newscreation

newscreation

वाशिंगटन । अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन की तबीयत खराब हो गई है। उन्हें उपचार के ‎लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनकी संक्रमण के कारण तबीयत खराब होना बताया जा रहा है। उन्हें दक्षिणी कैलिफोर्निया के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन अब उनके ‘‘स्वास्थ्य में सुधार’’ हो रहा है। क्लिंटन के प्रवक्ता ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी।
क्लिंटन (75) के प्रवक्ता एंजेल यूरेना ने एक बयान में बताया कि पूर्व राष्ट्रपति को संक्रमण के कारण मंगलवार शाम को ‘यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया इरविन मेडिकल सेंटर’ में भर्ती कराया गया था। वह कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं हैं। उरेना ने कहा, ‘‘उनके स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है और वह अच्छा महसूस कर रहे हैं। वह बेहतरीन तरीके से उनकी देखभाल करने के लिए चिकित्सकों, नर्सों और अस्पताल कर्मियों के अत्यंत आभारी हैं।’’कैलिफोर्निया के प्रवक्ता की ओर से जारी दूसरे बयान में चिकित्सकों डॉ. अल्पेश अमीन और डॉ. लीसा बर्डाक के हवाले से बताया गया कि पूर्व राष्ट्रपति को एंटीबायोटिक दवाएं और तरल पदार्थ दिया गया है। चिकित्सकों ने कहा, ‘‘दो दिन के उपचार के बाद उनकी श्वेत रक्त कणिकाओं की संख्या कम हो रही है और एंटीबायोटिक दवाओं का उन पर असर हो रहा है। कैलिफोर्निया स्थित चिकित्सकों का दल (पूर्व) राष्ट्रपति के हृदय रोग विशेषज्ञ सहित न्यूयॉर्क स्थित उनके चिकित्सकों के दल के लगातार संपर्क में है। हमें उम्मीद है कि वह जल्द ही घर जा पाएंगे।” लंबे समय तक सीने में दर्द और सांस लेने में तकलीफ के बाद 2004 में उनकी बाईपास सर्जरी हुई थी।
एक फेफड़े के आंशिक रूप से काम करना बंद कर देने के कारण 2005 में उनकी एक और सर्जरी हुई थी और 2010 में कोरोनरी धमनी में स्टेंट लगाए गए थे। इसके बाद उन्होंने शाकाहार लेना आरंभ किया, जिससे उनका वजन कम हुआ और स्वास्थ्य में सुधार हुआ। बता दें ‎कि 2001 में व्हाइट हाउस छोड़ने के बाद के क्लिंटन स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना कर रहे हैं।

 

मंदसौर । मप्र के मंदसौर जिले की सीतामऊ तहसील में चंबल नदी किनारे बसा हुआ छोटा सा ग्राम भगोर। यहां नवरात्र के समापन पर नवमी को ज्वारा विसर्जन के साथ ही चूल भी जलाई गई। ग्रामीण इसे वाड़ी विसर्जन कहते हैं। आस्था और भक्ति से सराबोर भक्त अंगारों पर चल कर अपनी भक्ति की अग्नि परीक्षा देते हैं। इस तरह के आयोजन जिले के कई गांव में होते हैं।

नवरात्र में घट स्थापना से लेकर नवमी तक श्रद्धालु मां की आराधना के दौरान गरबा रास और अन्य कार्यक्रम हुए। नवरात्र के अंतिम दिन माता के विसर्जन के दौरान दिनभर हवन पूजन का कार्यक्रम हुआ। शाम को चूल प्रज्ज्वलित की गई।कहा जाता है कि अपनी मन्‍नत पूरी होने पर यह परंपरा निभाई जाती है।

आठ फीट लंबी चूल को देशी घी व लकड़ियों से किया प्रज्ज्वलित

नवमी पर गुरुवार को ज्वारा विसर्जन के दौरान करीब ढाई फीट चौड़ी और आठ फीट लंबी चूल बनाई गई। इसमे सूखी लकड़ियां व कोयले डाले गए। इसके बाद ग्रामीणो ने देशी घी डालकर पूजा अर्चना कर विधि विधान से अग्नि को प्रज्ज्वलित की। इसके बाद माता के लगभग 200 से अधिक भक्त इन दहकते अंगारों पर नंगे पैर निकले।

अब तक नही हुआ कोई हादसा

ग्रामीणों व भोपाजी का कहना है कि यह सब माता की भक्ति व उसके प्रति आस्था का ही कमाल है। चूल के बीच से इन अंगारों पर आज तक कभी कोई भक्त न तो चोटिल हुआ है और न ही कोई दुर्घटना हुई है। भक्तों में आस्था भी ऐसी है कि दहकते अंगारों पर बच्चे भी बेखौफ होकर निकल जाते हैं।

 

मार्गो को किया गया डायवर्ट

होशंगाबाद। होशंगाबाद से बाबई राज्य राजमार्ग 67 पर स्थित तवा पुल पर जारी मरम्मत कार्य के पूर्ण होने तक सभी प्रकार के वाहनों का आवागमन पूरी तरह प्रतिबंधित किया गया है। इस संबंध में तवा पुल की मरम्मत कार्य के लिए भारी वाहनों के मार्ग को परिवर्तित किए जाने के लिए गठित समिति के निर्णयानुसार कलेक्टर होशंगाबाद श्री नीरज कुमार सिंह ने आदेश जारी किए है।
होशंगाबाद से बाबई के बीच तथा नदी पर निर्मित पुल जर्जर होने के कारण तवा पुल के मरम्मत का कार्य मेसर्स मिश्रा कंस्ट्रक्शन कंपनी भोपाल द्वारा किया जा रहा है। समिति द्वारा प्रतिवेदित किया गया है कि तवा नदी पर निर्मित सड़क पुल जो जिला होशंगाबाद से पिपरिया होते हुए छिंदवाड़ा, नरसिंहपुर, रायसेन आदि जिलों को जोड़ने वाला पुल है। पुल काफी समय पूर्व निर्मित होने से भारी वाहनों के अत्याधिक आवागमन से मरम्मत योग्य हो गया है, जिसकी मरम्मत न होने से अप्रिय घटना घटित होने एवं सुगम यातायात मार्ग अवरुद्ध होने की संभावना है , जिसके दृष्टिगत तवा पुल का मरम्मत कार्य पूर्ण होने तक पुल से सभी प्रकार के वाहनों का आवागमन को पूर्णतः प्रतिबंधित किया गया है।
उक्त प्रतिबंध के दौरान पुलिस अधीक्षक होशंगाबाद द्वारा वाहनों के आवागमन द्वारा गठित समिति के द्वारा प्रस्तावित मार्गों का डायवर्सन किया गया है।
पिपरिया / जबलपुर से भोपाल / इंदौर की ओर जाने वाला ट्रेफिक (भारी वाहन) व्हाया पिपरिया, सांडिया, बरेली होते हुये भोपाल / इंदौर की ओर डायवर्ट किया जाएगा। इसी तरह सोहगपुर / बाबई से भोपाल / इंदौर की ओर जाने वाला ट्राफिक (भारी वाहन) व्हाया बाबई, नसीराबाद, नांदनेर, शाहगंज होते हुये भोपाल/ इंदौर की ओर ,बाबई इटारसी / बैतूल की ओर जाने वाला लोक परिवहन एवं बसें व्हाया बाबई सांगाखेडा, बादाभान, दोखेडा होते हुये इटारसी / बैतूल की ओर , बाबई से होशंगाबाद /भोपाल की ओर जाने वाला लोक परिवहन एवं बसें व्हाया बाबई, सांगाखेड़ा. बांद्राभान होते हुये होशंगाबाद / भोपाल की ओर, इटारसी / बैतूल से बाबई की ओर जाने वाला लोक परिवहन एवं बसें व्हाया इटारसी मंडी, दोखेड़ा, बादाभान सांगाखेड़ा होते हुये बाबई की ओर डायवर्ट किया जाएगा।
होशंगाबाद / भोपाल से बाबई की ओर जाने वाला लोक परिवहन एवं बसे व्हाया बांद्राभान, सागाखेड़ा होते हुये बाबई की ओर बाबई से इटारसी / बैतूल की ओर जाने वाला ट्रेफिक (भारी वाहन) व्हाया बाबई, बक्तरा, शाहगंज, बादाभान, दोखेडा होते हुये इटारसी / बैतूल की ओर , बाबई से होशंगाबाद / भोपाल की ओर जाने वाला ट्रेफिक (भारी वाहन) व्हाया बाबई, बक्तरा,शाहगंज, बांद्राभान होते हुये होशंगाबाद / भोपाल की ओर , इटारसी / बैतूल से बाबई / पिपरिया की ओर जाने वाला ट्रेफिक (भारी वाहन) व्हाया इटारसी मंडी, दोखेड़ा, बांद्राभान, शाहगंज, बक्तरा होते हुये बाबई / पिपरिया की ओर , होशंगाबाद / भोपाल से बाबई/ पिपरिया की ओर जाने वाला ट्रेफिक (भारी वाहन) व्हाया बांद्राभान, शाहगंज, बक्तरा हुये बाबई / पिपरिया की ओर तथा भोपाल से बाबई / पिपरिया / जबलपुर की ओर जाने वाला ट्रेफिक भारीवाहन व्हाया गडरिया नाला, बांदाभान, शाहगंज बक्तरा होते हुये बाबई/ पिपरिया की ओर डायवर्ट किया जाएगा।

भोपाल. कोरोना का असर दशहरे पर भी है. राजधानी भोपाल में कोरोना का संदेश देते हुए दशहरा उत्सव (Dussehra Festival) बड़े धूमधाम के साथ मनाया गया. आयोजन समितियों ने कोरोना (Corona) के प्रति जागरूकता औऱ उसकी अहमियत त्यौहार के जरिए बतायी.भोपाल के टीटी नगर मैदान में श्री राम भगवान ने सांकेतिक कोरोना टीका से रावण दहन किया. इससे यह संदेश दिया गया कि कोरोना को हराने के लिए टीका ही सबसे बड़ा हथियार है. साथ ही रावण को भी मास्क पहनाया गया.

भूले सोशल डिस्टेंस…
हालांकि ये अलग बात है कि दशहरा उत्सव में लोग सोशल डिस्टेंस भूल गए. आयोजन समिति ने जरूर लोगों को मास्क बांटे और हाथों को सेनेटाइज कराया. बार-बार मंच से लोगों से अपील भी की जा रही थी. इस दौरान मैदान में जमकर आतिशबाजी हुई. कार्यक्रम में मंत्री विश्वास सारंग, पूर्व मंत्री पीसी शर्मा मौजूद थे.


नया मैदान मिलेगा
विश्वास सारंग ने कहा 62 साल से यहां दशहरे का आयोजन किया जा रहा है. उन्होंने आश्वासन दिया कि नया दशहरा मैदान तैयार किया जाएगा. इसके लिए समिति के साथ बैठकर चर्चा करेंगे. आगे भव्य आयोजन होगा. पीसी शर्मा ने कहा दशहरा के लिए स्मार्ट सिटी से तीन गुना मैदान समिति को दिलाने की कोशिश की जाएगी. टीटी नगर दशहरा मैदान में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत काम चल रहा है. इसलिए समिति ने मंच से इस मांग को उठाया.

ग्वालियर. कांग्रेस छोड़ भाजपा (BJP) में जाने के बाद से ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) कांग्रेस (Congress) की आलोचना का केंद्र रहे हैं. लेकिन गुरुवार को कांग्रेस विधायक सतीश सिकरवार ने केंद्रीयमंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की शान में जमकर कसीदे पढ़े. जिला अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट के शुभारंभ के मंच पर कांग्रेस विधायक सिकरवार ने सिंधिया को श्रीमंत, महाराज कहते हुए विकास पुरुष बताया. सिकरवार ने कहा महाराज आप ग्वालियर का विकास करेंगे मैं आपके साथ हूं.ज्योतिरादित्य के भाजपा में जाने के बाद से ही कांग्रेस ने उनके खिलाफ मोर्चा खोल रखा है. कांग्रेस सिंधिया को पार्टी से दगा करने वाला, गद्दार जैसे शब्दों को इस्तेमाल कर कोसती रही है. लेकिन गुरुवार को कांग्रेस विधायक सतीश सिकरवार ने सिंधिया की जमकर तारीफ की. जिला अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट के शुभारंभ के मौके पर केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया सहित तमाम BJP नेता मौजूद थे. क्षेत्रीय कांग्रेस विधायक सतीश सिकरवार भी अतिथि के रूप में बुलाए गए थे.
विज्ञापन

भाजपाई हैरान
मंच पर कांग्रेस विधायक सतीश सिकरवार ने उद्बोधन दिया तो, भाजपाई हैरान रह गए. सतीश ने कहा- हमारे लाड़ले महाराज सिंधिया जी. आपके पूर्वजों ने ग्वालियर को बसाया था, उस समय स्वर्णरेखा नदी बहती थी. आज नाला बन गए हैं. महाराज मुझे उम्मीद है आपके सहयोग से ग्वालियर का विकास होगा, महाराज ग्वालियर के विकास के लिए मैं आपके साथ हूं. मेरी इच्छा नहीं कि मेरा नाम शिला पट्टिका में लिखा जाए मेरी इच्छा है कि ग्वालियर का विकास हो.

लंकापति रावण के साथ हमें कोरोना रूपी रावण भी मारना है-डॉ चौधरी

स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर प्रभु राम चौधरी ने की दशहरा मैदान पर अपनी निधि से मंच बनाने की घोषणा

रायसेन। असत्य पर सत्य की विजय का प्रतीक दशहरा महोत्सव का कार्यक्रम जिला मुख्यालय सहित आसपास के गांव गांव में हर्षोल्लास के वातावरण एवं उत्साह के साथ मनाया गया। जिला मुख्यालय स्थित नया दशहरा मैदान पर श्री हिंदू उत्सव समिति के तत्वाधान में दशहरा महोत्सव कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें बतौर मुख्य अतिथि मध्य प्रदेश शासन के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉक्टर प्रभु राम चौधरी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि विजयदशमी का पर्व हमें सत्य का मार्ग दिखाता है हमें हमेशा सत्य पर चलना चाहिए और बुराइयों का त्याग कर अच्छाइयों को ग्रहण करना चाहिए। उन्होंने कहा कि पिछले एक डेढ़ साल से कोरोना महामारी के चलते विजयादशमी का त्योहार नहीं मना पा रहे थे परंतु इस बार भगवान मर्यादा पुरुषोत्तम राम एवं मां दुर्गा जी की कृपा से हम दशहरा पर्व अच्छे से मना रहे हैं उन्होंने आमजन से आह्वान किया कि लंकापति रावण का वध करने के साथ हमें कोरोना रूपी रावण का भी अंत करना है उन्होंने जगत जननी मां जगदंबे से प्रार्थना की की हेमा कोरोना जैसी महामारी से हमारे देश प्रदेश को सुरक्षित रखें ताकि जनमानस अपना अच्छी तरह से जीवन यापन कर सके। मौका दे दे डॉक्टर चौधरी ने आ गए कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि मां जगत जननी दुर्गा जी ने महिषासुर सहित कई राक्षसों का अंत कर दिया था उसी प्रकार से मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम ने अहंकारी लंकापति रावण का वध किया और सत्य का मार्ग दिखाया हम सभी को भगवान श्री राम के बताए गए मार्ग पर चलना चाहिए उन्होंने श्री हिंदू उत्सव समिति के अध्यक्ष सहित सभी पदाधिकारियों की सराहना करते हुए कहा कि सभी ने बेहतर सहयोग करते हुए अच्छा कार्यक्रम किया इसके लिए हिंदू उत्सव समिति के सभी पदाधिकारी बधाई के पात्र हैं। मौका दे दे डॉक्टर चौधरी का स्वागत हिंदू उत्सव समिति के पदाधिकारियों द्वारा किया गया इस अवसर पर हिंदू उत्सव समिति के पूर्व अध्यक्षों का सम्मान भी मुख्य अतिथि द्वारा किया गया इसके अलावा अखाड़ों के कलाकार आतिशबाजी कलाकार और नव दिवसीय नवरात्रि एवं दशहरा पर्व के दौरान सहयोग करने वाले जिला एवं पुलिस प्रशासन के अधिकारी कर्मचारियों का भी सम्मान किया गया। कार्यक्रम में कोरोना काल के दौरान मदद करने वाले समाजसेवियों का भी सम्मान किया गया एवं कोरोना काल में अपनी जान जोखिम में डालकर लोगों की सेवा करने के लिए सीएमएचओ डॉ खत्री सहित अन्य डाक्टरों को पुरस्कृत किया गया वहीं सुरक्षा व्यवस्था के लिए एसडीओपी आदिति भावसार रायसेन कोतवाली के थाना प्रभारी आशीष सप्रे, को पुरस्कृत किया गया। इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि स्वास्थ्य मंत्री डॉ प्रभु राम चौधरी द्वारा श्री हिंदू उत्सव समिति के आग्रह पर नया दशहरा मैदान स्थित नया मंच बनाने के लिए उन्होंने अपनी विधायक निधि से राशि देने की घोषणा की और समिति के पदाधिकारियों से कहा कि आप हमें मंच का प्रस्ताव शीघ्र बना कर दें हम अपनी निधि से मंच निर्माण के लिए राशि प्रदान कर देंगे। उक्त घोषणा के लिए श्री हिंदू उत्सव समिति के समस्त पदाधिकारियों ने स्वास्थ्य मंत्री डॉ चौधरी के प्रति हृदय से आभार व्यक्त किया है। आयोजित कार्यक्रम को विशेष अतिथि जनपत पंचायत सांची के अध्यक्ष एस मुनियन, श्री रामलीला समिति के अध्यक्ष एवं विधायक प्रतिनिधि बृजेश चतुर्वेदी, हिउस अध्यक्ष लीला सोनी ने भी संबोधित किया। स्वागत भाषण समिति के महासचिव संतोष सिंह बघेल ने दिया एवं कार्यक्रम का सफल संचालन
शिक्षक कमलेश बहादुर सिंह द्वारा किया गया। कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए श्री हिंदू उत्सव समिति द्वारा इस बार शहर में सभी दुर्गा उत्सव समितियों के अध्यक्षों को पांडाल स्थलों पर जाकर ही सील देकर सम्मानित किया गया। दशहरा महोत्सव कार्यक्रम के दौरान जय महावीर का मुखौटा दर्शकों के बीच मुख्य आकर्षण का केंद्र रहा वहीं रंगीन आतिशबाजी भी लोगों को आकर्षित करती रही वही श्री राम और रावण के बीच संग्राम हुआ जिसमें मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम ने अहंकारी रावण का वध किया इसी दौरान रावण के पुतले का दहन किया गया।

आईपीएल 2021 फाइनल के दो दिन बाद से ही टी-20 वर्ल्ड कप शुरू होने वाला है। इस टूर्नामेंट के लिए सभी टीमों के पास अंतिम स्क्वॉड में बदलाव करने का आज अंतिम मौका है। टी-20 वर्ल्ड कप में भारत को अपना पहला मुकाबला 24 अक्टूबर को पाकिस्तान के खिलाफ दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में खेलना है। भारतीय टीम अपने मुख्य मुकाबले से पहले दो वॉर्म अप मैच भी खेलेगी। इस बीच, टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर आकाश चोपड़ा ने टी-20 वर्ल्ड कप की शुरुआत से पहले अपनी ग्रेटेस्ट टी-20 वर्ल्ड कप इलेवन का चयन किया है। पूर्व क्रिकेटर ने अपनी इस लिस्ट में भारत के दो कप्तानों को भी शामिल किया है।

आकाश चोपड़ा की ग्रेटेस्ट टी-20 वर्ल्ड कप XI में भारत के दो कप्तान अपनी जगह बनाने में सफल रहे हैं। इनमें मौजूद कप्तान विराट कोहली और पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी भी शामिल है। चोपड़ा ने अपनी ग्रेटेस्ट टी-20 वर्ल्ड कप XI में धोनी को टीम का कप्तान नियुक्त किया है और साथ ही उन्हें विकेटकीपर की भी जिम्मेदारी दी है। चोपड़ा की इस लिस्ट में भारत और ऑस्ट्रेलिया ही दो ऐसी टीमें है, जिनके दो खिलाड़ियों को इसमें जगह दी गई है। कोहली और धोनी के अलावा ऑस्ट्रेलिया के माइकल हसी और पूर्व तेज गेंदबाज मिशेल जॉनसन को इसमें शामिल किया गया है।

धोनी अपनी कप्तानी में भारत को 2007 में टी-20 वर्ल्ड कप जितवा चुके हैं। उनके अलावा वेस्टइंडीज के क्रिस गेल को सलामी बल्लेबाज के रूप में टीम में शामिल किया गया है। इंलैंड के केविन पीटरसन को तीसरे नंबर पर रखा गया है। वहीं, दक्षिण अफ्रीका के एबी डीविलियर्स चौथे नंबर पर हैं। हसी पांचवें और धोनी छठे नंबर पर हैं। पूर्व ऑलराउंडर शाहिद अफरीदी इस टीम में जगह बनाने वाले पाकिस्तान के दूसरे खिलाड़ी हैं। उनके अलावा सईद अजमल को भी इसमें रखा गया है। वेस्टइंडीज के ड्वेन ब्रावो और श्रीलंका के दिग्गज लसिथ मलिंगा भी इस लिस्ट में शामिल हैं। मलिंगा आकाश चोपड़ा की ग्रेटेस्ट टी-20 वर्ल्ड कप XI में एकमात्र श्रीलंकाई खिलाड़ी हैं।

 

भारत को करीब एक महीने तक बिना हेड कोच के ही रहना होगा क्योंकि मौजूदा कोच रवि शास्त्री पहले ही यह साफ कर चुके हैं कि टी-20 वर्ल्ड कप के बाद वह अपना पद छोड़ देंगे। टी-20 विश्व कप फाइनल 14 अक्टूबर को खेला जाना है और इसके ठीक तीन दिन बाद भारत को अपने घर में न्यूजीलैंड के साथ सीरीज खेलनी है। शास्त्री ने अपना कॉन्ट्रैक्ट बढ़ाने से इनकार कर दिया है और ऐसे में बीसीसीआई ने राहुल द्रविड़ से न्यूजीलैंड के खिलाफ होने वाली सीरीज के लिए कोच का पदभार संभालने का अनुरोध किया है।

बीसीसीआई के अधिकारी ने इनसाइडस्पोर्ट से कहा, ' हां, राहुल से कम से कम न्यूजीलैंड सीरीज के लिए इस रोल को स्वीकार करने के लिए संपर्क किया गया है। जब तक कि हम दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ होने वाली सीरीज के लिए कोच नियुक्त नहीं कर लेते हैं, तबतक द्रविड़ से टीम का मार्गदर्शन करने की अपील की गई है। राहुल इस सीरीज के लिए कमान संभालेंगे और इस बीच एक सीएसी नए कोच के लिए प्रक्रिया का पालन करेगी। राहुल का फुलटाइम इस रोल को संभालने की उम्मीद कम ही है क्योंक वह अपने परिवार से दूर रहकर काम नहीं कर पाएंगे।'

इंडियन प्रीमियर लीग 2021 का विजेता कौन होगा इसका पता 15 अक्टूबर को सीएसके और केकेआर के बीच होने वाले फाइनल मुकाबले में चल जाएगा। फाइनल तक दोनों ही टीमें कड़ी मेहनत के बाद पहुंची है और अगर सीएसके जीत जाती है तो वो चौथी बार विजेता बनेगी जबकि केकेआर को जीत मिलती है तो वो तीसरी बार खिताबी जीत हासिल करेगी। चेन्नई सुपर किंग्स अब तक अपने धुरंधर कप्तान महेंद्र सिंह धौनी की अगुआई में तीन बार आइपीएल चैंपियन बनी है तो वहीं कोलकाता को गौतम गंभीर की कप्तानी में ये सफलता मिली थी।

सीएसके तीन बार तो केकेआर दो बार बन चुकी है चैंपियन

सीएसके और केकेआर के बीच अब तक सिर्फ एक खिताबी जीत का फर्क है। एक तरफ जहां चेन्नई की टीम ने तीन बार ये उपलब्धि हासिल की है तो वहीं दूसरी तरफ कोलकाता के नाम पर ये उपलब्धि दो बार दर्ज है। चेन्नई ने अपने कप्तान महेंद्र सिंह धौनी की अगुआई में पहली बार 2010 में आइपीएल खिताब जीता था। इस सीजन में सीएसके ने फाइनल में फाइनल में मुंबई इंडियंस को 22 रन से हराया था। इसके ठीक अगले साल यानी साल 2011 में सीएसके एक बार फिर से फाइनल में आरसीबी को 58 रन से हराकर खिताबी जीत हासिल की थी। फिर सीएसके को साल 2018 में तीसरी बार खिताब जीतने का मौका मिला और इस बार धौनी की टीम ने हैदराबाद को फाइनल में 8 विकेट से हराकर ये कमाल किया था।

कोलकाता की बात करें तो इस टीम ने गौतम गंभीर की कप्तानी में पहली बार साल 2012 में ये कमाल किया था और फाइनल मुकाबले में सीएसके को 5 विकेट से हरा दिया था। वहीं 2014 में एक बार फिर से इस टीम ने चैंपियन बनने का गौरव गौतम गंभीर की कप्तानी में हासिल किया। इस साल केकेआर ने फाइनल में पंजाब किंग्स को तीन विकेट से हराकर ट्राफी अपने नाम की थी।

नई दिल्ली । अक्षय कुमार और कटरीना कैफ़ की फ़िल्म सूर्यवंशी दिवाली के मौक़े पर 5 नवम्बर को सिनमाघरों में रिलीज़ हो रही है और दशहरे पर अक्षय ने अजय देवगन और रणवीर सिंह के साथ फ़िल्म का प्रमोशन शुरू कर दिया है और एक वीडियो जारी किया है, जिसमें सिनेमाघरों के खुलने की ख़ुशी ज़ाहिर की गयी है। महाराष्ट्र में सिनेमाघर बंद होने की वजह से कई बड़ी फ़िल्मों की रिलीज़ डेट घोषित नहीं की गयी थी। मगर, जैसे ही 22 अक्टूबर से सिनेमा हाल खुलने का एलान हुआ, फ़िल्मों की रिलीज़ का एलान होने लगा था। सूर्यवंशी के मेकर्स ने दिवाली की डेट चुनी, जो इस फ़िल्म की स्टार कास्ट और स्केल को देखते हुए सही भी है।

पिछले डेढ़ साल से सिनेमाघरों का कारोबार पूरी तरह पटरी से उतरा हुआ है। इसलिए ऐसी फ़िल्म की सख्त ज़रूरत है, जो दर्शकों को सिनेमाघरों तक खींच सके। वैसे भी, फ़िलहाल 50 फीसदी क्षमता के साथ ही सिनेमाघर खोलने की अनुमति मिली है। इसलिए अच्छे बॉक्स ऑफ़िस कलेक्शन के लिए इस 50 फीसदी का हाउसफुल होना ज़रूरी है। इन सब बातों के मद्देनज़र वीडियो में अक्षय कुमार, अजय देवगन और रणवीर सिंह सिनेमाघरों में आने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करते नज़र आ रहे हैं।

वीडियो मल्टीप्लेक्स में शूट किया गया है। खाली कुर्सियों के बीच तीनों कलाकार बारी-बारी से कहते हैं- दोस्तों, यह जगह याद है आपको। इन चार दीवारों ने आपके कई रंग देखे हैं। आपका हंसना, रोना, प्यार, आपका गुस्सा, इन्हें वो सब याद है, लेकिन कभी किसी ने नहीं सोचा था, हमारी फ़िल्मों की तरह एक दिन हमारी ज़िंदगी में भी इंटरवल आ जाएगा। मगर वो कहते हैं ना कि हर काली रात के बाद सवेरा ज़रूर होता है। सो वी आर बैक। बहुत हो गया यह खालीपन और बहुत हो गयी यह ख़ामोशी। अब एक बार फिर तालियों की गूंज से जी उठेगा यह सिनेमाघर और मचेगा बड़े पर्दे पर तहलका, क्योंकि इस दिवाली आ रही है पुलिस।

बता दें, सूर्यवंशी में अक्षय कुमार एटीएस चीफ के किरदार में नज़र आएंगे। अजय, सिंघम बनकर और रणवीर सिम्बा के अंदाज़ में फ़िल्म में कैमियो कर रहे हैं। रोहित शेट्टी ने इस फ़िल्म का क्लू अपनी पिछली फ़िल्म सिम्बा में छोड़ा था, जिसके क्लाइमैक्स में अजय देवगन, रणवीर की मदद करने पहुंचते हैं और इसके बाद उनके नम्बर पर वीर सूर्यवंशी का फोन आता है, जिसे सूर्यवंशी में अक्षय निभा रहे हैं।

 

Page 7 of 2931

फेसबुक