य में सरकार बनाएगी। उन्होंने कहा कि गोवा और केंद्र में भाजपा की डबल इंजन सरकार से राज्य के विकास में मदद मिलेगी। दक्षिण गोवा के धारबंदोरा गांव में राष्ट्रीय फोरेंसिक विज्ञान विश्वविद्यालय (एनएफएसयू) की आधारशिला रखने के बाद एक समारोह को संबोधित करते हुए उन्होंने यह भी कहा कि 15 नवंबर से चार्टर्ड उड़ानें गोवा में पहुंचनी शुरू हो जाएंगी।
उन्होंने कहा, अभी चुनाव में समय है। लेकिन मैं गोवा के लोगों से अपील कर रहा हूं कि वे केंद्र में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व के तहत राज्य में भाजपा की सरकार चुनने का मन बनाएं। उन्होंने कहा, यह डबल इंजन सरकार राज्य के विकास को जारी रखने में मदद करेगी। अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव बहुदलीय होने जा रहे हैं, क्योंकि सत्तारूढ़ भाजपा, विपक्षी कांग्रेस, ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी), अरविंद केजरीवाल की अगुवाई वाली आम आदमी पार्टी (आप) सहित कई क्षेत्रीय पार्टियां मैदान में उतरने की तैयारी कर रही हैं। महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ पार्टी शिवसेना ने भी 40 सीटों वाली गोवा विधानसभा के लिए चुनाव लड़ने का फैसला किया है। साल 2017 के गोवा विधानसभा चुनावों में कांग्रेस 40 में से 17 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी थी। हालांकि, 13 सीटें हासिल करने वाली भाजपा ने तेजी से कुछ क्षेत्रीय दलों के साथ हाथ मिलाकर सरकार बना ली थी। केंद्रीय मंत्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री ने 15 नवंबर से चार्टर्ड उड़ानों की अनुमति देने का फैसला किया है। उन्होंने कहा, मुझे यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि इसके बाद राज्य में पर्यटक चार्टर्ड उड़ान में सफर शुरू कर देंगे। शाह ने राज्य में पूरी पात्र आबादी को कोविड-19 वैक्सीन की पहली खुराक देने के लिए प्रमोद सावंत के नेतृत्व वाली सरकार की सराहना करतेउससे दूसरी खुराक देने की प्रक्रिया को जल्द से जल्द पूरा करने की अपील की।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार प्रदेश का दौरा कर रहे हैं। अगले साल विधानसभा के चुनाव होने हैं। ऐसे में अपने कामकाज को लेकर वह जनता के बीच जा रहे हैं। बुधवार को वह अपने क्षेत्र गोरखपुर में थे जहां उन्होंने दावा किया कि विकास के पथ पर उत्तर प्रदेश लगातार बढ़ रहा है। इसके साथ ही योगी आदित्यनाथ ने कहा कि वर्तमान में उत्तर प्रदेश भारत की उभरती हुई अर्थव्यवस्था बन गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह बयान जंगल कौड़िया में स्थित महंत अवैद्यनाथ महाविद्यालय का लोकार्पण करने के बाद अपने संबोधन में दिया। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश बदल रहा है और अब यह देश की उभरती अर्थव्यवस्था है। उन्होंने दावा किया कि केंद्र की 44 योजनाओं के क्रियान्वयन के साथ ही उप्र शीर्ष स्थान पर है।
अपने संबोधन में योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश में दुनिया के लिए निवेश का सर्वश्रेष्ठ स्थान बन गया है और हम सभी को देश के श्रेष्ठ अर्थव्यवस्था में उत्तर प्रदेश का नाम शामिल करने के लिए मिलकर काम करना होगा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने महंत अवैद्यनाथ की 12 फुट ऊंची मूर्ति का अनावरण भी किया। योगी ने दावा किया कि सुरक्षा के माहौल के मामले में उत्तर प्रदेश देश में सर्वश्रेष्ठ है। पिछले चार वर्षों के दौरान राज्य की 30,000 महिला पुलिसकर्मी इस बात की गारंटी दे रही हैं कि राज्य में महिलाएं और बेटियां सुरक्षित हैं। उन्होंने यह भी कहा कि उनकी सरकार ने कोविड-19 महामारी को रोकने में सफलता पाई है। इसके साथ ही योगी ने विपक्ष पर भी निशाना साधा। योगी ने कहा कि प्रदेश की पिछली सरकारों के कार्यकाल के दौरान सड़कें चौड़ी नहीं थीं, बिजली की आपूर्ति अच्छी नहीं थी, गरीबों को राशन नहीं मिल रहा था और महिलाओं को सुरक्षा की गारंटी नहीं थी। लेकिन जब अच्छी नियत से काम किया जाता है तो उसका परिणाम भी अच्छा होता है। मुख्यमंत्री ने यह भी दावा किया कि पूर्व में किसानों को अपनी उपज का सही दाम नहीं मिलता था। लेकिन मौजूदा सरकार ने अनेक क्रय केंद्र खोलकर किसानों का अनाज समर्थन मूल्य पर खरीदा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में गोरखपुर शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं का केंद्र बनता जा रहा है। एक महीने के अंदर मोदी द्वारा यहां के एम्स का उद्घाटन किया जाएगा। इसके अलावा गोरखपुर आयुष विश्वविद्यालय का निर्माण भी किया जा रहा है।

 

पेइचिंग । चीन की एक दुल्हन ने 60 किलो सोने के आभूषणों से श्रंगार क्या किया कि उसका चलना भी मुश्किल हो गया। ऐसा ही एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। दुल्हन ने अपनी शादी के दिन 60 किलो सोने के गहने पहने। हुबेई प्रांत की रहने वाली इस दुल्हन को शादी वाले दिन सब देखते ही रह गए। 30 सितंबर को अपनी शादी में पहने भारी भरकम जेवरों के चलते दुल्हन की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। वायरल तस्वीर में दुल्हन शादी की सफेद ड्रेस और हाथों में गुलाब के फूलों का एक गुलदस्ता पकड़े नजर आ रही है। गहनों के वजन के चलते दुल्हन का हिलना भी मुश्किल था और चलने के लिए वह दूल्हे की मदद ले रही थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दुल्हन को ये जेवर उसके पति ने दहेज के रूप में दिए थे। दूल्हे ने उसे सोने के 60 नेकलेस दिए और प्रत्येक का वजन एक किलोग्राम था। नेकलेस के अलावा वह हाथों में भारी कंगन भी पहने हुए है।
कंगन दूल्हे के परिवार ने उसे तोहफे में दिए थे। बताया जा रहा है कि दूल्हा के परिवार बेहद अमीर है। अक्सर लोग जेवर सामाजिक तौर पर लोगों को दिखाने के लिए पहनते हैं लेकिन इस दुल्हन को देखकर शादी में आए लोगों को तरस आ रहा था। शादी में आए एक मेहमान ने दुल्हन से मदद के लिए पूछा जिस पर उसने मुस्कुरा कर मना कर दिया। उसने कहा कि वह ठीक है और शादी के रीति-रिवाजों का पालन करना जारी रखेगी। स्थानीय लोग यहां सोने को 'गुड लक' का प्रतीक मानते हैं। यहां लोगों के लिए सोना वैभव और अमीरी की निशानी भी है। लोग बुरी आत्माओं और बुरी किस्मत से छुटकारा पाने के लिए भी सोने का इस्तेमाल करते हैं। ढेरों नेकलेस और कंगन पहने हुए दुल्हन की तस्वीरें सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही हैं।

ढाका । बांग्लादेश में शक्ति पर्व दुर्गापूजा के दौरान हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ के बाज दंगे भड़कने की खबर है। इस दंगे में तीन लोगों के मारे जाने और कई लोगों के घायल होने की खबर है। फिलहाल स्थिति को कंट्रोल करने के लिए बांग्लादेश सरकार ने 22 जिलों में अर्द्धसैनिक बलों की तैनाती कर दी है। बांग्लादेश से प्राप्त खबर के मुताबिक, ढाका से करीम 100 किलोमीटर की दूरी पर कमिला नाम की जगह पर ईशनिंदा के आरोपों के बाद मंदिर में तोड़फोड़ की गई। खबर के मुताबिक, हिंसक झड़पें बढ़ती देख पुलिस ने स्थिति को नियंत्रित करने की कोशिश की। रिपोर्ट के मुताबिक, चांदपुर के हाजीगंज, चत्तोरग्राम के बांसखली और कॉक्स बाजार के पेकुआ में भी मंदिरों के अंदर तोड़फोड़ की घटनाएं दर्ज की गईं।
मीडिया के मुताबिक, स्थिति नियंत्रण से बाहर चली गई और एक के बाद एक कई दुर्गा पूजा स्थलों पर दंगे भड़कने लगे। खबर के मुताबिक, दंगों में कम से कम तीन लोग मारे गए हैं और कई लोग घायल हो गए हैं। ये तीन मौतें चांदपुर के हाजीगंज इलाके में पुलिस और भीड़ के बीच हुई झड़प के दौरान हुईं। केंद्रीय धार्मिक मंत्रालय ने मामले को लेकर एक इमरजेंसी नोटिस जारी कर जनता से कानून अपने हाथ में नहीं लेने की अपील की गई है। प्रशासन ने आम लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। अधिकारियों ने कहा है कि अपराधियों को नहीं बक्शा जाएगा। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अधिकारियों को अपराधियों को जल्द से जल्द पकड़ने के आदेश दिए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, स्थिति हाथ से बाहर जाते देख बांग्लादेश सरकार ने देश की पुलिस रैपिड एक्शन बटालियन (आरएबी) की एंटी टेररिजम यूनिट और अर्द्धसैनिक बल यानी बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) को तैनात किया गया है।

वॉशिंगटन । कहते है गृहों की चाल को कोई नहीं समझता पर खगौल वैज्ञानिकों ने अपनी कोशिशें छोड़ी नहीं अब खबर आ रही है कि सौर तूफान धरती की तरफ तेजी से आ रहा है। इसकी चेतावनी अमेरिकी वैज्ञानिकों ने दी है। बता दें कि सौर तूफान काफी भयंकर रूप से धरती के करीब तेजी से बढ़ रहा है और अगले कुछ घंटो में यह तूफान धरती से टकराने वाला है। इस भयंकर सौर तूफान के आने से घरती पर काफी भयंकर आसर पड़ने वाला है। बिजली ठप हो सकते हैं और आपके माबोइल सिग्नल समेत जीपीएस पर भी असर पड़ सकता है। वैज्ञानिकों ने चेताया है कि, अंतरिक्ष से आ रही नॉर्दन लाइट्स को अमेरिका और यूके में भी देखा जाएगा। बता दें कि अमेरिकी नेशनल ओशनिक एंड एटमॉस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन ने सौर तूफान को लेकर अलर्ट जारी किया है। बता दें कि इस सौर तूफान से धरती के कई हिस्सों में बिजली गिरने की आंशका है और बताया जा रहा है कि इस तूफान से कई जगहों पर मजबूत चुंबकीय बल भी महसूस किया जा सकता है। पावर ग्रिड को इससे कापी नुकसान पहुंच सकता है। यह 11 अक्टूबर से शुरू हो गया है और इसका सबसे ज्यादा खतरनाक असर 13 अक्टूबर को देखने को मिले है। हालांकि, अमेरिकी स्पेस वेदर प्रिडिक्शन सेंटर (एसडब्ल्यूपीसी) के मुताबिक, यह तूफान जी2 श्रेणी में आता है जिससे कई उपग्रहों को भी नुकसान पहुंच सकता है।

नई दिल्ली. भारत में चलाए जा रहे टीकाकरण अभियान को दुनिया भर के 30 से अधिक देशों ने मान्यता दे दी है। अब इन देशों में भारत सरकार द्वारा जारी वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट को दिखाकर भारतीय नागरिक यात्रा कर सकेंगे और उन्हें किसी भी प्रकार के प्रतिबंध का सामना नहीं करना पड़ेगा। हालांकि, ब्रिटेन की ओर से अभी भी भारत के टीकाकरण अभियान को पूरी तरह से मान्यता नहीं दी गई है। 


जिन देशों ने भारत के टीकाकरण अभियान को मान्यता दी है, उनमें फ्रांस, जर्मनी, नेपाल, बेलारूस, लेबनान, आर्मेनिया, यूक्रेन, बेल्जियम, हंगरी और सर्बिया शामिल हैं। पिछले सप्ताह विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्वीट कर जानकारी दी कि हंगरी और सर्बिया भी उन देशों की सूची में शामिल हो गए हैं, जिन्होंने भारत के टीकाकरण को मान्यता दी है। 


यात्रा में मदद करेगा सर्टिफिकेट 
अरिंदम बागची ने कहा कि जिन देशों ने भारत को मान्यता दे दी है। उन देशों में लोग शिक्षा, व्यवसाय, पर्यटन और अन्य चीजों के सर्टिफिकेट दिखाकर यात्रा कर सकेंगे। हालांकि, कुछ ऐसे देश हैं जहां की यात्रा के लिए भारत के लोगों को कोविड-19 परीक्षण व अन्य तरह के प्रतिबंध का सामना करना पड़ेगा। इसमें दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, बांग्लादेश, बोत्सवाना, चीन और यूरोप के कुछ देश शामिल हैं। 

भारत के कड़े रुख के बाद झुके कई देश
30 से अधिक देशों द्वारा भारत के टीकाकरण अभियान को मान्यता उस समय दी गई है जब भारत सरकार ने ब्रिटेन पर सख्त नियम लागू किए थे। ब्रिटेन ने भारतीय यात्रियों को अनिवार्य रूप से क्वारंटीन करने का फैसला किया था। इसके बाद भारत ने भी 11 अक्तूबर से ब्रिटिश नागरिकों के लिए सख्त क्वारंटीन का नियम लागू कर दिया था। भारत के कड़े तेवरों को देखते हुए ब्रिटेन ने यह क्वारंटीन का नियम वापस ले लिया था। अब कोविशील्ड या  ब्रिटिश सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त अन्य वैक्सीन का पूरा टीकाकरण करवा चुके लोग ब्रिटेन की यात्रा कर सकते हैं। 

Page 8 of 2931

फेसबुक